Begin typing your search above and press return to search.
राष्ट्रीय

Modi Govt Advertisement Cost : मोदी सरकार ने प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विज्ञापनों पर 3 साल में खर्च किए 1700 करोड़ रुपये

Anonymous
8 Dec 2021 6:41 AM GMT
Modi Govt Advertisement Cost : मोदी सरकार ने प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विज्ञापनों पर 3 साल में खर्च किए 1700 करोड़ रुपये
x

(मोदी सरकार ने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विज्ञापनों पर खर्च किए 1700 करोड़ रुपये)

Modi Govt Advertisement Cost : सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने लिखित जवाब में जानकारी दी कि सरकार ने अखबारों को दिए विज्ञापन पर कुल 826.5 करोड़ रुपये खर्च किए....

Modi Govt Advertisement Cost : केंद्र की मोदी सरकार ने संसद को बताया है कि उसने साल 2018 से 2021 के बीच प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (Print And Electronic Media) को दिए विज्ञापनों (Advertisement) पर 1700 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने इसकी जानकारी ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIDF) के सांसद बदरुद्दीन अजमल के सवाल के जवाब में दी।

ठाकुर ने अपने लिखित जवाब में बताया, सरकार द्वारा दिए गए विज्ञापनों का प्रमुख मकसद सरकार की नीतियों और योजनाओं के बारे में उसके लक्षित लाभार्थियों को जागरूक करना है। मंत्रालय (Ministry of Information and Broadcasting) की ओर से साझा किए गए आंकड़ों के मुताबिक सरकार ने अखबारों को दिए विज्ञापन पर कुल 826.5 करोड़ रुपये खर्च किए।

मंत्रालय ने जानकारी दी कि 2020-21 के बीच 6 हजार 85 अलग-अलग अखबारों में 118.59 करोड़ रुपये का विज्ञापन दिया गया। वहीं 2019-20 के बीच 5365 अखबारों में 200 करोड़ रुपये और 2018-19 के बीच 6119 अखबारों में 507.9 करोड़ रुपये के विज्ञापन दिए गए।

वहीं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को बीते तीन साल में विज्ञापन के लिए 193.52 करोड़ रुपये दिए गए। इससे पहले भी अनुराग ठाकुर संसद में बता चुके हैं कि सरकार ने टेंडर या नौकरी भर्तियों वाले गैर संचार विज्ञापनों पर खर्च कर दिया।

केंद्र की मोदी सरकार टीवी और अखबारों के विज्ञापन पर करोड़ो रुपये करने में तो आगे है लेकिन उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भी पीछे नहीं है। इसी साल एक आरटीआई से यह जानकारी निकलकर सामने आयी थी कि योगी सरकार ने अप्रैल 2020 और मार्च 2021 के बीच टीवी चैनलों के विज्ञापन पर 160.31 करोड़ रुपये खर्च किए।

आरटीआई के जवाब में उत्तर प्रदेश के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग ने जानकारी दी थी कि इस दौरान नेशनल टीवी न्यूज चैनल्स को 88.68 करोड़ रुपये और क्षेत्री टीवी न्यूज चैनल्स को 71.63 करोड़ रुपये का विज्ञापन दिया।


आरटीआई के मुताबिक विज्ञापन पर हुए खर्च का एक बड़ा हिस्सा मई 2020 में केंद्र की मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए आत्मनिर्भर भारत अभियान के प्रचार के लिए इस्तेमाल किया गया। आज तक न्यूज चैनल को 15 अप्रैल 2020 से 8 मार्च 2021 के बीच 10 करोड़ 14 लाख रुपये के 20 विज्ञापन दिए गए। इसमें से 9 आत्मनिर्भर भारत, 2 आत्मनिर्भर प्रदेश और 4 चार कोरोना महामारी को लेकर थे।

इसके अलावा योगी सरकार ने सबसे ज्यादा विज्ञापन मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाले चैनल न्यूज 18 और सुभाष चंद्र के जी न्यूज को दिया गया। नेटवर्क 18 ग्रुप के चैनल सीएनएन न्यूज 18, न्यूज 18 इंडिया, न्यूज 18 यूपी उत्तराखंड को 28.82 करोड़ रुपये का विज्ञापन दिया गया।

Next Story