Top
कश्मीर

क्या आतंकवादी अपना बेस दक्षिण से उत्तरी कश्मीर ट्रांसफर कर रहे हैं?

Janjwar Desk
18 Aug 2020 6:29 AM GMT
क्या आतंकवादी अपना बेस दक्षिण से उत्तरी कश्मीर ट्रांसफर कर रहे हैं?
x
डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि वो एक सुरक्षाकर्मी को नहीं मारकर भाग नहीं सकते हैं, हम उन्हें पकडेंगे और उन लोगों को निष्प्रभावित कर देंगे, जिन्होंने नौगाम हमले को अंजाम दिया, किसी भी आतंकवादी का ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है, जो पिछले 30 वर्षों की हिंसा के दौरान एक सुरक्षाकर्मी को शहीद करके लंबे समय तक जीवित रहा हो.....

श्रीनगर। श्रीनगर और बारामूला के मध्य और उत्तरी कश्मीर के जिलों में 14 अगस्त और 17 अगस्त को हुए दो घातक आतंकवादी हमलों में पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए, जिससे यह संकेत मिलता है कि आतंकवादी अब दक्षिणी इलाकों को छोड़कर अपने लिए अन्य सुरक्षित ठिकाने तलाश रहे हैं। बारामूला के क्रेरी और श्रीनगर के नौगाम इलाके में यह हमले दिनदहाड़े हुए। वहीं वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सुरक्षा में कोई चूक नहीं हुई है।

सुरक्षा बलों ने सोमवार को तेजी से कार्रवाई करते हुए बारामूला जिले के क्रेरी क्षेत्र में हमले को अंजाम देने वाले दो आतंकवादियों को मार गिराया। हालांकि इस हमले में सीआरपीएफ के दो जवान और स्थानीय पुलिस के एक एसपीओ शहीद हो गए।

वहीं डीजीपी दिलबाग सिंह और आईजीपी (कश्मीर) विजय कुमार समेत वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने नौगाम (श्रीनगर) हमले को अंजाम देने के लिए जिम्मेदार लोगों पर शिकंजा कसने का आश्वासन दिया है।

उन्होंने कहा, 'वो एक सुरक्षाकर्मी को नहीं मारकर भाग नहीं सकते हैं। हम उन्हें पकडेंगे और उन लोगों को निष्प्रभावित कर देंगे, जिन्होंने नौगाम हमले को अंजाम दिया। किसी भी आतंकवादी का ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है, जो पिछले 30 वर्षों की हिंसा के दौरान एक सुरक्षाकर्मी को शहीद करके लंबे समय तक जीवित रहा हो।'

उन्होंने कहा, 'इस बात में कुछ संदेह है कि आतंकवादी अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और शोपियां के दक्षिणी कश्मीर जिलों को अपने संचालन के लिए तलाश रहे हैं। इन जिलों में जनता के मूड में एक परिवर्तन है, जहां माता-पिता अपने बेटों के आतंकवादी समूहों में शामिल होने के बारे में चिंतित हो रहे हैं।'

अधिकारियों ने कहा, 'आतंकवादी स्पष्ट रूप से अपनी गतिविधियों को दो मुख्य उद्देश्यों के साथ मध्य और उत्तरी कश्मीर के जिलों में स्थानांतरित कर रहे हैं। एक तो उनका विश्वास है कि दक्षिण कश्मीर के इलाकों से सुरक्षा बलों को स्थानांतरित करने से उनके भूमिगत कार्यकर्ताओं और हमदर्दो पर दबाव कम होगा। दूसरा यह कि आतंकवादियों को लगता है कि श्रीनगर जैसे घनी आबादी वाले इलाके और बारामूला के दूरदराज के इलाकों के साथ ही अन्य उत्तरी कश्मीर जिले उन्हें अधिक गतिशीलता (मोबिलिटी) देंगे।'

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'एक सुरक्षाकर्मी का नुकसान दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन यह केवल उन्हें मिटाने के हमारे संकल्प को मजबूत करता है।'

Next Story

विविध

Share it