राष्ट्रीय

सिविल इंजीनियर ने कटर से बेटे-बेटी का गला काट पत्नी समेत पिया जहर, बेरोजगारी और आर्थिक तंगी से जूझ रहा था परिवार

Janjwar Desk
28 Aug 2021 8:04 AM GMT
सिविल इंजीनियर ने कटर से बेटे-बेटी का गला काट पत्नी समेत पिया जहर, बेरोजगारी और आर्थिक तंगी से जूझ रहा था परिवार
x

बेटे-बेटी का गला काटकर मां-बाप ने पिया जहर (photo-social media)

जैसे ही घटना की जानकारी आसपड़ोस में रहने वालों को हुई तो उन्होंने मिसरोद थाना पुलिस को इसकी सूचना दी, घटना की जानकारी मिलते ही एसपी, एडिशनल एसपी सहित थाना पुलिस बल मौके पर पहुंच गया.....

जनज्वार। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां शनिवार सुबह आर्थिक तंगी और बेरोजगारी से जूझ रहे एक परिवार के 4 लोगों ने खुदकुशी का प्रयास कर लिया। इनमें से 2 लोगों की मौत हो चुकी है तथा 2 लोग गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती किए गए हैं।

जानकारी के मुताबिक, भोपाल के मिसरोद थाना क्षेत्र में रहने वाले एक सिविल इंजीनियर ने पत्नी के साथ जहर (Poison) पी लिया इसके साथ ही बेटे और बेटी का टाइल्स कटर से गला काट दिया। घटना में इंजीनियर और बेटे की मौत हो गई है। वहीं बेटी और पत्नी को हमीदिया अस्पताल रैफर किया गया है।

पुलिस के अनुसार 55 वर्षीय रवि ठाकरे पुत्र लक्ष्मण राव ठाकरे परिवार के साथ सहारा एस्टेट में रहते थे। परिवार में 50 वर्षीय पत्नी रंजना ठाकरे तथा 16 साल का बेटा चिराग ठाकरे और 14 साल की बेटी गुंजन ठाकरे है। रवि ठाकरे और उनकी पत्नी रंजना ने जहर खाकर खुदकुशी का प्रयास किया तो वहीं बेटी और बेटे का टाइल्स काटने वाले कटर से गला काटा गया है।

PM के लिए भेजे गये मृतकों के शव

घटना में रवि ठाकरे और चिराग ठाकरे की मौत हो चुकी है वहीं रंजना ठाकरे और गुंजन ठाकरे का अस्पताल में इलाज जारी है। जैसे ही घटना की जानकारी आसपड़ोस में रहने वालों को हुई तो उन्होंने मिसरोद थाना पुलिस को इसकी सूचना दी। घटना की जानकारी मिलते ही एसपी, एडिशनल एसपी सहित थाना पुलिस बल मौके पर पहुंच गया।

थाना प्रभारी मिसरोद निरंजन शर्मा ने बताया कि मृतक सिविल इंजीनियर की पत्नी रंजना ने बताया कि वह लोग आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे। वहीं मृतक के पड़ोसियों ने भी बताया कि वह लोग आर्थिक तंगी से परेशान थे और डिप्रेशन में थे जिसके चलते यह कदम उठाया।

एसपी साउथ भोपाल साईं कृष्णा ने बताया कि परिवार आर्थिक तंगी से गुज़र रहा था नौकरी नहीं थी, पैसे नहीं थे बच्चों के स्कूल के पैसे भरने के नहीं थे। उनके ऊपर लोन था जिसको भर नहीं पा रहे थे। कहीं ना कहीं सुसाइड की एक बड़ी वजह यह भी हो सकती है, तफ्तीश जारी है।

Next Story

विविध

Share it