उत्तर प्रदेश

UP : वाराणसी में सामने आया मौतों का घपला तो पूर्व IPS ने ली चुटकी कहा फिर लगा दो मुझ पर देशद्रोह

Janjwar Desk
18 May 2021 8:03 AM GMT
UP : वाराणसी में सामने आया मौतों का घपला तो पूर्व IPS ने ली चुटकी कहा फिर लगा दो मुझ पर देशद्रोह
x

रिटायर्ड आईएएस सूर्यप्रताप सिंह ने योगी सरकार को लिया निशाने पर, कहा कोरोना मौतों को छिपाने का खेल है जारी

अस्पताल में 250 बेड वाले आईसीयू में अब तक 340 मरीजों को भर्ती किया जाना बताया जा रहा है। जबकि 10 मई से 17 मई यानी 8 दिन में यहां 150 लोगों की मौत हो चुकी है। और तो मौतों के आंकड़े लगातार बढ़ ही रहे हैं...

जनज्वार, लखनऊ। अस्पतालों में अस्थाई कोविड मरीजों की हुई मौत पर बहस छिड़ गई है। यहां होने वाली मौतों के आंकड़े सोशल मीडिया में पोस्ट करने के साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं में बेहतरी किए जाने की मांगे भी उठने लगी हैं।

बीएचयू में 10 मई से शुरू अस्पताल में 250 बेड वाले आईसीयू में अब तक 340 मरीजों को भर्ती किया जाना बताया जा रहा है। जबकि 10 मई से 17 मई यानी 8 दिन में यहां 150 लोगों की मौत हो चुकी है। और तो मौतों के आंकड़े लगातार बढ़ ही रहे हैं।

इस मसले पर पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ट्वीट करते हैं कि 'कल सरकारी आँकड़ों के मुताबिक बनारस में मात्र 7 मृत्यु हुई। रिपोर्ट्स कहती हैं सिर्फ DRDO अस्पताल में पिछले 7 दिनों में 130 से अधिक मौतें हो चुकी हैं। अब @varanasipolice चाहे तो मेरे ऊपर एक और देशद्रोह की धारा लगा दे।'

मौत के बढ़ते आंकड़ों को लेकर बहस शुरू हो गई है। आईएमएस बीएचयू कार्डियोलॉजी विभाग के प्रोफेसर ओम शंकर ने अपने फेसबुक पेज पर अस्पताल में भर्ती मरीजो तथा मौतों का आंकड़ा दिया है। प्रोफेसर ने लिखा है कि '7 दिनो में 320 मरीज भर्ती हुए जिनमें 130 की मौत हो गई।'

प्रोफेसर ओम शंकर आगे लिखते हैं कि 'अस्पताल में मौत अधिक हो रही है। इन सभी मौतों की जांच के साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार की बेहद जरूरत है।' बता दें कि प्रोफेसर के इसी बयान के बाद ही वाराणसी स्वास्त महकमें में नई बहस शुरू हो गई है।

इस मामले पर वाराणसी के मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल का कहना है कि 'मंगलवार 18 मई से 250 ऑक्सीजन युक्त बेड और शुरू जा रहे हैं। मरीजों के परिजनों को स्वास्थ की जानकारी सहित वेबसाईट पर भी अपडेट कराया जा रहा है। व्यवस्था में सुधार के निर्देस दिए गए हैं जिसकी निगरानी भी कराई जा रही है।'

Next Story

विविध