Top
शिक्षा

एक बार फिर सुर्खियों में बीएचयू, छात्रों ने पीएचडी प्रवेश परीक्षा में जाति के आधार पर लगाए भेदभाव के आरोप

Vikash Rana Rana
21 Feb 2020 1:48 PM GMT
एक बार फिर सुर्खियों में बीएचयू, छात्रों ने पीएचडी प्रवेश परीक्षा में जाति के आधार पर लगाए भेदभाव के आरोप

उच्च वर्ग से आने वाले विशेषज्ञ एससी, एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यक समुदाय के अभ्यर्थियों के साथ भेदभाव करते हैं...

जनज्वार,वाराणसी। अक्सर सुर्खियों में रहने वाला काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) फिर से लोगों की नज़र में हैं। एक बार फिर विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्र आमने-सामने आ गए हैं। बीते बृहस्पतिवार को छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर जाति के आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है।

जिसके बाद छात्रों ने लंका स्थित सिंह द्वार से प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय तक मार्च निकालने की असफल कोशिश भी की। इसके पश्चात छात्रों का मार्च काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के मुख्यद्वार से होते हुए सभी विभागों से गुजरकर सेंट्रल आफिस पहुंचा जहां यह धरने में तब्दील हो गया। इसके बाद में छात्रों ने केंद्रीय कार्यालय का घेराव किया।

पीएचडी के छात्र रविन्द्र प्रकाश भारती बताते हैं कि विश्वविद्यालय के छात्रों के संगठन ओबीसी जनकल्याण मंच, ओबीसी/एससी/एसटी/एमटी संघर्ष समिति और एससी-एसटी छात्र कार्यक्रम आयोजन समिति के संयुक्त बैनर तले सैकड़ों की संख्या में छात्र बृहस्पतिवार को लंका स्थित सिंह द्वार के पास इकट्ठा हुए और "जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी" का नारा लगाते हुए प्रदर्शन करने लगे।

सके बाद हम लोग प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन देने के लिए रविंद्रपुरी स्थित उनके संसदीय कार्यालय की ओर कूच करने लगे लेकिन वहां पर पहले से मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक लिया जिसके बाद एसीएम (तृतीय) को प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा गया।

क्या है विवाद ?

बीएचयू में मास्टर के छात्र और धरने में शामिल राहुल यादव बताते हैं कि, 'बीएचयू प्रशासन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के निर्देशानुसार विश्वविद्यालय की पीएचडी प्रवेश प्रक्रिया की चयन कमेटी में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) का प्रतिनिधि नियुक्त नहीं करता है। जबकि एससी-एसटी वर्ग के प्रतिनिधि की नियुक्त की जाती है। इससे प्रवेश प्रक्रिया के दौरान रिसर्च प्रपोजल और साक्षात्कार में ओबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों को जानबूझकर कम अंक दिये जाते हैं। इससे वे मेरिट से बाहर हो जाते हैं। इसलिए हमारी मांग है कि, 'ओ.बी.सी. वर्ग के लिए प्रतिनिधि नियुक्त किया जाये।'

धरने में शामिल बीएचयू में मास्टर के एक अन्य छात्र शिवम कहते हैं कि, 'पीएचडी प्रवेश परीक्षा के दौरान लिखित एवं साक्षात्कार की प्रक्रिया में छात्र-छात्राओं के नाम औक उनकी श्रेणी का उपयोग होता है। इससे उच्च वर्ग से आने वाले विशेषज्ञ एससी, एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यक समुदाय के अभ्यर्थियों के साथ भेदभाव करते हैं। परीक्षकगण उन्हें जानबूझकर कम अंक देते हैं जबकि उनकी शिक्षा की उपाधियों के कुल अंको का योग सर्वाधिक या फिर सामान्य वर्ग के छात्र-छात्रों से अधिक होता है।'

