राष्ट्रीय

Kanpur Crime News : दबंगों के घर दारू-मुर्गा पार्टी करने पहुँचे दरोगा ने अपने ही सामने करवा दिया बुजुर्ग का मर्डर, गांव में भारी तनाव

Janjwar Desk
26 Oct 2021 11:43 AM GMT
kanpur news
x

(कानपुर के चौबेपुर में पुलिस के सामने हत्या file photo)

वारदात के दौरान सबसे बड़ी बात यह रही कि, इस पूरे विवाद के वक्त चौबेपुर थाने के दरोगा और पुलिसकर्मी दबंग परिवार के घर पर मौजूद थे। वह यहां दारू-मुर्गा पार्टी करने पहुँचे थे...

Kanpur Crime News (जनज्वार) : कानपुर स्थित चौबेपुर में सोमवार देर रात पुलिस के सामने ही एक परिवार पर गांव के दूसरे परिवार ने हमला कर दिया। धारदार हथियारों से दरवाजा तोड़कर घर में घुसे दबंगों ने बुजुर्ग दंपति समेत परिवार के अन्य सदस्यों को दौड़ा-दौड़ा कर लाठी-डंडों व चापड़ से जमकर पीटा। इस पिटाई से बुजुर्ग की मौत हो गई, जबकि परिवार के 6 लोग गंभीर रूप ये जख्मी हो गए।

वारदात के दौरान सबसे बड़ी बात यह रही कि, इस पूरे विवाद के वक्त चौबेपुर थाने के दरोगा और पुलिसकर्मी दबंग परिवार के घर पर मौजूद थे। वह यहां दारू-मुर्गा पार्टी करने पहुँचे थे। जाहिर है उन्हीं की शह पाकर दबंगों ने वारदात को अंजाम दिया। गांव में तनाव के चलते फोर्स तैनात कर दी गई है।

दबंग के घर दारू-मुर्गा पार्टी करने गये थे दरोगा

चौबेपुर के पनऊपुरवा गांव के 58 वर्षीय आनंद कुमार कुरील और उनके पड़ोसी कृष्ण त्रिवेदी के परिवार आपसी रंजिश थी। पीड़ित परिवार का आरोप है कि सोमवार रात को कृष्ण त्रिवेदी के यहां हल्का इंचार्ज दरोगा गोपी कृष्ण अग्रवाल और अंडर ट्रेनी दरोगा रोशन शेर बहादुर यादव दारू और मुर्गा पार्टी करने पहुंचे थे। इसी दौरान कृष्ण त्रिवेदी और उनके परिवार के राजन त्रिवेदी गोविंद, गोविंद त्रिवेदी, शोभित त्रिवेदी और सुधीर त्रिवेदी आनंद के घर के सामने गाली-गलौज करने लगे।

आनंद ने विरोध किया तो इन सभी ने घर पर धावा बोल दिया। जो भी सामने मिला उसे लाठी-डंडे से मारकर गिरा दिया और पथराव किया। पूरे घर की गृहस्थी तहस-नहस कर दी। चापड़ के हमले में घायल आनंद की मौत हो गई, जबकि उनके भाई जगन्नाथ, पत्नी आशा देवी और बहू संदीपा समेत परिवार के छह लोग घाय…

हत्या के बाद गांव में बढ़ा तनाव

आनंद की हत्या के बाद गांव में तनाव का माहौल है। दोनों पक्षों के सैकड़ों लोग घर के बाहर आ गए और माहौल बिगड़ गया। उधर, भीम आर्मी के भी लोग पीड़ित परिवार के घर पहुंचे हैं। तनाव को देखते हुए गांव में भारी फोर्स तैनात कर दी गई है। थाना प्रभारी समेत सीओ और एसपी आउटर अष्टभुजा प्रसाद मौके पर हैं।

उल्टा पीड़ित परिवार को ही ले गई पुलिस

एसपी आउटर और सीओ समेत अन्य अफसर सुबह जांच करने पहुंचे। पीड़ित परिवार और गांव के लोगों ने बताया कि थाने के दरोगा शेर बहादुर और गोपी के सामने पूरी घटना हुई। पुलिस आरोपियों पर कार्रवाई करने की बजाए मृतक के भाई समेत परिवार के अन्य लोगों को उठा ले गई और जमकर पीटा। पीड़ित परिवार ने आरोपियों के साथ दोनों दरोगा पर भी एफआईआर दर्ज करने की मांग की है।

पीड़ितों पर पुलिस डाल रही समझौते का प्रेशर

मृतक के बेटे रवि शंकर ने बताया कि 26 जून को मारपीट करने पर चौबेपुर थाने में श्री कृष्ण समेत अन्य लोगों के खिलाफ मारपीट, जान से मारने की धमकी देने और एससी एसटी एक्ट समेत अन्य गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस इसके बाद से लगातार कार्रवाई करने की बजाए मामले में समझौते का दबाव बना रही थी। पुलिस ने धमकी दी थी कि समझौता नहीं किया तो किसी झूठे मुकदमें में जेल भेज दिए जाओगे। इसी के चलते आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए और मामला हत्याकांड तक पहुंच गया।

पहले दबंग अब पुलिस की दहशत से छोड़ा गांव

मृतक आनंद के दो बेटे रवि शंकर और अमित कुमार हैं। रवि ने बताया कि चार महीने पहले एफआईआर दर्ज कराई तो दबंगों के साथ ही पुलिस समझौते का दबाव बना रही थी। आरोपी आए दिन बेवजह मारपीट और गाली-गलौज करते थे। दहशत के चलते दोनों भाइयों ने गांव छोड़ दिया था। कल्याणपुर में किराए का कमरा लेकर रहने के साथ ही रिश्तेदारों के यहां शरण ली थी। हत्याकांड के बाद से दोनों भाई और पूरा परिवार दहशत में हैं।

IG ने दिया जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल ने बताया कि हत्याकांड में पुलिस की संलिप्तता का आरोप है। आरोपी दरोगाओं के खिलाफ एसपी आउटर अष्टभुजा को जांच दी गई है। जांच रिपोर्ट में अगर दरोगा दोषी पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पूरे मामले का संज्ञान लेकर जांच बैठा दी गई है। पुलिस अफसर हों या आरोपी किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा।

Next Story