मध्य प्रदेश

Gwalior News : करवाचौथ में ली गई सेल्फी बन गई पति की आखिरी निशानी, हादसे के बाद दीवाली में जली लाश तो फूट-फूटकर रोया परिवार

Janjwar Desk
4 Nov 2021 12:23 PM GMT
gwalior news
x

(हादसे में पति देवेंद्र की मौत पत्नी अस्पताल में पड़ी है बेसुध)

Gwalior News : देवेन्द्र खुद MP पुलिस में कॉन्स्टेबल हैं। अभी 6 महीने पहले देवेन्द्र की शादी हुई थी। 24 अक्टूबर को पहली बार पत्नी वैशाली ने उसके लिए व्रत रखा था, लेकिन एक हादसे ने....

Gwalior News : मध्य प्रेदश के गुना स्थित बीनागंज में डिवाइडर से टकराकर पुलिया से नीचे गिरी कार सवार ग्वालियर के रहने वाले देवेन्द्र दुबे सहित तीन लोगों की मौत हो गई। मृतक देवेन्द्र की पत्नी और एक आरक्षक दोस्त सहित 3 घायल हैं। देवेन्द्र खुद MP पुलिस में कॉन्स्टेबल हैं। अभी 6 महीने पहले देवेन्द्र की शादी हुई थी। 24 अक्टूबर को पहली बार पत्नी वैशाली ने उसके लिए व्रत रखा था।

इस करवाचौथ की पूजा के बाद देवेन्द्र ने पत्नी के साथ एक सेल्फी ली थी। यह सेल्फी उसने फेसबुक पर भी अपलोड की थी, लेकिन कोई नहीं जानता था कि यह सेल्फी उसकी जिंदगी की आखिरी सेल्फी साबित होगी। इतना ही नहीं देवेन्द्र ने मौत से 24 घंटे पहले अपने दोस्त अभिषेक को उसके जन्मदिन पर बधाई देकर कहा था कि कल आ रहा हूं बर्थ डे की पार्टी लूंगा। देवेन्द्र ने शरीर पर वर्दी पिता के लिए पहनी थी। उसके पिता किसान है और उनकी इच्छा थी कि एक बेटा पुलिस की वर्दी पहने, उस सपने को देवेन्द्र ने पूरा किया।

ये था पूरा हादसा

बुधवार 3 अक्टूबर की सुबह गुना नेशनल हाईवे पर हुए सड़क हादसे में दो परिवारों की खुशियां छिन गईं। ग्वालियर के विजय नगर आमखो में रहने वाले 26 वर्षीय देवेंद्र दुबे पुत्र अजय दुबे शाजापुर के इकोदिया थाने में बतौर आरक्षक पदस्थ थे। वहीं, मुरैना के रहने वाले 35 वर्षीय नीरज शर्मा भी कालापीपल थाने में कॉन्स्टेबल हैं। दोनों परिवार सहित शाजापुर में ही रहते थे।

दिपावली मनाने के लिए दोनों परिवार बुधवार को समेत कार से ग्वालियर के लिए निकले। गाड़ी नीरज शर्मा चला रहे थे। देवेंद्र पास वाली सीट पर बैठा था। नीरज की पत्नी अलका अपने बेटा 3 वर्षीय अनमोल, 11 माह की बेटी प्रियांशी और देवेंद्र की 24 वर्षीय पत्नी वैशाली दुबे पीछे की सीट पर बैठे थे। वह कार से अभी गुना के बीनागंज इलाके में बेरखेड़ी के पास पहुंचे थे तभी सुबह 5 बजे अचानक नीरज की झपकी लग गई। इसके बाद कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। डिवाइडर से टक्कर के बाद गाड़ी दूसरी तरफ पुलिया में जा गिरी। हादसे में कॉन्स्टेबल देवेंद्र, आरक्षक नीरज की पत्नी अलका और उसकी बेटी प्रियांशी की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, नीरज, अनमोल और देवेन्द्र की पत्नी वैशाली गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को गुना से ग्वालियर रैफर किया गया है।

शादी के बाद पहली दीवाली में जली पति की चिता

ग्वालियर में विजय नगर आमखो में रहने वाले अजय दुबे मूल रूप से किसान हैं और भिंड के मौ कस्बे के बरौली गांव के रहने वाले हैं। यहां ग्वालियर में कंपू पर देवेन्द्र के बड़े भाई राघवेन्द्र का सायबर कैफे है। यही वह भी बैठा करता था। पर पिता चाहते थे एक बेटा पुलिस में जाए। उनका सपना पूरा करने उसने कड़ी मेहनत की और आरक्षक के लिए चुना गया। इस बार शादी के बाद उसकी और वैशाली की पहली दीपावली थी। उसी में शामिल होने वह गांव के लिए निकला था। पर जहां त्योहार मनाना था उसी गांव में बुधवार शाम 5 बजे उसका अंतिम संस्कार किया जा रहा था। पिता और मां का रो-रोकर बुरा हाल था। वहीं गांव का माहौल भी गमगीन है।

Next Story