Top
राजनीति

CAA के खिलाफ टिप्पणी करने पर भाजपा सांसद ने मुनव्वर राना की बेटी को कहा- घुटन महसूस हो रही तो पाकिस्तान जाओ

Nirmal kant
10 Feb 2020 9:52 AM GMT
CAA के खिलाफ टिप्पणी करने पर भाजपा सांसद ने मुनव्वर राना की बेटी को कहा- घुटन महसूस हो रही तो पाकिस्तान जाओ
x

मशहूर शायर मुनव्वर राना की बेटी को बोले भाजपा सासंद सतीष गौतम, भारत में घुटन महसूस हो रही तो पाकिस्तान जाने के लिए आजाद हो, रास्ते खुले हैं...

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से सांसद और भाजपा नेता सतीश गौतम ने रविवार 9 जनवरी को कहा कि मशहूर शायर मुनव्वर राना की बेटी सुमैया राना भारत में घुटन महसूस होने पर पाकिस्तान जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

भाजपा नेता सतीश गौतम ने कहा, 'अगर सुमैया राणा देश में घुटन महसूस करती हैं, तो उनके पाकिस्तान जाने के कई रास्ते खुले हैं।' उन्होंने आगे कहा कि भारत में कोई भी स्वतंत्रता के साथ खुलकर बात कर सकता है।'

संबंधित खबर : CAA - पुलिस ने मुनव्वर राना की बेटियों समेत 100 से अधिक प्रदर्शनकारी महिलाओं के खिलाफ दर्ज किया ‘दंगा कराने’ का केस

सुमैया राना ने अलीगढ़ में एक सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान कहा था, 'देश में अभी माहौल विवादास्पद है और इस तरह की परिस्थितियों में जीना भी मुश्किल है।'

दें कि मुनव्वर राणा की दोनों बेटियों सुमैया और फौजिया के खिलाफ तब एफआईआर दर्ज की गई जब वह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सीएए के खिलाफ रैली में हिस्सा ले रहीं थी।

बेटियों पर एफआईआर होने के बाद मुनव्वर राणा ने गृह मंत्री अमित शाह पर हमला बोलते हुए कहा था, 'मेरी बेटियों के खिलाफ निषेधाज्ञा के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया, लेकिन अमित शाह के बारे में क्या कहेंगे, जिन्होंने लखनऊ में हजारों लोगों को संबोधित किया. जनसभा में निश्चित तौर पर चार से ज्यादा लोग थे. दो अलग-अलग व्यक्तियों के लिए एक कानून के दो पहलू कैसे हो सकते हैं।'

संबंधित खबर : 101 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी एचएस डोरस्वामी ने CAA-NRC के खिलाफ किया अनशन

ता दें कि नागरिकता संशोधन विधेयक लोकसभा, राज्यसभा में पास हो चुका है। इस विधेयक पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हस्ताक्षर कर चुके हैं। इस तरह अब यह एक कानून बन गया है। इसके तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी नागरिकों को भारतीय नागरिकता देना आसान कर दिया गया है। धार्मिक प्रताड़ना को इसका आधार बनाया गया है।

कानून के तहत 31 दिसंबर, 2014 तक इन देशों से आए इन समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता देने की बात कही गई है। इस कानून में मुस्लिमों को नहीं रखा गया है। वहीं विपक्षी दलों का मानना है कि एनआरसी लागू करने के लिए इस कानून को लाया गया है।

Next Story

विविध

Share it