मध्य प्रदेश

Neemuch Tension : नीमच में दरगाह के पास हनुमान मंदिर बनाने पर दो गुटों में जमकर हुआ पथराव, धारा 144 लागू, इलाके में तनाव

Janjwar Desk
17 May 2022 4:08 AM GMT
Neemuch Tension : नीमच में दरगाह के पास हनुमान मंदिर बनाने पर दो गुटों में जमकर हुआ पथराव, धारा 144 लागू, इलाके में तनाव
x

Neemuch Tension : नीमच में दरगाह के पास हनुमान मंदिर बनाने पर दो गुटों में जमकर हुआ पथराव, धारा 144 लागू, इलाके में तनाव

Neemuch Tension : नीमच पुरानी कचहरी पर हनुमान प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा करने को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ था। इसके बाद दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पथराव किया।

Neemuch Tension : मध्य प्रदेश के नीमच में हनुमान हनुमान मंदिर ( hanuman Mandir ) निर्माण के बाद दो समुदायों के बीच तनाव ( Neemach Tension ) की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि नीमच पुरानी कचहरी पर हनुमान प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा करने को लेकर दो पक्षों में विवाद हुआ था। इसके बाद दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर पथराव किया। नीमच में स्थिति को काबू में रखने को लिए लोकल पुलिस ( Neemach police ) को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। नीमच जिला प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी गई है।

दरगाह के पास हनुमान मूर्ति की स्थापना

नीमच ( Neemach news ) के एसपी सूरज कुमार वर्मा ने कहा कि यहां एक दरगाह है। वहां कुछ लोगों ने हनुमान जी की मूर्ति की स्थापना कर दी है। इसे लेकर दोनों पक्षों में विवाद हो गया है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थिति काबू में कर लिया है। उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों के बीच पथराव भी हुआ है। इसमें दो तीन बाइकों को नुकसान पहुंचा है। विवाद में कोई भी घायल नहीं हुआ है।

पुलिस को किसी ने नहीं मिली कोई शिकायत

नीमच ( Madhya Pradesh ) के एसपी सूरज कुमार वर्मा ने बताया कि जहां विवाद हुआ वहां हिंदू मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग रहते हैं। विवाद के वक्त भीड़ हटाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े गए। इसके बाद पुलिस ने गलियों में पेट्रोलिंग की और लोगों से घरों में रहने के लिए कहा गया है। लोगों से अफवाह पर ध्यान न देने के लिए भी कहा गया है। जो लोग अफवाह फैला रहे हैं, उनकी पहचान की जा रही है। उन पर कार्रवाई भी की जाएगी। अभी तक विवाद को लेकर किसी भी पक्ष की ओर से कोई शिकायत नहीं मिली है।

रामनवमी के दिन खरगोन में हुई थी हिंसा

Neemuch Tension : बता दें कि मध्य प्रदेश के खरगोन में रामनवमी पर हिंसा हुई थी। खरगोन में कथित तौर पर रामनवमी के जुलूस पर पथराव के बाद दो गुटों में विवाद हो गया था। इस दौरान, पत्थरबाजी, मारपीटी, आगजनी और हत्या जैसी घटनाओं को अंजाम दिया गया था। इसके बाद खरगोन में कर्फ्यू लगाया गया था। खरगोन हिंसा के आरोपियों की अवैध संपत्तियों पर बुलडोजर चलाया गया था। बुलडोजर चलवाने को लेकर शिवराज सरकार की तीखी आलोचना भी हुई थी।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story