उत्तर प्रदेश

UP : योगी सरकार का नया फरमान, 7442 मदरसों की जांच के लिए कमेटी गठित, मंडराया खतरा

Janjwar Desk
27 April 2022 1:56 AM GMT
UP : योगी सरकार का नया फरमान, 7442 मदरसों की जांच के लिए कमेटी गठित, मंडराया खतरा
x
Madarsa Adhunikikaran Scheme : योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए उत्तर प्रदेश के 7442 मदरसों की जांच के आदेश दिए हैं। अब जांच कमेटी मौके पर पहुंचकर हर मदरसे का भौतिक सत्यापन करेगी।

Madarsa Adhunikikaran Scheme : उत्तर प्रदेश आधुनिक मदरसा योजना ( MAY ) में अनियमितताओं से संबंधित सूचना सामने आने के बाद योगी सरकार ( Yogi government ) ने इस मामले में जांच ( investigation ) के आदेश दिए हैं। जांच के तहत अब भवन, भूमि, किरायानामा, शिक्षकों और छात्रों की भौतिक जांच की जाएगी। इस काम को सही तरीके से अंजाम देने के लिए योगी सरकार ने जांच कमेटी ( investigation committee ) बना दी गई है। जांच कमेटी को 15 मई तक रिपोर्ट मुहैया कराने को कहा है।

सरकार को मिली थी फर्जी मदरसों की सूचना

उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) सरकार ने यह फैसला कुछ जिलों में कागजों में चल रहे फर्जी मदरसों की शिकायत मिलने के बाद लिया है। जांच कमेटी संबंधित जिलों में मदरसों की स्थिति की समीक्षा कर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। सरकार द्वारा गठित जांच कमेटी को 15 मई तक रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए गए हैं। इस बाबत जांच के लिए मदरसा शिक्षा परिषद रजिस्ट्रार ने समस्त जिलाधिकारियों को पत्र भेज दिया गया है।

7442 मदरसों को मिल रहा है MAY का लाभ

बता दें कि मदरसा आधुनिकीकरण योजना ( MAY ) के तहत उत्तर प्रदेश में 7442 मदरसे चल रहे हैं। इस योजना के तहत मुस्लिम बच्चों को आधुनिक शिक्षा देने पर जोर दिया जाता है। इसके लिए प्रत्येक मदरसे में 3 अतिरिक्त शिक्षक रखे जाते हैं। उसमें स्नातक शिक्षकों को 6 हजार और परास्नातक शिक्षकों को 12 हजार रुपए दिए जाते हैं। यूपी सरकार भी इन शिक्षकों को अपनी तरफ से अतिरिक्त मानदेय देती है। इन मदरसों में कुल 21,126 शिक्षक पढ़ाते हैं।

इसके बावजूद सरकार को यह खबर मिली कि कुछ मदरसे सिर्फ कागजों पर ही चल रहे हैं। इसके बाद राज्य सरकार ने सभी 7,442 मदरसों की जांच करवाने का ऐलान कर दिया। ऐसी शिकायतें आई थीं कि एक ही सोसाइटी कई मदरसों का संचालन कर रही है।

राष्ट्र गान गाना अनिवार्य

इससे पहले 25 मार्च, 2022 को योगी आदित्यनाथ की सरकार ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड ने फरमान जारी किया था कि सभी मदरसों में सुबह की प्रार्थना के साथ ही राष्ट्र गान भी अनिवार्य रूप से गाया जाए। मदरसा शिक्षा बोर्ड राज्य के मदरसों में शिक्षा के विषय का मूल संस्थान है। चौंकाने वाली बात यह है कि किसी अन्य शिक्षण संस्थान के लिए ऐसा कोई आदेश जारी नहीं हुआ है। अभी तक स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अलावा राष्ट्र गान को गाना वैकल्पिक ही रहा है, न कि अनिवार्य। अब मदरसा शिक्षा बोर्ड ने यह कहते हुए मदरसों में इसे अनिवार्य कर दिया है कि इससे "मदरसे के छात्रों में भी देश भक्ति और राष्ट्र भावना उत्पन्न होगा और वे इस बहाने देश के इतिहास और संस्कृति को समझ सकते हैं।

Madarsa Adhunikikaran Scheme : वर्तमान में यूपी में 560 स्थाई मदरसे हैं जोकि बोर्ड से मान्यता प्राप्त हैं। मदरसा बोर्ड के चेयरमैन इफ्तिखार अहमद जावेद ने इस विषय में मीडिया से कहा कि राष्ट्र गान को गाना अनिवार्य किए जाने के साथ ही नए सत्र से मदरसा शिक्षकों की बायोमीट्रिक उपस्थिति भी अनिवार्य की जा रही है। साथ ही छात्रों की ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था भी की जा रही है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध