Top
उत्तर प्रदेश

लगातार 20वें दिन पेट्रोल डीजल की कीमतों में हुई बढ़ोत्तरी, विरोध कर रहे सपाइयों पर लाठीचार्ज

Janjwar Desk
26 Jun 2020 2:54 PM GMT
लगातार 20वें दिन पेट्रोल डीजल की कीमतों में हुई बढ़ोत्तरी, विरोध कर रहे सपाइयों पर लाठीचार्ज
x
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने कार्यकर्ताओं पर हुए लाठीचार्ज को 'घोर अलोकतांत्रिक, निंदनीय कृत्य' करार दिया....

जनज्वार ब्यूरो/लखनऊ। कोरोना महामारी के बीच पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार 20वें दिन हुई बढ़ोत्तरी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं पर योगी सरकार की पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया। वहीं समाजवादी पार्टी ने इसे कायरतापूर्ण कृत्य बताते हुए कहा है कि इसके खिलाफ सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष जारी रहेगा।

समाजवादी पार्टी ने अपने आधिकारिक फेसबुक अकाउंट से एक पोस्ट में लाठीचार्ज की कुछ तस्वीरों को साझा करते हुए लिखा, 'जनता की आवाज को लाठी के जोर पर दबाने की कोशिश कर रहे CM! सरकार द्वारा बेतहाशा बढ़ाए डीजल-पेट्रोल के दामों से बेहाल जनता की आवाज उठाने के लिए विधानसभा के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे सपाइयों पर बर्बर लाठीचार्ज कायरतापूर्ण कृत। सड़क से लेकर सदन तक जारी रहेगा संघर्ष!'

वहीं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बेरोजगारी, महंगाई व कानून के खिलाफ सपा के कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन पर लाठीचार्ज बता रहा है कि प्रदेश की असफल भाजपा सरकार किस तरह से जहता की आवाज को लगातार दबा रही है। अखिलेश यादव ने इसे 'घोर अलोकतांत्रिक, निंदनीय कृत्य' करार दिया।

बता दें कि 20वें दिन के इज़ाफे के बाद बाद दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 80.13 रुपये हो गई है और एक लीटर डीजल के लिए आपको 80.19 रुपये चुकाने होंगे। इस तरह 20 दिन में डीजल 10.80 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। पेट्रोल की कीमतों में भी लगभग 10 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसके अलावा अपने कार्यकाल के कामों को भी गिनवाया इसके अलावा रोजगार के मसले पर भी सरकार को घेरा। अखिलेश ने कहा है कि 70 सालों में जो मुमकिन न हुआ वो भाजपा राज में जुमलों में पूरा हो जाता है। मेहनत कोई करे उसका श्रेय तो उसके जबरन दावेदार को ही दे दिया जाएगा। भाजपा राज में समाजवादी सरकार के समय के कामों पर अपने नाम का ठप्पा लगाकर ही वाहवाही लूटी जाती रही है।

'कुशीनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए समाजवादी सरकार में 200 करोड़ रूपये जमीन खरीदने और 200 करोड़ रूपए रनवे, बाउण्ड्री और अन्य निर्माण हेतु दिया गया। मगर भारत सरकार द्वारा प्रोजेक्ट की मंजूरी मिलने की खब़र को ऐसे प्रचारित किया जा रहा है जैसे उन्होंने ही सब कुछ किया है। ऐसे ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के सम्बंध में भी भाजपा ने झूठ का सहारा लिया। एक्सप्रेस-वे समाजवादी सरकार की देन है। भाजपाई जबरन उसे अपने काम में गिनते हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा ने आज 1.25 करोड़ लोगों को रोजगार देने का ऐसा ड्रामा किया जिसकी दूसरी मिसाल मिलना मुश्किल है। उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार कई इन्वेस्टमेंट मीट करा चुकी, कई एमओयू होने की खब़रे छपीं, लेकिन अभी तक कहीं एक भी कारखाना लगने की सूचना नहीं है। किसी बैंक ने किसी उद्योगपति को लोन नहीं दिया। कहीं भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही नहीं शुरू हुई।

अखिलेश यादव के मुताबिक, आत्मनिर्भर रोजगार का दूसरा झूठ यह है कि यहां पहले से कुम्हार, हलवाई, राजमिस्त्री आदि अपने धंधे करते रहे हैं। नोटबंदी के बाद लाॅकडाउन ने उनका कामकाज ठप्प कर दिया है। प्रदेश की भाजपा सरकार लघु और छोटे उद्योगों की केवल प्रेस विज्ञप्तियों में चिंता करती है अन्यथा उसका सारा ध्यान बड़े उद्योगपतियों के आवभगत में रहता है। श्रमिकों को एक हजार की राहत देने से उनकी जिंदगी में कौन-बदलाव आएगा? समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता गांव-गांव जानकारी लेंगे कि कहाँ-किसे भाजपा सरकार में काम मिला है?

'रोजगार के लिए जब तक उचित वातावरण नहीं बनेगा कोई उद्योगपति उत्तर प्रदेश में क्यों आएगा? यहां जीएसटी, नोटबंदी, लाॅकडाउन के अलावा कानून व्यवस्था की बिगड़ी स्थिति चिंता पैदा करती है। उत्तर प्रदेश को योगी सरकार ने हत्या प्रदेश बना दिया है। अपराधों से लोग आतंकित है। बिजली-पानी का भी प्रदेश में संकट है। भाजपा सरकार में एक यूनिट बिजली का उत्पादन नहीं हुआ। जो बिजलीघर बने हैं समाजवादी सरकार के समय के हैं। नौकरशाही प्रदेश के विकास में बड़ी बाधा है।'

उन्होंने आगे कहा कि रोजगार के झूठे दावों की वजह से ही भाजपा सरकार आज तक नए औद्योगिक संस्थानों का ब्योरा नहीं दे पाई है। नौजवानों को रोजगार नहीं मिलने से उनके सामने भविष्य का अंधेरा है। जब पहले से ही युवा बेरोजगार घूम रहा है तब दूसरे प्रदेशों से आए युवाओं को कहां रोजगार मिल पाएगा? जब बड़े संस्थान नहीं तो कुशल कार्मिको को कहां नौकरी मिलेगी? अंततः उन्हें वापस फिर दूसरे प्रदेशों में जाना पड़ेगा।

'स्थानीय कारीगरों के लाभ के लिए समाजवादी सरकार में लखनऊ में अवध शिल्पग्राम की स्थापना की गई थीं भाजपा सरकार के समय वहां सन्नाटा पसरा रहता है। सिंगल अथवा डबल इंजन की सरकारें सिर्फ सपने दिखाने और लोगों को बहकाने में माहिर है। भाजपा को अब धोखा देने की सीमा तय कर लेनी चाहिए। संकट बढ़ता जा रहा है, मर्ज बढ़ता जा रहा है। आज राज्य सरकार दिलासा देकर दिन काट रही है।'

Next Story

विविध

Share it