राजस्थान

Jodhpur Violence : ईद व अक्षय तृतीया के पहले 2 समुदायों में हिंसक झड़प, लाठीचार्ज के बाद इंटरनेट सेवा बंद

Janjwar Desk
3 May 2022 2:29 AM GMT
Jodhpur Violence : ईद व अक्षय तृतीया के पहले 2 समुदायों में हिंसक झड़प, इंटरनेट सेवा बंद
x

Jodhpur Violence : ईद व अक्षय तृतीया के पहले 2 समुदायों में हिंसक झड़प, इंटरनेट सेवा बंद

Jodhpur Violence : झंडा फहराने को लेकर राजस्थान के जोधपुर शहर में बीती रात दो समुदायों के बीच हिंसक झड़पें हुई।

Jodhpur Violence : ईद ( EID ) और अक्षय तृतीया ( Akshay Tritiya ) से ठीक पहले राजस्थान के जोधपुर शहर में बीती रात 2 समुदायों के बीच हिंसक ( Jodhpur Violence ) झड़पें हुई हैं। जोधपुर के जालोरी गेट पर झंडा उतार-फेंकने व दूसरा झंडा ( Bhagwa Flag ) लगाने को लेकर विवाद शुरू हुआ। इसके बाद दोनों ओर से पथराव शुरू हो गया। मामला सामने आने के बाद जोधपुर पुलिस ( Jodhpur Police ) ने लाठीचार्ज कर हालात काबू में किए। बता दें कि मंगलवा ने देश भर में आज ईद और अक्षय तृतीया मनाए जा रहे हैं। ईद की पूर्व रात हुए इस बवाल को फैलने से रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन ने शहर में फिलहाल इंटरनेट सेवाएं बंद ( Internet Services closed ) कर दी हैं।

ताजा अपडेट के मुताबिक राजस्थान की सूर्यनगरी जोधपुर (Jodhpur) में ईद (Eid al-Fitr 2022 ) और अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पर्व से ठीक पहले यानि बीती रात 2 समुदायों के लोग आमने सामने आ गए। यहां के जालोरी गेट चौराहे (Jalori Gate) स्थित बालमुकंद बिस्सा सर्किल पर लगे भगवा ध्वज को समुदाय विशेष के लोगों ने उतारकर फेंक दिया। समुदाय विशेष के लोगों ने उसकी जगह अपना झंडा लगा दिया। या यूं कहें कि उसे फहरा दिया।

इस मुद्दे पर बात बिगड़ी तो जमकर पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस पत्थरबाजी में कई लोग चोटिल हुए हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच-बचाव कर भीड़ को खदेड़ना शुरू किया। जब भीड़ बेकाबू हुई तो इस दौरान पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, लेकिन भीड़ को खदेड़ने में लगी पुलिस पर भी एक समुदाय की ओर से पथराव (Stone pelting In Jodhpur) किया गया। इसमें कई पुलिसकर्मी जख्मी हुए हैं। दूसरी तरफ घटना का कवरेज करने वाले मीडियाकर्मी पुलिस के गुस्से का शिकार बने। चार पुलिसकमिर्यों और मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट की गई।। फिलहाल, जोधपुर शहर में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। पुलिस ने साम्प्रदायिक सौहार्द (Communal Harmony) के साथ त्याेहार मनाने की अपील की है।

Jodhpur Violence : बता दें कि पूरा मामला जोधपुर के जालोरी गेट चौराहे से शुरू हुआ। जालोरी गेट के पास बालमुकंद बिस्सा सर्किल पर लगा भगवा ध्वज को समुदाय विशेष के लोगों ने उतारकर एक समुदाय के युवकों ने अपना हरा ध्वज लगा दिया। कुछ लोगों ने इस पर ऐतराज किया। इसी बात पर दोनों पक्षों के बीच में कहासुनी हुई और दोनों तरफ से लोग आमने-सामने आ गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को तितर-बितर किया। इस दौरान ईद की नमाज की तैयारी को लेकर समुदाय विशेष के लोगों ने पूरे इलाके में चौराहों पर लाउडस्पीकर लगाए और झंडा फहरा दिया। इस घटना के बाद जमा हुई भीड़ ने लाउडस्पीकर हटा दिए। फिलहाल दोनों पक्षों को पुलिस ने नियंत्रित कर लिया है। साथ ही इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध