Top
दिल्ली

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने लिखा- कट्टरपंथियो, अगर भारतीय मुसलमानों ने अरब से शिकायत की तो आएगा तूफान

Manish Kumar
29 April 2020 4:25 AM GMT
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने लिखा-  कट्टरपंथियो, अगर भारतीय मुसलमानों ने अरब से शिकायत की तो आएगा तूफान
x

बीजेपी ने कहा, 'भारत की छवि धूमिल करने की कोशिश की जा रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री इस पर जबाव दें...

नई दिल्ली: दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरूल इस्लाम ने एक बार फिर विवादों में घिरते दिख रहे हैं। जफरुल इस्लाम ने एक फेसबुक पोस्ट पर विवादित टिप्पणी की है। जफरूल इस्लाम ने अपने फेसबुक पर लिखा कि जिस दिन भारत के मुसलमानों ने अरब देशों से अपने जुल्म की शिकायत कर दी तूफान आ जायेगा।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक उनके इस बयान पर भाजपा सख्त हो गई है। इस पर भाजपा ने आरोप लगाया है कि जफरुल इस्लाम भारत की छवि खराब कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- USCIRF की रिपोर्ट में खुलासा, मोदी के दुबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद मुस्लिमों पर बढ़े और ज्यादा अत्याचार

भाजपा प्रवक्ता विजय सोनकर शास्त्री ने साफ-साफ कहा कि यह लिखना गलत है, झूठ है। भारत की छवि धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री इस पर जबाव दें, तुंरत इस्लाम को उनको पद से हटाएं।

क्या लिखा है जफरुल इस्लाम ने?

जफरुल इस्लाम ने पोस्ट में लिखा है कि भारतीय मुस्लिमों के साथ खड़े होने के लिए कुवैत का धन्यवाद। हिंदुत्व विचारधारा के लोग सोचते हैं कि कारोबारी हितों की वजह से अरब देश भारत के मुस्लिमों की सुरक्षा की चिंता नहीं करेंगे, लेकिन वो नही जानते हैं कि भारतीय मुस्लिमों का अरब और मुस्लिम देशों से कैसे रिश्ते हैं। जिस दिन मुसलमानों ने अरब देशों से अपने खिलाफ जुल्म की शिकायत कर दी उस दिन तूफान आ जाएगा। यह पोस्ट 28 अप्रैल की रात को लिखी गई है।

Image may contain: 1 person, text

इस्लाम ने लिखा दिल्ली सरकार पत्र

इससे पहले भी जफरुल इस्लाम खान क्वारनटीन सेंटर में तबलीगी जमात के लोगों के साथ हो रहे व्यवहार को लेकर दिल्ली सरकार को पत्र लिख चुके हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश के BJP विधायक ने कहा- मुसलमानों से सब्जी न खरीदे कोई, VIDEO वायरल

इस्लाम ने अपने पत्र में केंद्र और दिल्ली सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि तबलीगी जमात के लोगों को क्वारनटीन की अवधि को पूरा करने के बाद छोड़ा नहीं जा रहा है। उनके साथ छुआछूत हो रही है। उन लोगों को कैदियों की तरह रखा जा रहा है। इस्लाम ने पत्र में कहा था कि एक तरफ सरकार ठीक हुए जमातियों का प्लाज्मा इस्तेमाल कर रही है, वहीं दूसरी ओर उन्हें कैदियों से भी बदतर हालात में रखा जा रहा है।

Next Story

विविध

Share it