राष्ट्रीय

Leh-Ladakh News : लेह-लद्दाख जाने से पहले पढ़ लें ये खबर, क्योंकि दो महीने में हो चुकी है 11 यात्रियों की मौत

Janjwar Desk
17 Jun 2022 11:00 AM GMT
Leh-Ladakh News : लेह लद्दाख जाने से पहले पढ़ लें ये खबर, क्योंकि दो महीने में हो चुकी है 11 यात्रियों की मौत
x

Leh-Ladakh News : लेह लद्दाख जाने से पहले पढ़ लें ये खबर, क्योंकि दो महीने में हो चुकी है 11 यात्रियों की मौत

Leh-Ladakh News : इस साल ऊंचाई से संबंधित जटिलताओं के कारण हताहतों की बढ़ती संख्या ने लद्दाख प्रशासन को हाल ही में पर्यटकों के लिए कई बंदिशों के साथ नई मार्गदर्शिका बनाने के लिए मजबूर कर दिया है...

Leh-Ladakh News : लद्दाख में अधिकारियों ने अब किसी भी तीव्र पर्वतीय बीमारी (एएमएस) को रोकने के लिए 48 घंटे का अनुकूलन अनिवार्य कर दिया है, जो लेह (Leh-Ladakh News) में आने वाले पर्यटकों पर लागू होगा।

इस साल ऊंचाई से संबंधित जटिलताओं के कारण हताहतों की बढ़ती संख्या ने लद्दाख प्रशासन (Leh-Ladakh News) को हाल ही में पर्यटकों के लिए कई बंदिशों के साथ नई मार्गदर्शिका बनाने के लिए मजबूर कर दिया है।

लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद (एलएएचडीसी) के अधिकारियों का कहना है कि पर्यटन सीजन के दो महीने से भी कम समय के भीतर, लेह के ऊंचे स्थानों में 11 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें समुद्र तल से 4,225 मीटर ऊपर पैंगोंग त्सो झील, चांगला (5,360 मीटर) और खारदुंग ला (5,359 मीटर) शामिल हैं।

एलएएचडीसी के मुख्य कार्यकारी पार्षद ताशी ग्यालसन ने बताया, "ऊंचाई से संबंधित जटिलताओं के कारण 11 मौतें दो महीने के भीतर हुईं। इनमें से चार जून के पहले दस दिनों में ही रिपोर्ट किए गए थे।"

आंकड़ों से पता चलता है कि 10 जून तक लेह क्षेत्र (Leh-Ladakh News) में पर्यटकों के बीच हताहतों की संख्या तीन वर्षों में सबसे अधिक थी क्योंकि 15 मौतें हुई थीं, जिनमें से 11 की मौत ऊंचाई की बीमारी के कारण हुई थी। वर्ष 2021 और 2020 की संख्या क्रमश: छह और एक थी।

विशेषज्ञों का कहना है कि हवाई यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है, जिन्हें अभ्यस्त होने के लिए कम समय मिलता है। 2021 में 3.14 लाख पर्यटकों में से 2.14 लाख से अधिक हवाई मार्ग से पहुंचे थे। इस साल के मार्च तक के आंकड़ों से पता चलता है कि 97% पर्यटक हवाई मार्ग से आते हैं।

स्थानीय लोगों का कहना है कि कोविड -19 प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के बाद से पर्यटकों की आमद में तेजी आई है, जिसे वे 'बदला पर्यटन' कहते हैं। अधिकारियों का कहना है कि "पर्यटक जिस दिन लेह (Leh-Ladakh News) में उतरते हैं उसी दिन या अगले दिन वे ऊंचाई वाले क्षेत्रों का दौरा करना शुरू कर देते हैं। वे इस धारणा में हैं कि वे फिट हैं और कुछ नहीं होगा।

Next Story