राष्ट्रीय

पूर्व MLC त्रिलोचन सिंह की हत्या के बाद कातिल ने उनके भाई को फोन कर कहा था, मर्डर कर दिया, लाश ले जाओ : जांच में खुलासा

Janjwar Desk
11 Sep 2021 4:19 AM GMT
पूर्व MLC त्रिलोचन सिंह की हत्या के बाद कातिल ने उनके भाई को फोन कर कहा था, मर्डर कर दिया, लाश ले जाओ : जांच में खुलासा
x

वजीर हत्याकांड में परिवार कर रहा सीबीआई जांच की मांग, 9 सितंबर को पॉलिथीन में लिपटी सड़ी-गली लाश हुई थी बरामद (photo : social media)

वजीर के पुलिस से सेवानिवृत्त भाई का दावा है कि उनको कॉल करने वाले ने हरमीत के साथ उनके भाई के कत्ल की बात कही थी। वजीर की हत्या के बाद से ही हरमीत और हरप्रीत दोनों के फोन बंद पाए गए हैं, पुलिस दोनों की तलाश कर रही है....

जनज्वार। नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर (National Conference leader Trilochan Singh Wazir) की 9 सितंबर को दिल्ली के मोतीनगर इलाके के एक फ्लैट में सड़ी हुई हालत में लाश बरामद की गयी थी। पुलिसिया जांच में खुलासा हुआ है कि उनकी हत्या की गयी थी। अब सामने आ रहा है कि जिस ​हत्यारोपी पर पुलिस को शक है, वह त्रिलोचन सिंह वजीर के परिवार के संपर्क में भी था और उसने हत्या के बाद उसके भाई को फोन कर सूचना दी थी कि मैंने मर्डर कर दिया है, लाश ले जाओ।

नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Conference) के वरिष्ठ नेता व जम्मू कश्मीर के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की दिल्ली में हुई हत्या के मामले में जांच कर रही दिल्ली पुलिस के मुताबिक जांच में त्रिलोचन सिंह वजीर के भाई ने बताया है कि कातिल ने उनसे कहा था, उसने और हरमीत ने मिलकर त्रिलोचन सिंह की हत्या कर दी है, आकर लाश ले जाओ। ​पूर्व एमएलसी वजीर की लाश 9 सितंबर को बहुत बुरी हालत यानी सड़ी हुई बरामद की गयी थी, जो पॉलिथिन में लिपटी हुयी थी। वजीर के परिवार ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है।

हिंदुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक इसके बाद पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर के भाई ने जम्मू कश्मीर पुलिस को इस घटना की सूचना दी थी। इसी जानकारी के आधार पर दिल्ली पुलिस ​वजीर के फ्लैट पर पहुंची और बहुत बुरी लात में उनका शव बरामद किया गया। जानकारी के मुताबिक पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर के भाई जम्मू कश्मीर पुलिस के सेवानिवृत्त अफसर हैं, जिन्हें फोन करने वाले शख्स ने कहा था कि मैंने और हरमीत ने त्रिलोचन सिंह को मार डाला है, आकर उसकी लाश ले जाओ।

पुलिस को शक है कि वजीर के भाई को फोन करने वाला शख्स हरप्रीत सिंह हो सकता है, जो वजीर की हत्या की वारदात के बाद से ही फ्लैट से फरार है। त्रिलोचन सिंह के भाई के फोन पर हत्यारोपी का फोन आने की बात पता चलने के बाद पुलिस ने जब हरप्रीत सिंह की कॉल रिकॉर्ड निकाली तो पता चला कि उसका मोबाइल नई दिल्ली इलाके में बंद हो गया था।

इस घटना के बाद की गयी छानबीन में जब पुलिस ने मोती नगर इलाके की सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो कई जगह हरप्रीत सिंह और हरमीत साथ नजर आये। वजीर हत्याकांड के बाद से ही हरप्रीत सिंह फरार चल रहा है। वजीर के पुलिस से सेवानिवृत्त भाई का दावा है कि उनको कॉल करने वाले ने हरमीत के साथ उनके भाई के कत्ल की बात कही थी। वजीर की हत्या के बाद से ही हरमीत और हरप्रीत दोनों के फोन बंद पाए गए हैं, पुलिस दोनों की तलाश कर रही है।

