राष्ट्रीय

Rajasthan News : पंजाब के बाद अब राजस्थान में भूचाल, सीएम गहलोत के OSD ने सौंपा इस्तीफा

Janjwar Desk
19 Sep 2021 8:47 AM GMT
2018 विधानसभा चुनाव के बाद से सीएम अशोक गहलोत व सचिन पायलट के बीच तल्खी बढ़ती चली गई
x

(राजस्थान सीएम अशोक गहलोत के ओएसडी ने भेजा इस्तीफा)

Rajasthan News : राजस्थान के हालात भी पंजाब जैसे ही बन रहे हैं। सीएम अशोक गहलोत व सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच की अंदरूनी कलह किसी से छुपी नहीं है...

Rajasthan News जनज्वार। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) के इस्तीफे के बाद अब राजस्थान (Rajasthan) में भी अंदरूनी कलह शुरु हो गई है। सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के ओएसडी लोकेश शर्मा (Lokesh Sharma) ने शनिवार देर रात अपना इस्तीफा दे दिया है। लोकेश शर्मा ने इस्तीफा (Resignation) देते हुए कहा कि मेरे द्वारा किये गए द्वीट को राजनीतिक रंग देते हुए, गलत अर्थ निकालकर पंजाब के घटनाक्रम से जोड़ा जा रहा है। उन्होंने सीएम को भेजे अपने इस्तीफे में कहा कि कांग्रेस के किसी भी छोटे से लेकर बड़े नेता के संबंध में और प्रदेश की कांग्रेस (Congress) सरकार को लेकर उन्होंने कभी कोई टीका टिप्पणी नहीं की।

लोकेश शर्मा ने किया था यह ट्वीट

शनिवार दोपहर 1.42 मिनट पर गहलोत के ओएसडी (OSD) के रुप में मीडिया का काम संभाल रहे लोकेश शर्मा ने जो ट्वीट किया, वहीं उनके लिए मुसीबत बन गया। लोकेश शर्मा ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि- 'मजबूत को मजबूर, मामूली को मगरूर किया जाए...। बाड़ ही खेत को खाए, उस फसल को कौन बचाए !!' उनके इस ट्वीट पर प्रदेश का राजनीति गरमा गई। उनके ट्वीट को पार्टी हाईकमान पर तंज कसने वाला माना गया। सोशल मीडिया पर लोकेश पर आरोपों की झड़ी लग गई। जिसके बाद उन्होंने अपना इस्तीफा सीएम गहलोत को सौंपा। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो खुद गहलोत ने ही लोकेश शर्मा का इस्तीफा लिया है।

अगला पंजाब बनने की तरफ राजस्थान?

राजस्थान के हालात भी पंजाब जैसे ही बन रहे हैं। सीएम अशोक गहलोत व सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच की अंदरूनी कलह किसी से छुपी नहीं है। 2018 विधानसभा चुनाव (Rajasthan Assembly Election) के बाद से सीएम अशोक गहलोत व सचिन पायलट के बीच तल्खी बढ़ती चली गई है। कई बार इसे सार्वजनिक तौर पर भी देखा गया है। पंजाब में सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की तरह राजस्थान में भी पायलट खेमा कई बार मुख्यमंत्री तो बदलने की बात कर चका है। अशोक गहलोत सचिन पायलट को लेकर विरोधी बातें भी कह चुके हैं।

बार बार गहलोत-सचिन का अलग अलग गुटों में दिल्ली जाना व पार्टी हाईकमान से मुलाकात करना संदेह पैदा करता है। प्रदेश में सरकार बचाने के लिए पार्टी हाईकमान (Congress High Command) अलग अलग खेमों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन राजस्थान कांग्रेस भी राजनीति के उस पड़ाव पर खड़ी है, जहां सत्ता की कुर्सी एक डूबता जहाज है, जिसे वक्त पर नहीं संभाला गया तो गद्दी से हाथ थोना पड़ेगा।

वहीं पंजाब व राजस्थान में चल रही सियासत को लेकर भाजपा (BJP) एक तरफ चुटकी ले रही है तो वहीं पार्टी दिग्गजों के चेहरों पर मंद मुस्कानें भी है। कांग्रेस पर तंज कसने के अवसर का भरपूर आनंद लेने के साथ ही पार्टी इन राज्यों में सत्ता जमाने की संभावनाओं को भी तलाश रही है। लिहाजा इन राज्यों में पार्टी के सीनियर नेता अपनी सियासत की धार मजबूत करने में जुटे हैं।

Next Story

विविध

Share it