Top
उत्तर प्रदेश

विकास दुबे के फाइनेंसर और तीन भाइयों की संपत्ति कुर्क, गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज

Janjwar Desk
7 Sep 2020 9:15 AM GMT
विकास दुबे के फाइनेंसर और तीन भाइयों की संपत्ति कुर्क, गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज
x
जय बाजपेयी के ब्रह्मनगर स्थित घर को मध्य-रात्रि के अभियान में तीन किरायेदारों से खाली कराने के बाद सील किया गया, इस घर की कीमत पांच करोड़ है, फिर उसी इलाके में एक और घर का एक हिस्सा, जिसे सात साल पहले खरीदा गया था, को भी सील कर दिया गया था...

कानपुर। उत्तर प्रदेश पुलिस ने एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के फाइनेंसर जयकांत बाजपेयी और उसके तीन भाइयों की संपत्ति कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जहां जय बाजपेयी को 3 जुलाई को बिकरू कांड के बाद एक पखवाड़े के अंदर गिरफ्तार किया गया था, वहीं उसके तीन भाइयों - रजनीकांत, अजयकांत और शोभित बाजपेयी को बाद में गिरफ्तार किया गया था। इन सभी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। बिकरू कांड में आठ पुलिसकर्मी शहीद हुए थे।

पुलिस ने मुनादी के बीच कुर्की की कार्रवाई को अंजाम दिया और रविवार को जय बाजपेयी के ब्रह्मनगर वाले आलीशान घर के सील होने के दौरान उसका उदास परिवार सड़क पर बैठा देखता रहा।

इससे पहले, कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) प्रीतिंदर सिंह ने जिला प्रशासन को एक रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें कहा गया था कि जयकांत बाजपेयी और उसके तीन भाइयों ने अवैध रूप से धन कमाया था और विकास दुबे की आपराधिक गतिविधियों की फंडिंग की थी, जिसके बाद जिला मजिस्ट्रेट ने उसकी करोड़ों की संपत्ति की कुर्की का आदेश दिया।

इनमें 20 करोड़ रुपये के ब्रह्मनगर में चार घर और बंगले, आठ करोड़ रुपये के आर्य नगर में दो फ्लैट, दो करोड़ रुपये की पनकी में एक डुप्लेक्स, स्वरूप नगर में चार करोड़ रुपये का घर और सिंहपुर और बिठूर में सात करोड़ रुपये के प्लॉट शामिल हैं।

बाजपेयी के ब्रह्मनगर स्थित घर को मध्य-रात्रि के अभियान में तीन किरायेदारों से खाली कराने के बाद सील किया गया। इस घर की कीमत पांच करोड़ है। फिर उसी इलाके में एक और घर का एक हिस्सा, जिसे सात साल पहले खरीदा गया था, को भी सील कर दिया गया था।

तीन करोड़ रुपये का एक और मकान सील कर दिया गया जिसमें बाजपेयी की मां और परिवार के अन्य सदस्य रहते थे। बाद में, एक चार-करोड़ का बंगला जिसमें बाजपेयी की पत्नी श्वेता और उसके बच्चे रहते थे, को सील कर दिया गया।

श्वेता ने पत्रकारों से कहा, 'यह सारी संपत्ति भाइयों ने अपनी गाढ़ी कमाई से बनाई है और बिना किसी सत्यापन के सभी संपत्तियों को कुर्क करना अनुचित है। मैं अब अपने बच्चों के साथ सड़क पर हूं। उन्होंने हमें हमारा निजी सामान लेने की अनुमति भी नहीं दी है।'

तहसीलदार अतुल कुमार ने कहा, 'हमने जयकांत की चार अचल संपत्तियों को कुर्क कर लिया है। अन्य संपत्तियां अगले कुछ दिनों में कुर्क कर ली जाएंगी।' सीलिंग अभियान के दौरान पीएसी जवानों के साथ तीन पुलिस थानों के पुलिसकर्मी तैनात थे।

Next Story

विविध

Share it