की छात्रा और धरने में शामिल सुनीता कहती हैं कि, 'रिसर्च प्रपोजल और साक्षात्कार में कम अंक दिए जाने की वजह से डिग्री पाठ्यक्रमों में अन्य छात्रों की तुलना में अंक ज्यादा होने के बावजूद ओबीसी समुदाय के अभ्यर्थी मेरिट से बाहर हो जाते हैं।' हमारी मांग है कि 'पीएचडी प्रवेश प्रक्रिया के दौरान अभ्यर्थियों के नाम और कैटेगरी के स्थान पर अनुक्रमांक और कूट संख्या का प्रयोग किया जाए।'

सुनीता यह भी कहती हैं कि 'विश्वविद्यालय के किसी भी पाठ्यक्रम में पढ़ने वाले अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को छात्रावास आबंटन में आरक्षण प्रणाली का पालन नहीं किया जाता है।' हमारी मांग है कि प्रत्येक पाठ्यक्रम में अध्यनरत छात्र-छात्राओं के लिए छात्रावास आबंटन में सविंधान प्रदत्त 27 प्रतिशत आरक्षण अविलंब लागू किया जाए।'

छात्रों के इस धरने के बारे में बीएचयू के प्रशासनिक अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई लेकिन कोई बात नहीं हो पाई। बीएचयू के पीआरओ राजेश सिंह से भी बात की गई। राजेश सिंह कहते हैं कि मैं उस धरने के बारे में टू द पॉइंट तो नहीं बता पाऊँगा लेकिन हाँ, उन लोगों ने कोई ज्ञापन दिया था और लोगों से बात हुई थी।'

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए बीएचयू पीआरओ कहते हैं कि, 'जो हम लोग एडमिशन लेते हैं वो बीएचयू का अपना रूल नहीं होता। बीएचयू, गवरमेंट ऑफ इंडिया और यूजीसी के गाइडलाइन के एक्ट के आधार पर एडमिशन प्रोसेस को करता है, हमारी तरफ से कुछ नहीं होता है। भारत सरकार के रूल को तो हम उनके (छात्रों) कहने से बदल नहीं सकते। वहाँ (यूजीसी) से कोई ऑर्डर आएगा तो हम उसे फ़ालो करेंगे।'

क्या है यूजीसी?

भारत का विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) केन्द्रीय सरकार का एक आयोग है जो विश्वविद्यालयों को मान्यता देता है। यही आयोग सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को अनुदान भी प्रदान करता है। भारत का विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा (नेट) का भी आयोजन करता है जिसे उत्तीर्ण करने के आधार पर विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में अध्यापकों की नियुक्ति होती है।

बीएचयू की वर्तमान स्थिति

गौरतलब है कि बीएचयू में हर सत्र में पीएचडी प्रवेश प्रक्रिया के दौरान गड़बड़ी और जाति के आधार पर भेदभाव की शिकायतें आती हैं। इसके बावजूद विश्वविद्यालय प्रशासन अभी तक कोई ठोस पारदर्शी प्रक्रिया लागू नहीं कर सका है जबकि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग सभी विश्वविद्यालय के कुलपतियों और कुलसचिवों को पत्र लिखकर निर्देश दे चुका है कि पीएचडी पाठ्यक्रम के लिए चयनित शोधार्थियों की सूची नोटिस बोर्ड पर प्रकाशित करने के साथ-साथ विश्वविद्यालय और विभाग की अधिकारिक वेबसाइट पर भी प्रकाशित एवं प्रसारित किया जाए

लेकिन विश्वविद्यालय के अधिकतर विभागों के नोटिस बोर्ड या अधिकारिक वेबसाइट पर प्रकाशित नहीं की गई है। जिन विभागों के नोटिस बोर्ड पर चयनित शोधार्थियों की सूची प्रकाशित है, उनमें केवल आरईटी प्रक्रिया के दौरान चयनित शोधार्थियों का नाम ही शामिल है।

Next Story

विविध

Share it