कश्मीर

Jammu-Kashmir : यूएपीए कानून वह बन गया जो उसका कभी मकसद नहीं था : HC

Janjwar Desk
26 May 2022 3:55 AM GMT
Jammu-Kashmir : यूएपीए कानून वह बन गया जो उसका कभी मकसद नहीं था : HC
x

Jammu-Kashmir : यूएपीए कानून वह बन गया जो उसका कभी मकसद नहीं था : HC

Jammu-Kashmir : जेके हाईकोर्ट ने कहा कि यूएपीए की धारा 43डी एक प्रावधान का प्रतीक है, जिसे कुछ लोग व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर हमले के रूप में देख सकते हैं। इस तथ्य से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि निजी स्वतंत्रता को जनहित के विचारों के प्रति संतुलित किया जाना जरूरी है।

jammu-Kashmir : जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट ( Jammu-Kashmir High Court ) ने 25 मई को गैर कानूनी गतिविधि निवारक अधिनियम ( UAPA ) पर टिप्पणी करते हुए कहा कि यूएपीए गैर कानूनी गतिविधियों को रोकने वाला कानून था। इसके उलट बाध्यकारी परिस्थितियों की वजह से यह वह बन गया जो उसका कभी मकसद नहीं था। जस्टिस संजीव कुमार और ​जस्टिस वीसी कौल की खंडपीठ ने पीडीपी के युवा नेता वहीद पारा को आतंकवाद से संबंधित एक मामले में जमानत देते हुए ये बात कही।

UAPA ने कानूनी ढांचे को अपने दायरे में लिया

जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट ( Jammu-Kashmir High Court ) की जस्टिस संजीव कुमार और ​जस्टिस वीसी कौल की खंडपीठ ने कहा कि कानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम ( UAPA ) जैसा कि इसके नाम से साफ है, शुरू में एक निवारक कानून के रूप में सोचा गया था। इसने गैर कानूनी गतिविधियों को रोकने के लिए कमोबेश प्रावधान किए गए थे। हालांकि, बाध्यकारी परिस्थितियों के कारण यूएपीए ( UAPA ) वह बन गया जिसके बारे में कभी विचार नहीं किया था। पीठ ने कहा कि यूएपीए ( UAPA ) ने अब आतंकवादी गतिविधियों और उससे जुड़े मामलों से निपटने के लिए मजबूत कानूनी ढांचे को अपने दायरे में ले लिया है।

व्यक्तिगत स्वतंत्रता और जनहित के बीच संतुलन जरूरी

पीठ ने कहा कि यूएपीए ( UAPA ) के तहत अपराधों कोकरने पर जमानत देना या खारिज करना अदालत की शक्ति है। इसे यूएपीए की धारा 43-डी 5 द्वारा बचाव के लिए सीआरपीसी में तय अच्छी तरह से स्थापित कानूनी मानकों पर प्रयोग करने की जरूरत है। अदालत ( Jammu-Kashmir High Court ) ने कहा कि यूएपीए की धारा 43डी एक प्रावधान का प्रतीक है, जिसे कुछ लोग व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर हमले के रूप में देख सकते हैं। हालांकि, इस तथ्य से इनकार नहीं किया जा सकता है कि व्यक्तिगत स्वतंत्रता को जनहित के विचारों के प्रति संतुलित किया जाना है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध