Top
उत्तर प्रदेश

कानपुर में आईपीएल पर सट्टा लगवाते पकड़े गये 7 सटोरियों से भाजपा के सांसद-विधायक-मंत्रियों तक कनेक्शन

Janjwar Desk
9 Oct 2020 4:40 AM GMT
कानपुर में आईपीएल पर सट्टा लगवाते पकड़े गये 7 सटोरियों से भाजपा के सांसद-विधायक-मंत्रियों तक कनेक्शन
x
पकड़े गए सटोरियों में से एक की तमाम फोटो सोशल मीडिया पर भाजपा विधायकों व मंत्रियों के साथ वायरल हुईं हैं...

मनीष दुबे की रिपोर्ट

जनज्वार, कानपुर। आईपीएल में ऑनलाईन सट्टा खिलवाने वाले सात सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया गया है। यह लोग एप और वेबसाईट के जरिए सट्टा खिलवाने का काम करते थे। पकड़े गए लोगों में अधिवक्ता, कारोबारी, सर्राफ तक शामिल हैं। पुलिस ने इनके पास से 35 लाख रुपये नकद, कुछ रजिस्टर, 10 मोबाईल फोन सहित लैपटॉप भी बरामद किए हैं।

गौरतलब है कि बीते कुछ समय से आईपीएल शुरू होने के बाद पुलिस को लगातार सट्टा खिलवाए जाने की शिकायत मिल रही थी। जिसके बाद एसपी पश्चिम अनिल कुमार व एसपी साऊथ दीपक भूकर की अगुवाई में पुलिस ने बुधवार 8 अक्टूबर की देर रात दर्शनपुरवा तथा कौशलपुरी में छापा मारा। पुलिस पार्टी को मिली सटीक सूचना के बाद मारे गए छापे में सर्राफ अभिषेक गुप्ता निवासी दर्शनपुरवा, मोबाईल कारोबारी अशोक गुप्ता, अशोक शिवकानी उर्फ बब्लू, अधिवक्ता मोहनजीत सिंह उर्फ लकी निवासी लक्ष्मी रतन कॉलोनी, परमिंदर सिंह उर्फ शालू निवासी पनकी बी ब्लॉक सहित सरगना सौरभ गुप्ता व नसीम अहमद निवासी कौशलपुरी को दबोचा है।

नजीराबाद से पकड़े गए सटोरियों का कनेक्शन बीते माह गुमटी से पकड़े गए सट्टा किंग सोनू सरदार से बताया जा रहा है। तो वहीं लकी सरदार का भाई भाजपा से पार्षदी का चुनाव भी लड़ चुका है। पकड़े गए सटोरियों के पास से 35 लाख 32 हजार रूपये नकद, 10 मोबाईल फोन, हिसाब रजिस्टर सहित लैपटॉप भी बरामद किए गए हैं। डीआईजी के मुताबिक पकड़े गए सटोरियों के पास से पुलिस को विदेशी करेंसी भी बरामद हुई है। इसके अलावा बरामद मोबाईल और रजिस्टर से कई नाम सामने आए हैं, जिनकी जांच की जा रही है।

बताया यह भी जा रहा है कि पकड़े गए सटोरियों की निगाह अमेरिका के चुनाव से लगाकर ग्राम पंचायत चुनाव तक रहती थी, जिसमें यह लोग सट्टा लगवाते थे। साथ ही यह लोग पुलिस की हर हरकत पर भी निगाह रखते थे। पुलिस के गुडवर्क से लेकर प्रेसनोट तक एक दूसरे को सतर्क रखा जाता था। सूत्रों का यह भी कहना है कि पुलिस भी इस खेल में शामिल थी। पकड़े गए सटोरियों में से एक लकी सरदार की तमाम फोटो सोशल मीडिया पर भाजपा विधायकों व मंत्रियों के साथ वायरल हुईं, जिसमें भाजपा विधायक सुरेन्द्र मैथानी, जेल मंत्री जय कुमार जैकी, व मेयर प्रमिला पाण्डेय सहित साक्षी महाराज तथा कुलदीप सेंगर के साथ लकी सरदार नजर आ रहा है।

DIG कानपुर प्रितिंदर सिंह ने बताया कि कई दिनों से सूचना मिल रही थी। पकड़े गए सटोरिए वेबसाईट व एप के जरिए आईडी और पासवर्ड बनाते थे। आईडी का लिंक सट्टा खेलने वाले को भेज दिया जाता था। सट्टा खेलने वाला अलग-अलग फार्मेट में पैसा लगाता था।

यह लोग टीम की हार-जीत, स्कोर, 5-5 ओवर का शेसन, रन तथा टॉस जीतने जैसी प्रक्रियाओं पर दांव खेलते थे। डीआईजी ने बताया कि सटोरियों का जाल यूपी महाराष्ट्र महित कई राज्यों में फैला है। आरोपियों के रजिस्टर से कई कारोबारी, होटल मालिकों, अधिवक्ता व नेताओं के नाम भी मिले हैं।

Next Story

विविध

Share it