Top
आंदोलन

मात्र 2 हफ्ते में बेरोजगारी दर हुई 8 से 23 फीसदी, भारत में भूख और बेकारी बनेगी सबसे बड़ी समस्या

Nirmal kant
7 May 2020 3:17 PM GMT
मात्र 2 हफ्ते में बेरोजगारी दर हुई 8 से 23 फीसदी, भारत में भूख और बेकारी बनेगी सबसे बड़ी समस्या
x

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी केे आंकड़ों के अनुसार केवल अप्रैल माह में लॉकडाउन से करीब 12 करोड़ लोगों ने खो दी नौकरी...

जनज्वार ब्यूरो। मुंबई स्थित थिंक टैंक सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, 3 मई को जब सप्ताह समाप्त हुआ तो भारत में बेरोजगारी दर अभूतपूर्व 27.11 प्रतिशत थी। शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी दर मामूली रूप से 29.22% थी जबकि ग्रामीण बेरोजगारी दर 26.16% थी।

प्रैल के महीने के लिए बेरोजगारी की दर मार्च के अंत में 8.74% से 23.52% तक बढ़ गई, जो कोरोनावायरस के कारण राष्ट्रीय लॉकडाउन में केवल दो सप्ताह थी। फरवरी के महीने में 7.78% की बेरोजगारी दर दर्ज की गई जो मार्च के लिए लगभग 9% हो गई, वह भी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के केवल दो सप्ताह के भीतर। फरवरी के महीने में 7.78% की बेरोजगारी दर दर्ज की गई जो मार्च के लिए लगभग 9% हो गई।

संबधित खबर : लोगों को शराब पिलाकर सरकारें जुटाती हैं 20 फीसदी तक राजस्व, सिर्फ 40 दिन में हुआ है 27 हजार करोड़ से अधिक का नुकसान

'द क्विंट' की रिपोर्ट के अनुसार, सीएमआईई के सीईओ महेश व्यास ने कहा कि बेरोजगारी की दर बद से बदतर होने की उम्मीद है क्योंकि लॉकडाउन जारी है। उन्होंने कहा कि आबादी का अधिक कमजोर वर्ग जोखिम में है और इसके बाद औपचारिक क्षेत्र को भी नुकसान होगा।

सीएमआईई के आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल में नौकरी खोने की सूचना देने वाले 91% छोटे व्यापारी और मजदूर थे, इसके बाद उद्यमी (18.2%) और वेतनभोगी कर्मचारी (17.8%) थे। व्यास ने बताया कि अप्रैल के महीने में 122 (करीब 12 करोड़) मिलियन लोगों ने नोकरी खो दी। 2019-220 के औसत रोजगार में 404 मिलियन (30 प्रतिशत)की गिरावट आयी है। छोटे व्यापारियों और मजदूरों में अनुमानित 91 मिलियन या इस श्रेणी के 70% लोगों ने आजीविका के नुकसान की सूचना दी।

संबधित खबर : नोबेल विजेता अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी का स्पष्ट सुझाव, अर्थव्यवस्था पटरी पर लाने के लिए लोगों को सीधे पैसे दे सरकार

र्थशास्त्रियों और शोधकर्ताओं ने कहा कि वर्तमान में बेरोजगारी का स्केल अभूतपूर्व देखा गया है और यह पिछले वर्षों से अलग है। वर्तमान में बेरोजगारी दर नोटबंदी के समय की बेरोजगारी दर की तुलना में कहीं अधिक है। अगस्त 2016 में यह एक 9.6 प्रतिशत थी।

Next Story

विविध

Share it