राष्ट्रीय

Miserable Cow Shelters of UP : उत्तर प्रदेश की गोशालाओं से गायें ही गायब, क्या उनकी तस्करी की जा रही है?

Janjwar Desk
11 Jun 2022 6:39 AM GMT
x
Miserable Cow Shelters of UP : दीवारों और बोर्ड पर तो योगी सरकार की ओर से तमाम दावे किए गए है, पर जमीन पर हकीकत कुछ और ही है। गोशाला तो है पर कहीं गायें नजर नहीं आती है। आपको बता दें कि बीते उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान उत्तर प्रदेश की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी ने लोगों से खासकर किसानों से वादा किया था कि किसानों की फसल को आवारा पशुओं से नुकसान से बचाने के लिए गोशालाओं का निर्माण कराया जाएगा। गोशाला निर्माण के लिए बड़े-बड़े प्रोजेक्ट बनाए गए पर...

Miserable Cow Shelters of UP : उत्तर प्रदेश में फिलहाल गायों से सहानुभूति रखने वाली पार्टी की सरकार है। गौ कल्याण को लेकर तमाम बड़े-बड़े वादे किया जाते हैं, पर सच्चाई यह है कि गोशालाओं से गायें ही गायब हैं। जिन गौशालाओं में गाएं हैं भी वो भी बस बदहाली और बदइंतजामी (Miserable Cow Shelters of UP) के बीच दिन काट रही हैं। उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के सकरौंहा गोशाला का हाल तो यही बयां कर रहा है। जनज्वार की टीम जब इस गोशाला में पहुंची तो केवल गोशाला की दीवारों पर उकेगी गयी गाय ही दिखी। असर में वहां कोई गाय नहीं देखी। आखिर अगर गोशाला है तो फिर फिर वहां कि गायें कहां गयी।

दीवारों और बोर्ड पर तो योगी सरकार की ओर से तमाम दावे किए गए है, पर जमीन पर हकीकत कुछ और ही है। गोशाला तो है पर कहीं गायें नजर नहीं (Miserable Cow Shelters of UP) आती है। आपको बता दें कि बीते उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान उत्तर प्रदेश की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी ने लोगों से खासकर किसानों से वादा किया था कि किसानों की फसल को आवारा पशुओं से नुकसान से बचाने के लिए गोशालाओं का निर्माण कराया जाएगा। गोशाला निर्माण के लिए बड़े-बड़े प्रोजेक्ट (Miserable Cow Shelters of UP) बनाए गए पर।

गोशाला के नाम पर आम जनता पर गोशाला सेस (Miserable Cow Shelters of UP) का भार भी दिया गया, पर गोलाशालाओं के नाम पर काम कुछ नहीं हुआ। केवल शेड बना दिए गए, पेंटिंग कर दी गयी पर हकीकत में गायें अब भी नदारद हैं। इस बात को लेकर स्थानीय लोगों में भी काफी रोष है। उनका कहना है कि उत्तर प्रदेश की वर्तमान योगी सरकार केवल योजनाओं की घोषणा करती है। उसे जमीन पर उतार पाने की चेष्टा नहीं कर पाती है। नतीजा यह होता है कि इन योजनाओं का लाभ आम आदमी को नहीं मिल पाता है। यही हाल सरकार की मत्वाकांक्षी गोशाला योजना (Miserable Cow Shelters of UP) की भी है।

चित्रकूट समेत सूबे के अधिकतर जिलों में गोशालाओं के नाम पर प्रोजेक्ट तो शुरू कर दिए गए हैं, पर वहां गायें ही गायब (Miserable Cow Shelters of UP) हैं। ऐसे में यह सवाल पूछा जाना लाजिमी है कि आखिर गायें कहां गयी? क्या उनकी तस्करी की जा रही है? गोशालाओं का हाल देखकर एक बड़ा सवाल यह भी पैदा होता है कि क्या गायों के कल्याण के नाम पर वोट लेकर सत्ता में आयी सरकार वास्तव में गो कल्याण के लिए कुछ कर भी रही है या सिर्फ योजनाओं के नाम पर हवाबाजी की जा रही है और सरकारी पैसों का बंदरबांट हो रहा है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध