कश्मीर

Jammu-Kashmir : मुस्लिम धर्मगुरु आदिल गफूर गनई गिरफ्तार, नुपुर शर्मा का सिर कलम करने का किया था आह्वान

Janjwar Desk
12 Jun 2022 4:50 AM GMT
Dehradun News : फर्जी निकला अमित शाह के नाम से नुपुर शर्मा को सिक्योरिटी देने को लिखा पत्र, देहरादून में हुआ मुकदमा दर्ज
x

Dehradun News : फर्जी निकला अमित शाह के नाम से नुपुर शर्मा को सिक्योरिटी देने को लिखा पत्र, देहरादून में हुआ मुकदमा दर्ज

Jammu-Kashmir : मुस्लिम धर्मगुरु आदिल गफूर गनई गिरफ्तार।

Jammu-Kashmir : जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मुस्लिम धर्मगुरु आदिल गफूर गनई ( Muslim Cleric Adil Ghafoor Ganai ) गिरफ्तार को गिरफ्तार कर लिया है। कुछ दिनों पहले उन्होंने भाजपा नेता नुपूर शर्मा ( Nupur sharma ) को लेकर विवादित बयान दिया था।

इससे पहले जम्मू-कश्मीर ( jammu-Kashmir ) पुलिस ने नुपुर शर्मा मामाले में 11 जून को यूट्यूबर फैजल वानी को गिरफ्तार किया था। फैजल वानी पर नूपुर शर्मा का सिर कलम करने का भड़काऊ वीडियो बनाने का आरोप है। विवाद बढ़ने पर फैजल ने वीडियो को लेकर माफी मांग ली थी। फैजल वानी यूट्यूब पर जडीप पेन फिटनेस नाम से एक फिटनेस चैनल चलाता है।

भद्रवाह में लोगों से किया था इस बात का आह्वान




जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गुरुवार को डोडा जिले में एक स्थानीय मुस्लिम मौलवी के खिलाफ भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा ( Nupur Sharma ) के खिलाफ हेट स्पीच ( Hate Speech ) देने के लिए मामला गुरुवार यानि नौ जून को केस ( FIR ) दर्ज किया था। मुस्लिम मौलवी ने एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ अपनी टिप्पणी पर नूपुर शर्मा का सिर कलम करने का आह्वान किया था।

घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ था। वीडियो में आदिल गफूर गनई ( Adil Ghafoor Ganai ) को भद्रवाह कस्बे की एक मस्जिद से बोलते और अपने नीचे मौजूद भीड़ को संबोधित करते देखा जा सकता है। कश्मीर पुलिस के मुताबिक उसने कथित तौर पर हिंदुओं को "गोमूत्र पीने वाला" और "गोबर खाने वाला" भी कहा। गनई के खिलााफ भद्रवाह थाने में प्राथमिकी दर्ज हुई थी। पुलिस ने यह भी कहा कि कानून अपने हाथ में लेने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

बता दें कि हाल ही में चल रहे ज्ञानवापी विवाद पर एक टीवी डिबेट में नुपुर शर्मा ( Nupur Sharma ) ने कहा है कि इस्लामिक धार्मिक किताबों में कुछ चीजों का लोग मजाक उड़ा सकते हैं। मुसलमान हिंदू आस्था का मजाक उड़ा रहे हैं। मुसलमानों ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर मिले शिवलिंग को फव्वारा बता रहे हैं।



(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध