Top
उत्तर प्रदेश

कानपुर इनकाउंटर : संदेह के घेरे में चौबेपुर थाने के पुराने कर्मी, दस नए पुलिस कर्मियों की तैनाती

Janjwar Desk
7 July 2020 3:57 AM GMT
कानपुर इनकाउंटर : संदेह के घेरे में चौबेपुर थाने के पुराने कर्मी, दस नए पुलिस कर्मियों की तैनाती
x
चौबेपुर थाने में पुराने कर्मियों पर संदेह की वजह से कानपुर एसएसपी ने 10 नए कर्मचारियों की तैनाती की है...

जनज्वार। कानपुर देहात के बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे गिरोह द्वारा दो-तीन जुलाई की मध्यरात्रि आठ पुलिस कर्मियों की हत्या किए जाने के मामले में चौबेपुर थाना में तैनात एसएचओ विनय तिवारी से लेकर लगभग सभी अन्य पुलिसकर्मी संदेह के घेरे में हैं। ऐसे में कानपुर पुलिस ने वहां नए पुलिस कर्मियों की तैनाती का कदम उठाया है।


कानपुर के सीनियर एसपी दिनेश कुमार पी के आदेश पर चौबेपुर थाने में तत्काल प्रभाव से 10 नए पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। इस पुलिस कर्मियों को पुलिस लाइन से वहां भेजा जा रहा है। मालूम हो कि चौबेपुर थाने में पहले से थानाध्यक्ष विनय तिवारी सहित चार पुलिस कर्मियों को सस्पेंड किया जा चुका है। सस्पेंड किए गए तीन अन्य पुलिसकर्मियों में दो सब इंसपेक्टर और एक सिपाही शामिल हैं।

एसएचओ विनय तिवारी पर गैंगस्टर विकास दुबे का खबरी होने का आरोप है और पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। यह बात सामने आयी है कि घटना की रात पुलिस के छापेमारी के लिए रवाना होने से पहले चौबेपुर थाने से विकास दुबे के पास एक फोन गया था, जिसके बाद वह अलर्ट हो गया और उसने 25 से 30 लोगों को हथियार के साथ अपने घर की छत पर जुटा लिया और पुलिस पर ही हमला कर दिया।

कानपुर के आइजी मोहित अग्रवाल के अनुसार, चैबेपुर थाने में पहले से तैनात सभी पुलिस कर्मियों की भूमिका को जांच के दायरे में लिया गया है। जाहिर है ऐसे में नए पुलिसकर्मियों की तैनाती करना आवश्यक हो जाता है।

Next Story

विविध

Share it