राष्ट्रीय

UP : चंदौली के दलित ASP से RI बोला, मैं बनारसी ठाकुर और ठाकुरों की सरकार है, SP-CO हमारे कारिंदे

Janjwar Desk
28 July 2021 10:01 AM GMT
UP : चंदौली के दलित ASP से RI बोला, मैं बनारसी ठाकुर और ठाकुरों की सरकार है, SP-CO हमारे कारिंदे
x

(चंदौली के आरआई ने एएसपी अनिल कुमार को कहा तुम चमार, मै ठाकुर)

बकौल अनिल कुमार आरआई ने उनसे कहा कि तुम कन्नौज के चमार हो, और मै बनारसी ठाकुर हूँ। ठाकुरों की सरकार है। तुम्हारे जैसे लोग हमारे घर कूड़ा फेंकते हैं। साथ ही कहा गया कि, एसपी, आईजी, डीआईजी, एडीजी मेरी जेब में रहते हैं...

जनज्वार, लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार पर समय दर समय ठाकुरवादी सरकार होने का प्रश्नचिंह लगता रहता है। इसका जीता-जागता उदाहरण अब पुलिस विभाग से निकलकर सामने आया है। मामले में आरआई ने एएसपी चंदौली से कहा कि तुम कन्नौज के चमार और मैं बनारस का ठाकुर हूँ, ठाकुरों की सरकार है।

दरअसल 20 जुलाई को चंदौली (Chandauli) पुलिस लाइन पहुँचे एएसपी अनिल कुमार अर्धवार्षिक निरीक्षण करने पुलिस लाइन चंदौली पहुँचे थे। उन्होने अवलोकन हेतु होमगार्ड मंजूर आलम को पुलिस लाइन भेजकर गणना रजिस्टर तथा अधिकारियों कर्मचारियों की नियुक्ति रजिस्टर लाने का आदेश दिया। मंजूर के साथ पहुँचे गणना मेजर मुमताज अहमद गणना रजिस्टर तो ले गये, लेकिन नियुक्ति रजिस्टर नहीं लाया गया।

इस बाबत जब एएसपी (ASP) अनिल कुमार ने पूछा तो मुमताज अहमद ने बताया कि यहां नियुक्ति रजिस्टर बना ही नहीं है। जिसपर अनिल कुमार ने पूछा कि नियुक्ति रजिस्टर नहीं बना है तो यह कैसे पता चलेगा की कौन सा कर्मचारी कब और कहां से नियुक्त है या हटाया गया। जिसपर मुमताज अहमद ने उन्हें बताया कि प्रतिसार निरीक्षक पुलिस लाइन चंदौली द्वारा अपने मन से नियुक्ति दी जाती है और हटाया जाता है। इसके बाद मुमताज अहमद को पुलिस लाइन चंदौली वापस भेज दिया गया।


एएसपी अनिल कुमार के मुताबिक 'कुछ देर बाद प्रतिसार निरीक्षक (RI) मेरे कक्ष में आये और नियुक्ति रजिस्टर ना बनाने को लेकर मुझे जाति सूचक शब्दों से अपमानित करने लगे। बकौल अनिल कुमार आरआई ने उनसे कहा कि तुम कन्नौज के चमार हो, और मै बनारसी ठाकुर हूँ। ठाकुरों की सरकार है। तुम्हारे जैसे लोग हमारे घर कूड़ा फेंकते हैं। साथ ही कहा गया कि, एसपी, आईजी, डीआईजी, एडीजी मेरी जेब में रहते हैं।'

इसके बाद आरआई यहीं नहीं रूका, उसने कहा 'आरआई हूँ, सारी खरीददारी करता हूँ। एसपी, एएसपी लाइन, सीओ लाइन हमारे कारिंदे होते हैं। मैं जो चाहूँ वह रजिस्टर दिखाता हूँ, जो नहीं चाहता वह नहीं दिखाता। और मदों में नियुक्त अधिकारी कर्मचारियों के बारे में पूछने वाले तुम कौन होते हो।'

एएसपी अनिल कुमार ने सीएम योगी, गृह सचिव यूपी, अपर पुलिस महानिदेशक, पुलिस महानिदेशक, अपर पुलिस महानिदेशक, एससी-एसटी आयोग दिल्ली व लखनऊ सहित लिखित में शिकायत की है। अनिल कुमार का कहना है कि 'मेरी जो बेइज्जती की गई उसका गवाह मेरा गनर भी है। आरआई द्वारा किया गये इस व्यवहार से मेरे मान-सम्मान को ठेस पहुँचा है।'

Next Story

विविध

Share it