Top
उत्तर प्रदेश

लखनऊ का एक अपराधी भाई संपत्ति के लालच में अपनी ही अपाहिज बहन की जान का बना दुश्मन

Janjwar Desk
13 Aug 2020 7:27 AM GMT
लखनऊ का एक अपराधी भाई संपत्ति के लालच में अपनी ही अपाहिज बहन की जान का बना दुश्मन
x
मीरा का आरोप है कि उनके भाई रंजीत ने बदनीयती से उनके साथ छेड़खानी की व विरोध करने पर उन्हें जान से मार देने की धमकी दी है....

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में जुर्म इस कदर चरम पर है कि एक भाई ही अपनी अपाहिज बहन की जान का दुश्मन बन चुका है। मुंह से ठांय-ठांय की आवाज निकालकर ही अपराधियों का एनकाउंटर कर देने वाली पुलिस का आलम यह है कि वह अपराध और अपराधियों के पक्ष में खड़ी नजर आने लगी है। ताजा मामला राजधानी लखनऊ का है जहां मुख्यमंत्री से लेकर सूबे के हर छोटा बड़ा अधिकारी, मंत्री कुर्सी पर काबिज हैं। वहीं का जब ये हाल है तो आम जनपदों का भगवान ही मालिक होगा।

दरअसल लखनऊ के पवनपुरी कालोनी के देविखेड़ा आशियाना में रहने वाली मीरा यादव पुत्री रामनरेश यादव अपने पिता के ही घर मे रहती है। साल 2009 में हुए एक एक्सीडेंट के बाद अपाहिज हो चुकी मीरा अविवाहित हैं और पिता के घर मे ही रहकर अपना जीवन जी रही हैं। मीरा की मां का भी 2 साल पहले निधन हो चुका है। मीरा का आरोप है कि उनका अपना भाई रंजीत कुमार यादव संपत्ति के लालच में उनकी जान का दुश्मन बना हुआ है।

रंजीत वांछित अपराधी प्रवत्ति का अय्यास किस्म का युवक है। इसके अलावा रंजीत यादव हत्या सहित कई एक आपराधिक मामलों में जेल काट चुका है। रंजीत का मुख्य काम अपराध करना, फिरौती मांगना इत्यादि बताया जाता है। मीरा का आरोप है कि उनके भाई रंजीत ने बदनीयती से उनके साथ छेड़खानी की व विरोध करने पर उन्हें जान से मार देने की धमकी दी है।


मीरा आगे कहती हैं कि उनके क्रिमिनल भाई रंजीत ने उनसे यहां तक कहा की उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है, वह सबको खरीद लेगा। दो दिन पहले मीरा के भाई ने उनके घर की बिजली काट दी तथा उन्हें जान से मारने का प्रयास किया गया। मीरा का कहना है कि उनका भाई रंजीत उन्हें पुलिस के बल पर उनकी माँ के मकान से निकाल देना चाहता है। भाई के डर व दहशत की वजह से उनके पिता भी उसकी कोई मदद नहीं कर पा रहे हैं।

4 जुलाई 2020 को मीरा ने लगभग सभी पुलिस कार्यालयों में इस संबंध में प्रार्थना पत्र दिया। लेकिन सुनवाई तो दूर की बात पुलिस ने उनसे इस मामले में किसी भी प्रकार की सहायता करने से ही इनकार कर दिया। पुलिस द्वारा यह कहने पर की 'यह एक पारिवारिक मामला है' के बाद मीरा के मनबढ़ भाई ने उन्हें घर से बेघर कर दिया और अब उनकी जान के पीछे पड़ा हुआ है। मीरा का कहना है कि यदि उनकी जान माल पर कोई दिक्कत आती है तो इसकी जिम्मेदार पुलिस होगी।

मामले में ऑल इंडिया प्रोग्रेसिव वुमन एसोसिएशन की पदाधिकारी मीना सिंह ने जनज्वार से संपर्क कर मीरा यादव की मदद किये जाने की अपील की है। मीना सिंह ने जनज्वार को बताया आशियाना में रहने वाली मीरा को उनका भाई मकान हड़पने के लिए आएदिन परेशान करता है। अपराधी किस्म का रंजीत मीरा की हत्या करना चाहता है। मीरा की माँ का देहांत हो चुका है तथा पिता रेलवे से रिटायर हैं। मीना सिंह ने जनज्वार को बताया कि पुलिस मीरा के भाई रंजीत के पक्ष में स्टैंड ले रही है।


मीना सिंह आगे कहती हैं कि अभी दो दिन पहले मीरा के घर की बिजली काटकर उसकी हत्या करने का प्रयास किया गया। तब मीना सिंह उन्हें अपने साथ के आईं थी और उक्त मामले में पुलिस को सूचित किया था। आज सुबह 13 अगस्त को क्षेत्रीय चौकी से आये एक दरोगा मीरा को अपने साथ ले गए तथा उसके भाई को भी चौकी ले गए हैं। मीरा का फ़ोन भी छीन लिया गया है जिसके चलते उनसे संपर्क भी टूट गया है। आज सुबह उसके भाई ने मीरा पर जानलेवा हमला किया था।

Next Story
Share it