मध्य प्रदेश

Conversion of religion : एमपी में धर्म परिवर्तन चरम पर, 15 दिन में सैकड़ों लोग ईसाई और मुस्लिम से बने 'Hindu'

Janjwar Desk
11 Jun 2022 8:28 AM GMT
Conversion of religion : एमपी में धर्म परिवर्तन चरम पर, 15 दिन में सैकड़ों लोग ईसाई और मुस्लिम से बने हिंदू
x

Conversion of religion : एमपी में धर्म परिवर्तन चरम पर, 15 दिन में सैकड़ों लोग ईसाई और मुस्लिम से बने हिंदू

Conversion of religion : इसाई और मुसलमान से हिंदू बने लोगों ने कहा कि बीते वर्षो में किसी कारण से हिंदू धर्म छोड़ दिया था। दशकों बाद घर वापसी कर सुखद अनुभूति का अहसास हो रहा है।

Conversion of religion : पिछले कुछ समय से मध्य प्रदेश में धर्म परिवर्तन ( Conversion of religion in MP ) का सिलसिला चरम पर है। धर्म परिवर्तन ( Conversion of religion ) करने वाले लोग ईसाई और मुसलमान हैं। ये लोग घर वापसी योजना के तहत फिर से हिंदू ( Hindu ) बन रहे हैं। एक पखवाड़े के अंदर ही एमपी के अलग-अलग जिलों से सैकड़ों की संख्या में लोग दूसरे धर्म का त्याग कर सनातनी हिंदू ( Hindu) बने हैं।

मोहम्मद शाह बन गए राम सिंह

15 दिन के अंदर मुस्लिम से हिंदू बनने का दूसरा बड़ा मामला सामने आया है। ताजा मामला रतलाम के आम्बा क्षेत्र से जुड़ा है। आम्बा में 18 लोगों ने मुस्लिम धर्म त्याग कर हिंदू धर्म अपनाया लिया। परिवार के मुखिया मोहम्मद शाह अब राम सिंह बन गए हैं। हिंदू बनने से पहले भीमनाथ मंदिर में महा शिवपुराण की पूर्णाहुति स्वामी आनंदगिरी महाराज के सान्निध्य में संपन्न हुआ। उसके बाद गोबर और गोमूत्र से नहाकर सभी लोगों ने जनेऊ धारण किया। धर्म परिवर्तन ने पहले सभी ने शपथ-पत्र तैयार किया जिसमें लिखा था कि वो बिना किसी दबाव के हिंदू धर्म स्वीकार कर रहे हैं। परिवार के मुखिया ने स्वामी आनंदगिरी के पास जाकर धर्म परिवर्तन करने की इच्छा जाहिर की थी। सनातन धर्म अपनाने वालों का कहना है कि ऐसा कर उन्होंने ईसाई बनने की 56 साल पुरानी भूल सुधारी है।

14 दिन पहले मंदसौर में शेख जफर शेख पिता गुलाम मोइनुद्दीन शेख ने हिंदू धर्म अपनाया था। अब वे चेतन सिंह राजपूत के नाम से जाने जाते हैं। उनकी पत्नी पहले ही हिंदू धर्म से हैं। शेख जफर ने भगवान पशुपतिनाथ मंदिर प्रांगण में धर्म परिवर्तन किया था।

झाबुआ में 250 इसाई बने सनातनी हिंदू

इसी तरह मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल झाबुआ और रतलाम जिले में घर वापसी के दो मामले सामने आये हैं। झाबुआ जिले के पेटलावद क्षेत्र के गुलरीपाड़ा गांव में 8 जून को 250 लोगों ने ईसाई धर्म छोड़कर सनातन धर्म में वापसी की है। रतलाम जिले के आंबा गांव में सात मुस्लिम परिवारों के 32 लोगों ने शिव मंदिर में पूजा के बाद पुन: हिंदू धर्म अपनाकर घर वापसी की। झाबुआ में इसाई से हिंदू बने लोगों ने कहा कि बीते वर्षो में किसी कारण से वे ईसाई बन गए थे, लेकिन अब घर वापसी से सुखद अनुभूति हो रही है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध