राष्ट्रीय

Madhya Pradesh Crime News : दुष्कर्म के आरोपी महंत को मंत्री के कहने पर मिला था कमरा, नाम सामने आते ही जांच में ढिलाई

Janjwar Desk
9 April 2022 10:38 AM GMT
Madhya Pradesh Crime News :  दुष्कर्म के आरोपी महंत को मंत्री के कहने पर मिला था कमरा, नाम सामने आते ही जांच में ढिलाई
x

दुष्कर्म के आरोपी महंत को मंत्री के कहने पर मिला था कमरा

Madhya Pradesh Crime News : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रीवा (Reeva) में नाबालिग से रेप के आरोपी महंत के खिलाफ जांच सर्किट हॉउस के कमरा नंबर 4 पर आकर ठहर गई है, यह कमरा आरोपी सीताराम दास को एक मंत्री के कहने पर दिया गया था...

Madhya Pradesh Crime News : मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रीवा (Reeva) में नाबालिग से रेप के आरोपी महंत के खिलाफ जांच सर्किट हॉउस के कमरा नंबर 4 पर आकर ठहर गई है। यह कमरा आरोपी सीताराम दास को एक मंत्री के कहने पर दिया गया था। जांच के दौरान मंत्री की भूमिका पता चली तो अफसरों के हाथ- पांव फूल गए। अब उन्होंने जांच बीच में रोक दी है। अब ये अफसर मंत्री को बचाने में जुट गए हैं, जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुले मंच से कहा था कि कमरा दिलवाने वाले को भी नहीं छोड़ेंगे। हालांकि तब तक यह नहीं पता चला था कि कमरा किसने बुक कराया था। अब भोपाल से ही इस पर फैसला होगा कि क्या करना है।

हिस्ट्रीशीटर विनोद पांडेय ने रखा था सर्किट हॉउस पर कब्जा

दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार कमरा अलॉट करने वाले एसडीएम (SDM) का कहना है कि हिस्ट्रीशीटर विनोद पाण्डेय और उसके गुर्गों ने सर्किट हॉउस पर कब्जा रखा था। दैनिक भास्कर ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि उसके पास सर्किट हॉउस के एंट्री रजिस्टर का वह सबूत है, जिसमें लिखा है कि 4 नंबर कमरा SDM अनुराग तिवारी ने विनोद पांडेय को अलॉट किया है। यानी साफ है कि अफसर अब इस मामले को दबाने में जुट गए हैं। सर्किट हाउस बुक कराने में जिस मंत्री का नाम सामने आ रहा है, वह दो साल पहले ही कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे।

कलेक्टर मनोज पुष्प का बयान

कलेक्टर मनोज पुष्प का कहना है कि 'मंत्री जी के कहने पर कमरा बुक हुआ था या किसी और के कहने पर, ये अभी जांच का विषय है। एक- दो दिनों में साफ हो जाएगा।'

वहीं एसपी नवनीत भसीन ने कहा है कि 'एसडीएम को पत्र लिखकर जानकारी मांगी है कि किसके कहने पर कमरा बुक हुआ था। वे लिखित में जो जवाब देंगे, उसी के आधार पर आगे की कार्रवाई होगी।

वहीं एसडीएम अनुराग तिवारी ने कहा है कि 'सर्किट हाउस का कमरा नंबर 4 मैंने आवंटित नहीं किया था। विनोद पांडेय और उसके गुर्गे वहां जबरन कब्जा किए हुए थे।'

SDM के दावे को झूठा बताते सबूत

बता दें कि जिस कमरे में सतना की नाबालिग के साथ महंत सीताराम दास उर्फ समर्थ त्रिपाठी ने दुष्कर्म किया, वह कमरा हिस्ट्रीशीटर विनोद पाण्डेय के नाम पर अलॉट हुआ था। भास्कर ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि मौजूद सर्किट हाउस की बुकिंग के रिकॉर्ड में लिखा है कि कमरा SDM अनुराग तिवारी द्वारा विनोद पाण्डेय को आवंटित किया गया है।


सरकार के मंत्री रेप के आरोपी महंत से लेने आते थे आशीर्वाद

बता दें कि 28 मार्च को रीवा के सर्किट हॉउस (राजनिवास) के कमरा नंबर 4 में सतना की नाबालिग के साथ महंत सीताराम दास उर्फ समर्थ त्रिपाठी ने दुष्कर्म किया था। पहले किशोरी को जबरन शराब पिलाई, फिर उसके साथ हैवानियत की। किशोरी को हिस्ट्रीशीटर विनोद पाण्डेय ने सर्किट हाउस में बुलवाया था। महंत से सरकार के कई मंत्री आशीर्वाद लेने आते थे जिसके सबूत फोटो के तौर पर यहां दिए जा रहे हैं।

कमरा देने की जिम्मेदारी सत्कार अफसर की

घटना के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा, आनन-फानन में महंत, हिस्ट्रीशीटर सहित 6 आरोपियों को रीवा पुलिस ने गिरफ्तार किया। सर्किट हाउस में कमरा अलॉट करने की जिम्मेदारी जिले के सत्कार अधिकारी की होती है। यह जिम्मेदारी एसडीएम अनुराग तिवारी के पास है।

Next Story

विविध