Top
राजनीति

यूपी में पुलिस और स्वास्थ्यकर्मियों पर हुए हमले के बाद योगी हुए सख्त, कहा NSA के तहत होगी कार्रवाई

Prema Negi
15 April 2020 5:23 PM GMT
यूपी में पुलिस और स्वास्थ्यकर्मियों पर हुए हमले के बाद योगी हुए सख्त, कहा NSA के तहत होगी कार्रवाई
x

योगी ने हमलावरों को चेतावनी देते हुए कहा पुलिसकर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं स्वच्छता अभियान से जुड़े कर्मियों पर हमला एक अक्षम्य अपराध है, किसी को भी नहीं बख्शा जायेगा...

लखनऊ, जनज्वार। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुरादाबाद में मेडिकल टीम पर हमला करने आरोपियों के खिलाफ एनएसए के तहत दर्ज करने का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने आज बुधवार 15 अप्रैल को मुरादाबाद में हुई घटना का संज्ञान लेते हुए कहा कि मेडिकल टीम पर हमला एक अक्षम्य अपराध है।

पुलिसकर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं स्वच्छता अभियान से जुड़े कर्मियों पर हमला एक अक्षम्य अपराध है, जिसकी घोर निंदा की जाती है। ऐसे दोषी व्यक्तियों के खिलाफ आपदा नियंत्रण अधिनियम तथा राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : बिहार के मोतिहारी, औरंगाबाद में पुलिसकर्मियों और स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला

न्होंने कहा कि दोषी व्यक्तियों द्वारा की गई राजकीय संपत्ति के नुकसान की भरपाई उनसे सख्ती से करवाई जाएगी। जिला पुलिस प्रशासन ऐसे उपद्रवी तत्वों को तत्काल चिन्हित करें और प्रत्येक नागरिक को सुरक्षा के साथ ही उपद्रवी तत्वों पर पूरी सख्ती भी करें।

पर मुख्य सचिव (गृह) ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार 15 अप्रैल को टीम 11 के सदस्यों के साथ बैठक कर कई निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि केंद्र सरकार द्वारा लकडाउन के दूसरे चरण संबंध में जारी की गई गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना होगा। इसी गाइडलाइन के आधार पर उत्तर प्रदेश में 20 अप्रैल से बड़े निर्माण कार्यों को कतिपय शर्तों के आधार पर स्वीकृति मिलेगी।

संबंधित खबर : LOCKDOWN- तेजस्वी यादव बोले- बीमारी लेकर आए हवाई जहाज वाले और भुगते पैदल चलने वाले

न्होंने कहा कि इन निर्माण कार्यों में हाइवे, स्टेट हाइवे, हाउसिंग सोसायटी, मेडिकल कले और सड़क आदि का निर्माण कार्य शामिल है। इससे प्रदेश के कामगार व मजदूर वर्ग को राहत मिलेगी।

पर मुख्य सचिव (गृह) ने बताया कि वर्तमान में फसल कटाई का सीजन चल रहा है। इसके लिए शासन स्तर पर सभी तैयारियां पूरी करते हुए प्रदेश में लगभग 5 हजार क्रय केंद्र बनाए गए हैं। सभी केंद्रों से गेहूं क्रय का कार्य शुरू कर दिया गया है। मंडियों में सोशल डिस्टेंसिंग का गंभीरता से पालन कराने का निर्देश पहले ही दिया गया है। फसलों को बाजार व मंडियों तक लाने ले जाने में किसानों को कोई परेशानी ना हो।

संबंधित खबर : बिहार के गाड़ी मैकेनिक ने हैदराबाद में की आत्महत्या, कमरे का किराया चुकाने के नहीं थे पैसे

न्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन में प्रदेश के छात्रों का पठन-पाठन प्रभावित ना हो, इस पर विशेष ध्यान दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में ऑनलाइन एजुकेशन को बढ़ावा दिया जाए।

स अवसर पर अधिकारियों ने योगी को बताया कि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा 31939 ई-कंटेंट तैयार कर लिया गया है, जिसका उपयोग 2 लाख 29 हजार छात्र कर रहे हैं। इतना ही नहीं, उच्च शिक्षा विभाग द्वारा ही अब तक 75 हजार 925 ऑनलाइन क्लासें 55046 फैकल्टी के माध्यम से संपन्न कराया गया है।

न्होंने बताया कि प्राविधिक शिक्षा में भी 2776 घंटे का ई-कंटेंट उपलब्ध कराया गया है, जिसमें 9 हजार शिक्षक अपनी सेवाएं दे रहे हैं। वहीं 2 लाख 6 हजार 305 छात्रों ने ऑनलाइन पाठ्यक्रम में भाग लिया है। इसी प्रकार व्यावसायिक शिक्षा के तहत आईटीआई के 70 सेक्टरों में 5 लाख छात्र ई-प्लेटफॉर्म में आकर शिक्षा का लाभ ले रहे हैं।

पर मुख्य सचिव (गृह) ने बताया कि प्रदेश में अब चिकित्सा की आपातकालीन सेवा शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया है। इसके अलावा एमबीबीएस व नर्सिंग के अंतिम वर्ष के छात्रों को भी चिकित्सा सेवा में लगाने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया है, जिससे प्रदेश के चिकित्सा क्षेत्र को बड़ी संख्या में अतिरिक्त 'यूथ मैनपावर' का लाभ मिलेगा।

Next Story

विविध

Share it