पुलिसिया जांच में यह भी सामने आया है कि हरप्रीत अपनाएक वेब पोर्टल चला रहा था, जिसका दफ्तर कनॉट प्लेस में है। इस बात की जानकारी होने के बाद पुलिस टीम उसके दफ्तर भी पहुंची, जहां जाकर पता चला कि हरप्रीत वेब पोर्टल चलाता था, मगर वह खुद यहां लगभग 2 साल से नहीं आया था।

दिल्ली में हत्यारोपियों का कोई सुराग नहीं मिलने के बाद जम्मू पुलिस की एक टीम अमृतसर गयी है, ताकि कुछ सुराग मिल सके। चूंकि वजीर हत्या मामले में हरप्रीत सिंह मुख्य संदिग्ध है, इसलिए दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल की कई टीम उसकी तलाश में जुट गयी हैं। पुलिस का कहना है कि हत्या किस मकसद से गई है, यह हरप्रीत और हरमीत की गिरफ्तारी के बाद ही साफ हो पायेगा।

पुलिसिया जांच में यह बात भी सामने आयी है कि वजीर की हत्या जिस फ्लैट में की गयी थी, उसके बारे में हत्यारोपियों ने मकान मालिक को कहा था कि वह 10 सितंबर तक उसे खाली कर देंगे। यह फ्लैट इसी साल जनवरी में किराये पर लिया गया था।

पुलिस के मुताबिक जांच में यह बात भी सामने आयी है कि हत्यारोपी हरप्रीत ने वजीर को मौत के घाट उतारने के बाद अपनी गर्लफ्रेंड को घटनास्थल पर बुलाया था। पुलिस को हरप्रीत सिंह की कॉल डिटेल रिकॉर्ड में एक ऐसा नंबर मिला है, जिस पर उसकी सबसे ज्यादा बार बात हुयी है। कॉल रिकॉर्ड के आधार पर ही पुलिस ने उसकी महिला मित्र को ढूंढ़ लिया है और उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। हरप्रीत सिंह की गर्लफ्रेंड ने पुलिस को बताया है कि वारदात के बाद हरप्रीत ने उसे अपने फ्लैट पर बुलाया था, मगर उसे वजीर के कत्ल के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

पुलिस का कहना है कि हरप्रीत की गर्लफ्रेंड ने पूछताछ में बताया कि वह उसके बुलाने पर 4 सितंबर को उस फ्लैट में गई थी, जहां तब तक वजीर की हत्या हो चुकी थी। बाद में पुलिस ने फ्लैट के बाथरूम से पॉलिथीन में लिपटी हुई पूर्व एमएलसी वजीर की लाश बरामद की थी। पुलिस का मानना है कि जब हरप्रीत अपनी गर्लफ्रेंड के साथ कमरे में था, तब भी बाथरूम में वजीर की लाश पड़ी हुई थी।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आखिर नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या क्यों की गयी। हालांकि इस मामले में एक एंगल यह सामने आ रहा है कि हो सकता है हरप्रीत ने अपने 2 सगे भांजों की हत्या का बदला लेने के लिए वजीर को मौत के घाट उतारा हो।

दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम जम्मू के ग्रीन बेल्ट इलाके में वर्ष 1990 में तीन सिख युवकों को बेरहमी से ट्रक के नीचे कुचलकर उनकी हत्या कर देने के मामले से भी वजीर की हत्या को जोड़कर इसलिए देख रही है क्योंकि हत्या में मारे गए दोनों सगे भाई हरप्रीत सिंह के सगे भांजे थे और हत्याकांड में टीएस वजीर और ओंमकार सिंह सहित तीन लोगों को आरोपित बनाया गया था। मगर वर्षों तक चले मुकदमे के बाद कोर्ट ने सभी आरोपियों तो बाइज्जत बरी कर दिया था। पुलिस का कहना है जिस तरह से 2 साल से हरप्रीत ने वजीर से नजदीकियां बढ़ायीं, उससे लगता है कि उसने एक सोची-समझी चाल के तहत अपने भांजों की हत्या का बदला लेने के लिए बुजुर्ग वजीर को मौत के घाट उतारा हो।

Next Story

विविध

Share it