Top
उत्तर प्रदेश

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी की फिर बढ़ी मुश्किलें, एक और एफआईआर दर्ज

Janjwar Desk
3 April 2021 3:20 PM GMT
शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी की फिर बढ़ी मुश्किलें, एक और एफआईआर दर्ज
x

शाहजहांपुर। कुरान की कुछ आयतों को हटाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी की मुश्किलें थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। उनके खिलाफ शाहजहांपुर में एफआईआर दर्ज हुई है। कुरान-ए-पाक की 26 आयतों को निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन को लेकर पहले भी बवाल खड़ा हो चुका है।

मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ का है जहां वसीम रिजवी पर आरोप है कि उन्होंने गलत बयानबाजी कर मुस्लिमों को भड़काया है। इस मामले पर सदर थाने में चार वकीलों हाजी इम्तियाज अली, एजाज हसन खां, अजमल हसन खां, एनी इरशाद और नूरी मस्जिद इमाम मौलाना शरीफ ने वसीम रिजवी के खिलाफ एफआईआर लिखने के लिए तहरीर दी थी जिसके तहत एफआईआर दर्ज की गई हैं।

वसीम रिजवी पश्चिमी लखनऊ के कश्मीरी मोहल्ला के निवासी हैं। उन्होंने पिछले दिनों कुरान-ए-पाक की 26 आयतों को निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इसको लेकर उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले समेत कई जगहों पर उनके खिलाफ प्रदर्शन हुए। रिजवी पर धार्मिक उन्माद और अराजकता फैलाने का आरोप है।

उनके खिलाफ दी गई तहरीर और एफआईआर के तहत कई आरोप लगाए गए हैं। वसीम रिजवी पर कई आपराधिक केस पहले से चल रहे हैं। कुछ केस में सीबीआई भी रिपोर्ट दर्ज कर चुकी हैं। सीबीआई जांच भी कर रही है।

वकीलों का आरोप है कि वसीम एक सोची समझी रणनीति के तहत सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाकर न्यूज चैनल और समाचार पत्रों में साक्षात्कार देकर देश में धार्मिक उन्माद और अराजकता फैलाने का काम कर रहे हैं। जबकि कुरान में किसी तरह की फेरबदल और किसी भी भाग या अंश को समाप्त नहीं किया जा सकता। रिजवी पर आईपीसी की धारा 295-ए के तहत केस दर्ज किया गया है।

Next Story

विविध

Share it