Top
उत्तर प्रदेश

आर्थिक तंगी से परेशान दंपती ने पहले जहर देकर रेता 3 बच्चों का गला, फिर खुद भी फांसी पर लटककर की आत्महत्या

Prema Negi
5 Jun 2020 12:29 PM GMT
आर्थिक तंगी से परेशान दंपती ने पहले जहर देकर रेता 3 बच्चों का गला, फिर खुद भी फांसी पर लटककर की आत्महत्या
x

कई दिनों से उसके घर से कोई आहट न मिलने पर दूसरे मकान में अलग रहने वाली विवेक शुक्ला की मां ने छत से आंगन में झांककर देखा तो उन्हें अपनी बहू और पोते के शव फंदे से लटकते नजर आए...

बाराबंकी, जनज्वार। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के सफेदाबाद थाना क्षेत्र में एक ही परिवार के पांच लोगों ने आत्महत्या कर ली। यह मामला सामने आने से इलाके में हड़कंप मच गया है।

मृतकों में माता-पिता व उनके तीन बच्चे शामिल हैं। सभी के शव घर में मिले। सूचना पाकर पहुंची पुलिस पड़ताल में जुटी है। इस सनसनीखेज घटना की सूचना पाकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक समेत आला अधिकारी गांव में पहुंचे। मामले की जांच के लिए फॉरेंसिक टीम व डॉग स्क्वायड को जांच में लगाई गई।

यह भी पढ़ें : सऊदी अरब से लौटे युवक ने बिहार में क्वारंटाइन सेंटर की छत से कूदकर की आत्महत्या

मृतकों में माता-पिता व 7 से 10 साल की उम्र के तीन बच्चे हैं। सूचना पाकर पहुंची पुलिस पड़ताल में जुटी है। प्राथमिक जांच में माता-पिता द्वारा बच्चों को जहर देने के बाद चाकू से गला रेतने की बात सामने आई है। इसके बाद दंपती ने भी सुसाइड कर लिया। हालांकि पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। मौके से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें आर्थिक तंगी के चलते सुसाइड किए जाने की बात सामने आई है।

यह भी पढ़ें : LOCKDOWN में ऑनलाइन क्लास छूटने पर दलित छात्रा ने की आत्महत्या, घर पर नहीं था टीवी-स्मार्टफोन

पुलिस अधीक्षक डॉ. अरविंद चतुर्वेदी ने बताया कि बाराबंकी सफेदाबाद के विवेक शुक्ल ने अपनी पत्नी और तीन बच्चों सहित आत्महत्या कर ली है। घटनास्थल के निरीक्षण में पाया गया है कि विवेक का अपना मकान है, जिसमें एसी भी लगा हुआ है। घटना के साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं।

रिजनों ने पुलिस को बताया कि कोरोना से हुए लॉकडाउन के कारण परिवार की आर्थिक हालत और ज्यादा खराब हो रही थी। बिजनैस बिल्कुल ठप्प पड़ चुका था और कर्ज लगातार बढ़ता जा रहा था। इसी बात का जिक्र 37 वर्षीय विवेक ने अपने सुसाइड नोट में भी किया है।

यह भी पढ़ें — गुजरात: पिता की हत्या के आरोपी बेटे की क्वारंटीन सेंटर में मौत, पुलिस ने बताया आत्महत्या

विवेक के पिता ने बताया कि कुछ पारिवारिक परिस्थितियों के कारण उनका बेटे से मनमुटाव था। उनके और बेटे के घर में आने-जाने का रास्ता अलग-अलग था। मामले की जांच करने के निर्देश दिए गए हैं।

टना नगर कोतवाली क्षेत्र के सफेदाबाद गांव की है। विवेक शुक्ला अपनी पत्नी अनामिका व तीन बच्चों के साथ यहीं रहता था। कई दिनों से उसके घर से कोई आहट न मिलने पर दूसरे मकान में अलग रहने वाली विवेक शुक्ला की मां ने छत से आंगन में झांककर देखा तो उन्हें अपनी बहू और पोते के शव फंदे से लटकते नजर आए। यह देखकर उनके पैरों तले की जमीन खिसक गई। उन्होंने शोर मचाया तो आस-पड़ोस के लोग जुट गए।

यह भी पढ़ें : गुल्लक तोड़ बेटियों ने ख़रीदा कफन, मां को दिया कंधा और मुखाग्नि, लॉकडाउन में मज़दूर पिता गुजरात में है फंसा

शुरुआती छानबीन के बाद पुलिस ने बताया कि सफेदाबाद में रहने वाला विवेक शुक्ला अपने तीन भाइयों में दूसरे नंबर पर था। उसने उसने अनामिका नाम की लड़की से लव मैरिज की थी। वह अपने परिवार से अलग पत्नी अनामिका, दो बेटियां पोयम (10), ऋतु (7) और बेटा बबल (5) के साथ रहता था। वह शुरुआत में मोबाइल का काम करता था। बाद में उसने गैराज खोल लिया था। दो दिनों से उसके घर से कोई आहट नहीं मिल रही थी। जिस पर लोगों को अनहोनी की आशंका हुई। मां ने छत से कमरे में झांका तो पाया कि विवेक का शव फंदे से लटक रहा था।

योगीराज : पुलिस की प्रताड़ना से तंग प्रेमी युगल ने थाने में खाया जहर, मचा हड़कंप

मृतक विवेक शुक्ला के पिता ने पुलिस को बताया कि दो दिनों से कमरा बंद था औऱ एसी चल रहा था। हमें चिंता हो रही थी कि आखिर ये लोग बाहर क्यों नहीं निकल रहे हैं, लेकिन वह हम लोगों से मतलब नहीं रखते थे। हम लोगों ने देखा कि कोई बाहर नहीं निकल रहा तो हमने दरवाजा खटखटाया और आवाज दी, लेकिन कोई कुछ नहीं बोला। उसके बाद मेरी पत्नी ने छत से जाकर देखा कि लड़का फांसी से लटक रहा है। फिर हमारे दूसरे लड़के ने कमरे का दरवाजा तोड़कर सबको घटना की जानकारी दी।

स मामले में एएसपी आरएस गौतम ने मीडिया को बताया कि परिवार के पांच लोगों की मौत हुई है। पति-पत्नी ने पहले तीन बच्चों को मारा फिर खुद भी आत्महत्या कर ली। मामले की जांच पुलिस कर रही है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा।

Next Story

विविध

Share it