Top
सिक्योरिटी

कोरोना हॉरर : ग्राहक को आई खांसी तो फेंक दिया 26 लाख का सामान और बुला ली पुलिस

Prema Negi
27 March 2020 10:52 AM GMT
कोरोना हॉरर : ग्राहक को आई खांसी तो फेंक दिया 26 लाख का सामान और बुला ली पुलिस
x

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में इतना आतंक मचा दिया है कि लोग सड़क पर मुंह में मास्क लगाए नजर आ रहे हैं, गलती से उनके सामने कोई छींक या खांस दे तो लोग भाग रहे हैं...

जनज्वार। कोरोना रोग से ज्यादा भयावहता बन चुकी है। इसके चलते भारत समेत अनेक देशों ने लॉकडाउन घोषित किया है। अब इसके चलते अनेक जगहों से लोग रिश्तों का तक खून करते नजर आ रहे हैं, कहीं कालाबाजारी जोर पकड़ रही है तो लोगों के भूखों मरने की तक नौबत आ रही है।

कोरोना हॉरर की एक घटना अमेरिका के हैनोवर से सामने आयी है, जहां महिला ग्राहक के खांसने पर सुपरमार्केट ने 26 लाख का सामान फेंक दिया। इतना ही नहीं महिला को अपराधी ठहरा उसे अरेस्ट करने के लिए पुलिस तक बुला ली। हालांकि फिर भी यहां स्थिति को भारत से बेहतर इसलिए कहा जा सकता है, क्योंकि हमारे देश में तो महिला की लिंचिंग ही हो जाती, पुलिस बाद में शायद लाश उठाने ही आती।

कोरोना वायरस ने इंसानों को इतना आतंकित कर दिया है कि दुनियाभऱ में लोग सड़क पर मुंह में मास्क लगाए नजर आ रहे हैं। गलती से उनके सामने कोई छींक या खांस दे तो लोग भाग रहे हैं।

जकल किसी की मामूली सी खांसी भी कितनी डरावनी हो सकती है, इसका अंदाजा अमेरिका में घटी इस घटना से लगाया जा सकता है कि एक सुपरमार्केट में महिला के खांसने पर 26 लाख से ज्यादा का सामान बाहर फेंक दिया गया। सुपरमार्केट ने 26 लाख का सामान बाहर फेंकते हुए यह आरोप लगाया कि महिला जान—बूझकर सामानों पर खांसी। महिला को पकड़ने के लिए सुपर मार्केट के मालिक ने पुलिस को बुला महिला को अरेस्ट कराया और फिर सामान हटाकर पूरे सुपर मार्केट को साफ किया गया।

स घटना के बारे में एनबीटी में छपी खबर के मुताबिक गेरिटीज सुपरमार्केट के मालिक जोइ फासुला ने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर अपनी तकलीफ साझा करते हुए इसके बारे में विस्तार से लिखा है। जोइ फासुला का कहना है कि 'बुधवार 25 मार्च की दोपहर को एक महिला स्टोर में घुसी औऱ वह वहां मौजूद कई सामानों के ऊपर खांसी।

सुपरमार्केट ने जो तकलीफ अपने फेसबुक पेज पर लिखी है, इस पर पुलिस ने कहा कि महिला को क्रॉनिक प्रॉब्लम थी। सुपरमार्केट के मुताबिक स्टोर में आई महिला जानबूझकर फलों, सब्जियों और बेकरी आइटम पर खांसने लगी। सुपरमार्केट ने यह आशंका भी जताई कि शायद महिला ने प्रैंक किया हो, लेकिन हम कोई कोरोना के खतरों के बीच कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे। हमारे पास अपने सामान को फेंकने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था। हम नहीं चाहते थे कि अगर वह महिला कोरोना पॉजिटिव हुई तो हमारे ग्राहकों या स्टाफ को इसकी कीमत चुकानी पड़े।

सुपरमार्केट के मालिक के मुताबिक, हम हनोवर टाउनशिप हेल्थ इंस्पेक्टर के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। हमने हर उस एरिया को चिह्नित किया है जहां वह महिला गई थी। इसके बाद उस एऱिया के सामान को फेंक दिया गया। इलाके को सेनिटाइज कर अब नए सामान लगा दिए गए हैं। इससे हमें लगभग 35 हजार डॉलर का नुकसान हुआ है। इंडियन करेंसी के हिसाब से इसकी कीमत 26 लाख रुपये से भी ज्यादा है।

गौरतलब है कि अमेरिका कोरोना वायरस संक्रमण के मामले में टॉप पर है। यहां अभी तक कुल 85 हजार से अधिक कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इतना ही नहीं अमेरिका में अब तक 1290 से भी ज्यादा लोगों की कोरोना के चलते मौत हो चुकी है और 2,000 लोगों की हालत बहुत गंभीर बनी हुई है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसे राष्ट्रीय विपदा घोषित करते हुए कहा है कि हर नागरिक का कर्तव्य है कि वह देश को इस मुसीबत से बचाने के लिए हर स्तर पर काम करे। लॉकडाउन के नियमों का पालन करे।

र्ल्डोमीटर के आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में एक सप्ताह पहले कोरोना के सिर्फ 8000 कन्फर्म केस थे, जो आज 85,088 तक पहुंच गये हैं। कोरोना संक्रमण की संख्या एक हफ्ते में 10 गुना से भी ज्यादा बढ़ चुकी है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना कितनी तेजी से पूरी दुनिया में पैर पसार रहा है।

Next Story

विविध

Share it