राष्ट्रीय

Nawab Malik की बेटी Nilofer Malik Khan ने लिखा खुला खत, 'पेडलर की पत्नी कहा गया- बच्चों ने खोए दोस्त'

Janjwar Desk
6 Nov 2021 1:38 PM GMT
Nawab Malik की बेटी Nilofer Malik Khan ने लिखा खुला खत, पेडलर की पत्नी कहा गया- बच्चों ने खोए दोस्त
x

(नीलोफर मलिक खान और समीर खान)

Nawab Malik Daughter Nilofer Malik Khan : नीलोफर ने यह भी आरोप लगाया कि उसके पति की गिरफ्तारी के पीछे और भी बहुत कुछ है। उन्होंने दावा किया कि कोई ठोस सबूत न होने के बावजूद समीर को गिरफ्तार किया गया।

Nawab Malik Daughter Nilofer Malik Khan। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) की बेटी नीलोफर मलिक खान (Nilofer Malik Khan) ने खुल खत लिखा है। नीलोफर ने इस पत्र का शीर्षक 'फ्रॉम द वाइफ ऑफ एन इनोसेंट, द बिगनिंग' रखा। इसमें नीलोफर मलिक खान ने उस रात को याद किया है जब उनके पति समीर खान (Sameer Khan) को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने गिरफ्तार किया था। नीलोफर ने उन दिक्कतों के बारे में भी बात की जिससे उनका परिवार अभी भी जूझ रहा है।

नीलोफर के पति समीर खान को एनसीबी (NCB) ने जनवरी माह में गिरफ्तार किया था। एनसीबी ने दावा किया था कि समीर खान ने 194.6 किलोग्राम गांजे की खरीद व बिक्री की साजिश रची थी। इस मामले में समीर के अलावा पांच अन्य लोगों को आरोपी बनाया गया।

पत्र में उन्होंने लिखा है कि मुझे स्पष्ट रूप से याद है कि यह 12 जनवरी था जब मेरे पति समीर खान को उनकी मां का फोन आया था जिसमें कहा गया था कि उन्हें अगले दिन एनसीबी द्वारा दफ्तर बुलाया गया है। रास्ते में जब समीर एनसीबी ऑफिस पहुंचे तो उन्होंने देखा कि बहुत सारी मीडिया उनके आने का इंतजार कर रही है। परेशान होकर मैंने अपना हाथ खिड़की के शीशे में मार दिया जिससे वह मेरे पैर पर गिर गया जिस वजह से मुझे अपने पैर में 250 टांके लगाने पड़े। वे 15 घंटे मेरे और मेरे बच्चों को बहुत परेशान करने वाले थे।

नीलोफर ने यह भी आरोप लगाया कि उसके पति की गिरफ्तारी के पीछे और भी बहुत कुछ है। उन्होंने दावा किया कि कोई ठोस सबूत न होने के बावजूद समीर को गिरफ्तार किया गया। इससे हमें काफी पहुंची। तब हमें महसूस हुआ कि यह व्यक्तिगत तौर पर समीर से ज्यादा है। नीलोफर ने दावा किया कि उनके पति को सबूतों के अभाव में भी महीनों तक जेल में रख गया।

निलोफर ने आगे लिखा, अगले दिन मुझे सिक्योरिटी गार्ड से फोन आया कि हमारे दरवाजे पर एनसीबी अफसर आए हैं, वे हमारे घर और दफ्तर की तलाशी लेना चाहते हैं। जब तक मैं वहां पहुंची वे हमारे दफ्तर में घुस चुके थे क्योंकि गार्ड के पास एक अतिरिक्त चाबी थी। नीलोफर के मुताबिक सामान को इधर-उधर फेंकने और दोनों जगहों की अच्छी तरह जां करने के बाद उन्हें कुछ भी नहीं मिला।

नीलोफर ने कहा कि हमारे परिवार को बहिष्कृत किया गया। हमारे लिए पेडलर की पत्नी और ड्रग तस्कर जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया। हमारे बच्चों ने दोस्त खो दिए। नीलोफ ने ट्वीटर पर इस खुले पत्र को शेयर किया।

Next Story

विविध