Top
राष्ट्रीय

गुजरात: पिता की हत्या के आरोपी बेटे की क्वारंटीन सेंटर में मौत, पुलिस ने बताया आत्महत्या

Nirmal kant
28 May 2020 8:17 AM GMT
गुजरात: पिता की हत्या के आरोपी बेटे की क्वारंटीन सेंटर में मौत, पुलिस ने बताया आत्महत्या
x

बुधवार 27 मई की रात उसकी अपनी पत्नी से आखिरी बार बातचीत हुई थी और उसने घर ले जाने के लिए कहा था। पुलिस उपाधीक्षक के अनुसार मौके से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं किया गया है...

जनज्वार ब्यूरो। गुजरात के पंचमहल जिले में अपने पिता की हत्या के आरोपी बेटे ने क्वारंटीन सेंटर पर गुरुवार की सुबह आत्महत्या कर ली। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मृतक प्रवीण परमार (35 वर्षीय) ने कथित तौर पर गुस्से में आकर पिता का गला घोंट दिया था जिसके बाद रविवार को उसे हिरासत में लिया गया था।

'द इंडियन एक्सप्रेस' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि दर्ज की गई शिकायत के अनुसार शनिवार को परमार और उनकी पत्नी के बीच एक छोटी सी बात को लकर झगड़ा हो गया था। मामले को हल करने के लिए पिता ने हस्तक्षेप करने की कोशिश की थी और परमार के व्यवहार के लिए उसे फटकार भी लगाई थी। इससे परमार और अधिक गुस्से में आ गया और उसने अपने ही पिता की गला दबाकर हत्या कर दी। वह खेती मजदूरी का काम किया करता था।

संबंधित खबर : गुजरात मॉडल - वडोदरा के कोरोना हॉस्पिटल में 12 घंटे तक बिजली रही गुल, वेंटिलेटर पर थे 6 कोरोना मरीज

सके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया ता और उसकी मां ने गोधरा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया था। उसके बाद उसे गोधरा-दाहोद रोड स्तित मक्का अनुसंधान केंद्र में क्वारंटीन में रखा गया था और प्रोटोकॉल के अनुसार उसके स्वाब के नमूने टेस्ट के लिए भेजे गए थे। बुधवार की रात उसे कोविड 19 के लिए टेस्ट में नेगेटिव पाया गया था। इसकी पुष्टि अधिकारियों ने की।

सूत्रों के अनुसार, बुधवार की रात उसकी अपनी पत्नी से आखिरी बार बातचीत हुई थी और उसने घर ले जाने के लिए कहा था। पंचमहल के पुलिस उपाधीक्षक आरआई देसाई ने कहा, हमने मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं बरामद किया है। लेकिन उसकी पत्नी ने हमें सूचित किया कि उसने बुधवार की रात फोन किया था और उसे घर ले जाने के लिए कहा था।

संबंधित खबर : गुल्लक तोड़ बेटियों ने ख़रीदा कफन, मां को दिया कंधा और मुखाग्नि, लॉकडाउन में मज़दूर पिता गुजरात में है फंसा

'उसकी पत्नी ने उसे बताया था कि उसने जघन्य अपराध किया है और उसे घर लौटने से पहले जेल की सजा काटनी चाहिए। यह उनके और उनकी पत्नी के बीच आखिरी बातचीत थी। जब उसने यह कदम उठाया तो उसके साथ कमरा साझा कर रहे तीन लोग सो रहे थे। वे अन्य गांवों से हैं और वे एक दूसरे से ज्यादा बातचीत नहीं करते हैं।'

Next Story

विविध

Share it