उत्तर प्रदेश

Prayagraj News: बेटे का शव कंधे पर लाद घर पहुंचा, मामले में बिजली विभाग के तीन अधिकारी सस्पेंड, मुख्य अभियंता समेत दो को चार्जशीट

Janjwar Desk
5 Aug 2022 10:51 AM GMT
Prayagraj News: बेटे का शव कंधे पर लाद घर पहुंचा, मामले में बिजली विभाग के तीन अधिकारी सस्पेंड, मुख्य अभियंता समेत दो को चार्जशीट
x

Prayagraj News: बेटे का शव कंधे पर लाद घर पहुंचा, मामले में बिजली विभाग के तीन अधिकारी सस्पेंड, मुख्य अभियंता समेत दो को चार्जशीट

Prayagraj News: चार दिनों पहले एक अगस्त को यूपी के प्रयागराज जिले में मानवता को झकझोर देने वाली घटना सामने आयी थी। पिता के पास इतने पैसे नहीं थे कि बेटे के शव को एम्बुलेंस से ले जा सके।

Prayagraj News: चार दिनों पहले एक अगस्त को यूपी के प्रयागराज जिले में मानवता को झकझोर देने वाली घटना सामने आयी थी। पिता के पास इतने पैसे नहीं थे कि बेटे के शव को एम्बुलेंस से ले जा सके। जो पैसे थे बेटे के इलाज में खर्च कर दिये थे। कही और से मदद नहीं मिली तो कंधे में शव को लादकर कंरीब 25 किलो मीटर दूर घर जा पहुंचा था। जिसने भी देखा सभी के दिलदहल गये थे। किशोर की मौत करंट की चपेट में आने से हुई थी। मामले में बिजली विभाग के पांच अधिकारियों पर गाज गिर गई है। प्रकरण से संबंधित पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के तीन अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। मुख्य अभियंता समेत दो अधिकारियों को चार्जशीट दिया गया है। तो वहीं मामले में कुशल श्रमिक रामजियावन को हटा दिया गया है

सभी पर संवादहीनता और लापरवाही का आरोप

बताया जा रहा है कि लापरवाही के मामले में पहली बार किसी मुख्य अभियंता को चार्जशीट दिया गया है। पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक विद्याभूषण की इस कार्रवाई से विभाग में हड़कंप मचा है। अभी कई और अधिकारियों पर संबंधित प्रकरण में गाज गिर सकती है।

इन पर हुई कार्रवाई

मुख्य अभियंता विनोद कुमार गंगवार, अधीक्षण अभियंता प्रशांत सिंह को चार्जशीट दी गई है। अवर अभियंता आशीष, एसडीओ अमित गुप्ता, अधिशासी अभियंता अभिषेक कुमार को निलंबित कर दिया गया है। कुशल श्रमिक रामजियावन को हटा दिया गया है।

ये है पूरा मामला

प्रयागराज के करछना थाना क्षेत्र के रामपुर उपरहार गांव निवासी मजदूर बजरंगी यादव का 10 वर्षीय पुत्र शुभम की एक अगस्त सोमवार को करंट की चपेट में आने से मौत हो गई। खेलने के दौरान बिजली के खंभे में लगे स्टे तार को छूने से वह करंट की चपेट में आ गया था। अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव घर ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली। कहीं और से भी कोई मदद नहीं मिली।

इसके बाद बजरंगी और उसकी पत्नी सविता बेटे का शव कंधे पर रख करीब पचीस किलोमीटर दूरी पैदल तय कर अपने गांव तक गए। शव घर लाकर लोगों ने बिजली विभाग के खिलाफ हंगामा किया। इस मामले में बिजली विभाग के खिलाफ थाने में तहरीर भी दी गई। इसी बीच कंधे पर बेटे का शव ले जाने का वीडियो वायरल हुआ तो प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। शुक्रवार को प्रकरण की जांच के बीच बिजली विभाग के चार अधिकारियों पर गाज गिर गई। सूत्रों की माने कई अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही हो सकती है।

Next Story

विविध