कश्मीर

कश्मीर में फैले आतंकवाद का सबसे भयावह चेहरा, दादा के मृत शरीर पर बैठा मासूम

Janjwar Desk
1 July 2020 5:25 AM GMT
कश्मीर में फैले आतंकवाद का सबसे भयावह चेहरा, दादा के मृत शरीर पर बैठा मासूम
x
इससे ज्यादा कारुणिक क्या हो सकता है, आतंकी हमले में दादा को गोली लगने के बाद उसके शरीर पर बैठा 3 वर्षीय पोता
जम्मू कश्मीर में एक सप्ताह के अंदर दूसरी बार सीआरपीएफ पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकवादियों ने हमला किया है। आज हुए हमले में दो जानें चली गई हैं...

जनज्वार। जम्मू कश्मीर के सोपोर में आतंकवादियों ने बुधवार 1 जुलाई की सुबह एक सीआरपीएफ पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला किया, जिसमें एक सीआरपीएफ जवान व एक आम नागरिक की मौत हो गई। आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में घायल हुए दो जवानों की हालत गंभीर बनी हुई है, वहीं एक जवान को मामूली चोटें आई हैं।

जम्मू कश्मीर पुलिस ने अपने ट्विटर एकाउंट पर इस घटना का एक फोटो पोस्ट करते हुए बताया है कि सोपोर में आतंकवादी हमले के दौरान पुलिस ने एक तीन साल के बच्चे को गोली लगने से बचाया। मालूम हो कि पिछले सप्ताह एक सीआरपीएफ पार्टी पर हमले में एक जवान सहित एक पांच साल के बच्चे की मौत हो गई थी।

कश्मीर में जिस व्यक्ति के पेट पर 3 साल का बच्चा बैठा हुआ है उनकी उम्र 60 साल थी। उनकी लाश जमीन पर शव पड़ा हुई थी और कपड़े खून से सने थे और वहीं मृत शख्स का 3 साल का पोता भी मौजूद था। 3 साल का बच्चा दादा की लाश पर ऐसे बैठा था जैसे उनके पेट पर खेलता होगा। बच्चे के दादा का शरीर गोलियों से छलनी था और उनके कपड़े खून से सने थे। उनकी सांसें थम चुकी थीं, जो बच्चे के साथ खेलने के लिए कभी नहीं लौटने वाली थीं।

जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा है कि सोपोर के मॉडल टाउन में आतंकवादियों ने एक नाका पार्टी पर हमला किया है...इलाके की घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

इससे पहले अनंतनाग में हुआ था हमला

सोपोर से पहले अनंतनाग में पिछले सप्ताह 26 जून को आतंकवादियों ने हाइवे सुरक्षा पर तैनात सीआरपीएफ पार्टी पर हमला किया था। इस हमले में एक सीआरपीएफ जवान व एक पांच साल के बच्चे की मौत हो गई थी। हालांकि 29-30 जून को सुरक्षा बलों व पुलिस ने कार्रवाई करते हुए इस घटना में शामिल दो आतंकवादियों को मार गिराया था।

घायल जवानों में दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। आतंकियों द्वारा किए गए फायरिंग की चपेट में आने से एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हो गई है। मारे गए व्यक्ति के साथ उसका 3 वर्षीय पुत्र भी था। पिता को गोली लगने के बाद वह वहीं उसके शरीर के ऊपर बैठकर रोने लगा। यह बड़ा ही कारुणिक दृश्य था। सुरक्षा बलों ने बच्चे को गोली लगने से बचा लिया है।

उत्तर कश्मीर के सोपोर के मॉडल टाउन में आतंकी हमले के बाद सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर ली है और सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

सीआरपीएफ में डायरेक्टर जेनरल दिलबाग सिंह ने कहा 'हमने एक सीआरपीएफ जवान और एक नागरिक को खो दिया है। घायल सीआरपीएफ जवानों का 92 बेस हॉस्पिटल में इलाज कराया जा रहा है।'

सूत्रों के अनुसार, शहीद हुए जवान की पहचान दीपचंद वर्मा के रूप में की गई है।सुरक्षा बलों पर हमले की पिछले छह दिनों में यह दूसरी घटना है। गत 26 जून को अनन्तनाग के बिजबेहड़ा में सीआरपीएफ दस्ते पर हमला हुआ था। जिसमें एक जवान शहीद हो गया था और 5 वर्ष के एक स्थानीय बच्चे की भी मौत हो गई थी।

मंगलवार 30 जून को सीआरपीएफ के डायरेक्टर जेनरल ने बताया था कि इस साल अबतक 128 आतंकी मारे जा चुके हैं। इनमें 70 आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन के, 20 आतंकी लश्कर-ए- तैयबा तथा 20 आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के हैं। उन्होंने यह भी बताया था कि पाकिस्तान में आतंकियों के लॉंचपैड सक्रिय हैं।

Next Story

विविध