उत्तर प्रदेश

UP News : सीएम योगी ने क्यों की अखिलेश की राहुल से तुलना, ये है बड़ी वजह

Janjwar Desk
31 May 2022 10:00 AM GMT
UP  News : दिनेश खटीक ने फोड़ा लेटर बम तो अखिलेश योगी पर कसा तंज, कहा - कभी-कभी बुलडोजर उल्टा भी चलता है
x

UP News : दिनेश खटीक ने फोड़ा लेटर बम तो अखिलेश योगी पर कसा तंज, कहा - कभी-कभी बुलडोजर उल्टा भी चलता है

UP News : सीएम योगी ने कहा कि बच्चे मन सच्चे यानि भोले-भाले होते हैं, जो बोला होगा वह बहुत सोच समझकर ही बोला होगा, वैसे भी अखिलेश और राहुल गांधी में बहुत ज्यादा फर्क नहीं है।

UP News : उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के वर्तमान सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi adityanath ) और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ( Akhilesh Yadav ) के बीच सियासी तौर पर छत्तीस आंकड़ा जगजाहिर है। मंगलवार को यूपी विधानसभा में बजट पर चर्चा के दौरान भी उसकी झलक दिखाई दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर तंजिया लहजे में कहा कि अखिलेश यादव और राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) में ज्यादा फर्क नहीं है। बस एक फर्क है, राहुल देश के बाहर देश की बुराई करते हैं और आप प्रदेश के बाहर प्रदेश की बुराई करते हैं।

योगी ने ऐसा क्यों कहा?

दरअसल, यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सोमवार यानि 30 मई को बजट पर बोलते हुए बेसिक शिक्षा पर सवाल उठाया और अपने मुख्यमंत्रित्व कार्यकाल की एक घटना का जिक्र करते हुए कहा था कि मैं एक बार एक स्कूल में गया और बच्चे से पूछा कि मुझे जानते हो? बच्चे ने कहा हां, आप राहुल गांधी हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के इस बयान पर पूरा सदन ठहाके से गूंज उठा था। अखिलेश यादव के उसी बयान पर मंगलवार 31 मई को सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi adityanath ) ने कहा कि बच्चे मन सच्चे यानि भोले-भाले होते हैं, जो बोला होगा वह बहुत सोच समझकर ही बोला होगा, वैसे भी अखिलेश और राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) में बहुत ज्यादा फर्क नहीं है, बस एक फर्क है, राहुल गांधी देश के बाहर देश की बुराई करते हैं और आप प्रदेश के बाहर प्रदेश की बुराई करते हैं।

सीएम योगी ने इस बात का किया जिक्र?

इन दिनों सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi adityanath ) प्रतिपक्ष के नेता अखिलेश यादव ( Akhilesh Yadav ) पर ज्यादा मेहरबान हैं। बच्चों वाले प्रसंग की तरह भैंस के गोबर वाले बयान पर तंज कसते हुए सीएम ने कहा कि आज तो गोबर से अगरबत्ती भी बन रहा है। यदि अगर आप पूजा करते होंगे तो अगरबत्ती जरूर जलाते होंगे। मुझे लगता है कि अगर नेता प्रतिपक्ष गायमाता की सेवा किए होते तो गौमाता की भाषा बोले होते, लेकिन भैंस के दूध का ज्यादा असर भाषण में दिखाई दे रहा था।

आज कल तो लोग गाते-गाते चिल्लाने लगे हैं

यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi adityanath ) मंगलवार को भी शायरना अंदाज दिखे। उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष अपने बजट भाषण में मुद्दों को बढ़ाते हुए कुछ ऐसी बाते कह गए, जिसका खामियाजा प्रदेश अतीत में भोग चुका है। उन्होंने शायर दुष्यंत कुमार की पंक्तियों का जिक्र करते हुए कहा कि कैसे—कैसे मंजर सामने आने लगे हैं, गाते गाते लोग चिल्लाने लगे हैं।

समाजवाद के बहाने ही सही जिक्र तो किया

इसी तरह यूपी विधानसभा सत्र के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ( Yogi adityanath ) ने कहा कि मंगलवार को एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री द्वारा चलाई गई योजनाओं की चर्चा हो रही थी, माननीय नेता प्रतिपक्ष ( Akhilesh Yadav ) कह रहे थे कि ये समाजवाद है, अच्छा है कि कम से कम समाजवाद के बहाने ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की गरीब कल्याणकारी योजनाओं को स्वीकार किया।इसके बाद सीएम ने कहा कि सदन में सोच समझकर टिप्पणी होनी चाहिए। भाजपा समस्या का समाधान लेकर आती है। हम अब तक का सबसे बड़ा बजट लेकर आए। हमने विकास के कार्यों पर ज्यादा राशि खर्च की। यूपी में प्रति व्यक्ति की आय को दोगुना किया। साल 2016-17 में जो प्रदेश का बजट आया था वो लगभग 3 लाख करोड़ रुपए का था और आज 2022 में सदन में जो बजट पेश हुआ है वो 6 लाख 15 हज़ार करोड़ रुपए का है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध