Top
उत्तर प्रदेश

विकास की गिरफ्तारी से ठीक पहले हुआ था महाकाल थानाध्यक्ष का ट्रांसफर !

Janjwar Desk
9 July 2020 1:22 PM GMT
विकास की गिरफ्तारी से ठीक पहले हुआ था महाकाल थानाध्यक्ष का ट्रांसफर !
x
कांग्रेस नेता के.के. मिश्रा ने पूछा कि 'यह संयोग है या षड्यंत्र? विकास दुबे के राजनैतिक सरेंडर के पूर्व कल ही महाकाल थाने के प्रभारी वास्केल का तबादला कर अरविंद तोमर को लाया गया। विकास कानपुर से सटे 56 क्षेत्रों का भाजपा प्रभारी रहा है....

उज्जैन। कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के वरिष्ठ नेता और ग्वालियर-चंबल संभाग के मीडिया प्रभारी के. के. मिश्रा ने उत्तर प्रदेश के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की गिरफ्तारी से पहले महाकाल थाने के प्रभारी के तबादले पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि यह संयोग है या षड्यंत्र। कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिस जवानों की हत्या का आरोपी उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गरुवार सुबह गिरफ्तार किया गया है। उसे पकड़ने में निजी सुरक्षा एजेंसी के कर्मचारी की अहम भूमिका है।

कांग्रेस नेता के.के. मिश्रा ने ट्वीट कर कहा, 'यह संयोग है या षड्यंत्र? विकास दुबे के राजनैतिक सरेंडर के पूर्व कल ही महाकाल थाने के प्रभारी वास्केल का तबादला कर अरविंद तोमर को लाया गया। विकास कानपुर से सटे 56 क्षेत्रों का भाजपा प्रभारी रहा है! यूपी पुलिस विकास का एनकाउंटर चाह रही थी, भाजपा बचाना? फरारी में क्लीन सेव जैसे दूल्हा, वाह?'

के. के. मिश्रा लिखा है कि 'मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा यूपी चुनाव में कानपुर के प्रभारी थे। आगे आप खुद समझदार हैं।' उन्होंने आगे कहा, 'शिवराज जी, आप कह रहे हैं महाकाल में आने से किसी के पाप नहीं धूल जाएंगे। प्रश्न यह है कि महाकाल (उज्जैन) तक वह प्रदेश की किस सीमा से घुसा? मंदिर प्रवेश ऑनलाइन है, आधार कार्ड किसका है, क्या इतने कुख्यात आरोपी को एक निहत्था सुरक्षाकर्मी पकड़ सकता है? आप ट्वीट नहीं, कुहासा स्पष्ट कीजिए!'

वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने विकास की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए कहा, 'यह तो उत्तर प्रदेश पुलिस के एनकाउंटर से बचने के लिए प्रायोजित सरेंडर लग रहा है। मेरी सूचना है कि मध्य प्रदेश भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के सौजन्य से यह संभव हुआ है।'

उज्जैन में विकास की गिरफ्तारी और आत्मसमर्पण को लेकर विवाद बना हुआ है। सरकार उसकी गिरफ्तारी की बात कह रही है, मगर कांग्रेस आत्मसमर्पण की बात कह रही है और इसमें भाजपा के एक नेता की भी भूमिका पर सवाल उठा रही है। इस बात का खुलासा नहीं हो रहा है कि विकास गुरुवार की सुबह ही उज्जैन पहुंचा था या उससे पहले आ चुका था।

राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि विकास स्वयं की गाड़ी से उज्जैन आया था। उसके दो साथी बिटटू और सुरेश को भी गिरफ्तर किया गया है। कानपुर की घटना के बाद से ही पूरे राज्य की पुलिस अलर्ट पर थी। पूरी निगाह रखी जा रही थी और मध्य प्रदेश की पुलिस को इसमें सफलता मिली।

Next Story

विविध

Share it