Begin typing your search above and press return to search.
राजनीति

दिल्ली के किराड़ी में कपड़े के गोदाम में लगी आग, 9 की मौत दर्जनभर घायल

Prema Negi
23 Dec 2019 4:55 AM GMT
दिल्ली के किराड़ी में कपड़े के गोदाम में लगी आग, 9 की मौत दर्जनभर घायल
x

जिस कपड़े के गोदाम में लगी है आग, वहां आग से सुरक्षा का कोई उपकरण भी नहीं था मौजूद, प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है मरने वालों का आंकड़ा हो सकता है 9 से कहीं ज्यादा, मृतकों में महिलायें और 3 बच्चे भी शामिल...

जनज्वार। दिल्लीवासी अभी ​कुछ दिन पहले लगी की भयावहता और दर्द भूल भी नहीं पाये थे कि ठीक वैसा ही हादसा फिर हो गया है। दिल्ली के किराड़ी स्थित एक कपड़ों के गोदाम में कल रविवार 22 दिसंबर की देर रात आग लगने से 9 लोगों के मौत और तकरीबन 1 दर्जन के गंभीर रूप से घायल हो गये।

बसे बड़ी बात यह है कि जिस कपड़े के गोदाम में आग लगी है, वहां आग से सुरक्षा का कोई उपकरण भी मौजूद नहीं था।

15 दिनों के अंदर दिल्ली के औद्योगिक इलाके में आग लगने की यह दूसरी घटना है। जानकारी के अनुसार आग लगने के कारण 3 लोगों की मौत घटनास्थल पर हो गई, जबकि 6 अन्य लोगों की मौत इलाज के दौरान हुई। जिस वक्त आग लगी उस वक्त गोदाम में कुछ लोग सो रहे थे। आग की सूचना के बाद मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने काफी मशक्कत के बाद आग को काबू में किया।

यह भी पढ़ें : दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी में लगी भीषण आग, 43 लोगों की मौत

शुरुआती छानबीन के बाद पुलिस का कहना है कि हमें पहले किराड़ी इलाके में एक घर में सिलेंडर फटने की सूचना मिली थी, लेकिन बाद में गोदाम में आग लगने की पुष्टि हुई। गोदाम में सुरक्षा मानकों का ध्यान नहीं रखा गया था और आग बुझाने के उपकरण भी मौजूद नहीं थे। आग लगने के कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है।

किसी तरह आग पर नियंत्रण कर पुलिस ने घटना में घायल हुए सभी लोगों को पास में स्थित संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया है।

गोदाम से निकलने के लिए भी सिर्फ एक ही सीढ़ियां थीं। अमृतकों में महिलाओं के भी शामिल होने की सूचना है। घटनास्थल पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक चारमंजिला इमारत के निचले हिस्से में गोदाम है, जहां सबसे पहले आग लगी। मृतकों में सभी लोग आग लगने के दौरान ऊपरी मंजिल पर सो रहे थे।

गौरतलब है कि इसी महीने 8 दिसंबर को दिल्ली की रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी में भीषण आग लग गई थी। इस हादसे में लगभग 50 लोग मारे गये, और कई अन्य गंभीर रूप से घायल हुए। आग लगने की यह घटना गत्ते की एक फैक्ट्री में हुई थी, हालांकि आग कैसे लगी वहां भी इसके सही कारण पता नहीं चल पाया।

Next Story