आंदोलन

किसान नेता गुरुनाम सिंह चढूनी, जगतार सिंह बाजवा, संदीप पाण्डेय होंगे किसानों के संघर्ष में शामिल

Janjwar Desk
6 Nov 2022 2:30 AM GMT
किसान नेता गुरुनाम सिंह चढूनी, जगतार सिंह बाजवा, संदीप पाण्डेय होंगे किसानों के संघर्ष में शामिल
x
Azamgarh Airport News: जमीन मकान बचाओ संयुक्त मोर्चा ने जमुआ हरिराम में महिला किसान-मजदूर पंचायत का आयोजन किया. सिटिज़न फ़ॉर जस्टिस एंड पीस की डॉ0 मुनीज़ा रफ़ीक खान, ऐपवा की कुसुम वर्मा, गांव के लोग से अपर्णा श्रीवास्तव, रामजी यादव, घरेलू कामगार संगठन की धनशीला देवी ने 24 दिन से धरने पर बैठे ग्रामीणों को संबोधित किया.

Azamgarh Airport News: जमीन मकान बचाओ संयुक्त मोर्चा ने जमुआ हरिराम में महिला किसान-मजदूर पंचायत का आयोजन किया. सिटिज़न फ़ॉर जस्टिस एंड पीस की डॉ0 मुनीज़ा रफ़ीक खान, ऐपवा की कुसुम वर्मा, गांव के लोग से अपर्णा श्रीवास्तव, रामजी यादव, घरेलू कामगार संगठन की धनशीला देवी ने 24 दिन से धरने पर बैठे ग्रामीणों को संबोधित किया. पंचायत में 12-13 अक्टूबर की रात सर्वे के नाम पर महिलाओं-बुजुर्गों के साथ हुए उत्पीड़न को गांव की महिलाओं ने बताया. सिटिज़न फ़ॉर जस्टिस एंड पीस की डॉ0 मुनीज़ा रफ़ीक खान ने कहा कि खिरिया की बाग में महिलाओं की भारी संख्या ने ऐलान कर दिया है कि हम जीत रहे हैं.

ऐपवा की कुसुम वर्मा ने कहा कि जीवन-जमीन बचाने की लड़ाई ने पूरे पूर्वांचल को एक बार फिर जगा दिया है कि हम जमीन के मुद्दे पर कोई समझौता करने को तैयार नहीं हैं. आने वाले वक्त में अगर सरकार ने अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का मास्टर प्लान वापस नहीं लिया तो योगी सरकार के लिए यह महंगा सौदा होगा.

गांव के लोग से अपर्णा श्रीवास्तव ने कहा कि सुनने में आ रहा है कि मोदी-योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट है आज़मगढ़ में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट. आखिर ये कैसा सपना जो गांव को उजाड़कर विकास की बात कर रहा है. ये देश गांवों का देश है अगर गांव नहीं बचेंगे तो ये देश नहीं बचेगा.

घरेलू कामगार संगठन की धनशीला देवी ने कहा कि महिलाओं की ताकत ने दिखा दिया है कि हम तय करेंगे कि हम क्या चाहते हैं. विकास के नाम पर जो हवाई जहाज उड़ाने का सपना देखा जा रहा है वो गरीबों को इस जमीन से उड़ा देगा जो हम नहीं होने देंगे. गांव के लोग से रामजी यादव ने कहा कि आज़मगढ़ में जमीन-मकान बचाने का यह आंदोलन अभूतपूर्व है. ये बता रहा है कि बुलडोजर के बल पर गरीबों के आशियानों को नहीं उजाड़ा जा सकता.

गांव की फूलमती, सुनीता, नीलम, सुधा, कालिंदी, सुभावती ने पंचायत में पिछले 24 दिनों के अपने संघर्ष को साझा किया. महिलाओं ने 12-13 को हुए पुलिसिया उत्पीड़न की करवाई के दर्द को साझा किया. सभी ने एक स्वर में कहा कि जमीन-मकान नहीं देंगे, अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का मास्टर प्लान वापस लेने की मांग पुरजोर तरीके से उठी.

जमीन की लूट के खिलाफ रविवार, 6 नवम्बर को जमुआ की खिरिया की बाग में आयोजित किसान पंचायत को हरियाणा, कुरुक्षेत्र के किसान नेता गुरुनाम सिंह चढूनी, उत्तराखंड के किसान नेता जगतार सिंह बाजवा, संदीप पाण्डेय, कमलेश चौधरी, मान सिंह यादव, ललित त्यागी संबोधित करेंगे. महिला-किसान-मजदूर पंचायत की अध्यक्षता किस्मती और संचालन अंजली यादव ने किया.

Next Story

विविध