राष्ट्रीय

BHU में आधी रात को मचे बवाल में कई घायल, 2 गुटों के सैकड़ों छात्रों ने की पत्थरबाजी और हवाई फायरिंग

Janjwar Desk
27 Aug 2021 3:20 AM GMT
BHU में आधी रात को मचे बवाल में कई घायल, 2 गुटों के सैकड़ों छात्रों ने की पत्थरबाजी और हवाई फायरिंग
x

BHU में आधी रात को दो हॉस्टल के छात्र भिड़ गए

मामूली कहासुनी पहले विवाद और फिर संघर्ष में बदल गई, खबर है कि देर रात तक दोनों ओर के सैकड़ों छात्र आमने-सामने डटे थे, पत्थरबाजी में कई छात्रों को चोटें आई हैं..

जनज्वार। काशी हिंदू विश्वविद्यालय में गुरुवार 26 अगस्त को आधी रात जमकर बवाल हुआ। मामूली विवाद के बाद बीएचयू के राजाराम और बिड़ला हॉस्टल के छात्र भिड़ गए। थोड़ी ही देर में दोनों तरफ से पत्थरबाजी शुरू हो गई। इस दौरान पेट्रोल बम चले और हवाई फायरिंग की भी खबर है। घटना की सूचना मिलने के बाद यूनिवर्सिटी का प्रॉक्टोरियल बोर्ड सहित कई थानों की पुलिस व पीएसी भी मौके पर पहुंची। उग्र छात्रों को पुलिस और प्रॉक्टोरियल बोर्ड के सदस्य दूर से समझाते रहे, लेकिन छात्र मानने को तैयार नहीं थे।

बताया जा रहा है कि बीएचयू चौकी इंचार्ज राजकुमार पांडेय भी चोटिल हुए हैं। काशी जोन के DCP अमित कुमार ने बताया है कि दो हॉस्टल के छात्रों के बीच मारपीट और पत्थरबाजी हुई है। दोनों पक्ष की ओर से तहरीर मिली है। आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर कार्रवाई की जाएगी।

वहीं, बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर प्रो. आनंद चौधरी ने बताया कि दोनों गुटों को समझाने का प्रयास किया जा रहा है। फिलहाल मामला नियंत्रण में है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, विश्वविद्यालय में आगामी 1 सितंबर से अंतिम वर्ष के छात्रों की कक्षाएं शुरू होनी हैं। जिसके पहले छात्रों को हॉस्टल का आवंटन किया जाना है। बताया जाता है कि गुरुवार की दोपहर अंतिम वर्ष को छोड़ अन्य सभी कक्षाएं चलाए जाने की मांग को लेकर छात्रों ने यूनिवर्सिटी स्थित सिंह द्वार पर धरना दिया था। उधर रात में राजाराम हॉस्टल में छात्र आपस में बातचीत कर रहे थे।

इसी बीच, मामूली कहासुनी पहले विवाद और फिर संघर्ष में बदल गई। खबर है कि देर रात तक दोनों ओर के सैकड़ों छात्र आमने-सामने डटे थे। पत्थरबाजी में कई छात्रों को चोटें आई हैं।

वैसे बीएचयू के परिसर में इस साल मारपीट व पत्थरबाजी की यह चौथी घटना बताई जा रही है। जब भी कोई घटना होती है तो विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से सुरक्षा-व्यवस्था चुस्त, दुरूस्त करने और माहौल को शांतिमय करने के दावे तो जरूर किए जाते हैं लेकिन इन दावों पर ठोस कार्रवाई नहीं हो पाती है। नतीजतन, आए दिन छात्रों के बीच मारपीट की घटनाएं हो रहीं हैं।

Next Story

विविध

Share it