मध्य प्रदेश

विजयवर्गीय के बेटे ने जिस अधिकारी को बल्ले से पीटा, उसने अदालत में कहा 'मैंने पीटने वाले को नहीं देखा'

Janjwar Desk
19 Feb 2022 5:49 AM GMT
विजयवर्गीय के बेटे ने जिस अधिकारी को बल्ले से पीटा, उसने अदालत में कहा मैंने पीटने वाले को नहीं देखा
x

विजयवर्गीय के बेटे ने जिस अधिकारी को बल्ले से पीटा, उसने अदालत में कहा 'मैंने पीटने वाले को नहीं देखा'

26 जून 2019 को इंदौर नगर निगम के अधिकारी की बल्ले से पिटाई पर भारतीय जनता पार्टी के विधायक आकाश विजयवर्गीय को मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था...

Indore News: भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के सुपुत्र आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) द्वारा निगम अधिकारी के बल्ले से की गई पिटाई मामले में नया मोड़ आया है। इस मामले को लेकर पहले मुकदमा लिखाने और आकाश को न्यायिक हिरासत में भिजवाने वाले अधिकारी अपनी गवाही से मुकर गये हैं। उन्होने कहा है कि उन्हें नहीं पता किसने पीटा है। उन्होने देखा ही नहीं की आकाश ने पीटा या किसी और ने।

बता दें 26 जून 2019 को इंदौर नगर निगम (Indore Nagar Nigam) के अधिकारी की बल्ले से पिटाई पर भारतीय जनता पार्टी के विधायक आकाश विजयवर्गीय को मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। आकाश विजयवर्गीय के साथ ही 10 अन्य लोगों पर भी FIR दर्ज हुई थी। इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 353/294/323/506/147 व 148 के तहत एफआईआर दर्ज हुई थी।

आकाश विजयवर्गीय भारतीय जनता पार्टी (BJP) महासचिव और दिग्गज नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं। वहीं इस पूरे मामले पर आकाश विजयवर्गीय को अफसोस नहीं है। आकाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह सिर्फ शुरुआत है, हम इस तरह भ्रष्टाचार और गुंडई को खत्म करेंगे। आकाश ने उस समय यह भी कहा था कि 'आवेदन, निवेदन और फिर दना दन' के तहत हम अब कार्रवाई करेंगे।

बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने कहा था कि निगम के अधिकारी ने महिलाओं को घसीटकर घरों से बाहर निकाला था। महिला पुलिस को उनके साथ होना चाहिए था। जब मैं वहां पहुंचा तो लोग गुस्से में थे और अधिकारी को भगा रहे थे। मैं अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने जा रहा हूं।

क्या था पूरा मामला?

बता दें कि आकाश विजयवर्गीय का मारपीट करते हुए एक वीडियो सामने आया था। इस वीडियो में वह निगम अधिकारी से साथ मारपीट कर रहे हैं। यहां पर इंदौर के निगम अधिकारियों की टीम जर्जर मकानों को तोड़ने के लिए आई थी। लेकिन आकाश विजयवर्गीय उनपर ही बरस पड़े। आकाश क्रिकेट बैट लेकर अधिकारियों पर हमला करने पहुंच गए और उनके साथ बदसलूकी करने लगे। इतना ही नहीं समर्थकों ने भी निगम अधिकारियों के साथ मारपीट की।

कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय ने बल्ले से एक निगम कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। निगम अधिकारी एक जर्जर मकान को ढहाने के लिए पहुंचे थे। तभी आकाश से उनकी बहस हो गई और मामला इतना बढ़ गया कि उन्होंने बल्ले से कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। वह 2018 में पहली बार इंदौर-तीन से विधायक बने हैं।

भवन निरीक्षक ने दर्ज कराई थी FIR

इंदौर नगर निगम के 46 साल के भवन निरीक्षक धीरेंद्र बायस ने शहर के एमजी रोड पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वह सरकारी दल-बल के साथ खतरनाक रूप से जर्जर मकान ढहाने के लिए पहुंचे थे। इसी दौरान भाजपा विधायक मौके पर पहुंचे और कथित तौर पर धमकाते हुए वहां से चले जाने को कहने लगे। उन्होंने नगर निगम के दल से कहा कि वह मकान ढहाने की कार्रवाई को नहीं होने देंगे। यदि दल 10 मिनट के अंदर यहां से नहीं गया तो उसे पीटकर भगा दिया जाएगा।

Next Story

विविध