Top
समाज

मानव तस्करी के खिलाफ नुक्कड़ नाटक करने गयीं 5 युवतियों से झारखंड में सामूहिक बलात्कार

Janjwar Team
22 Jun 2018 5:52 AM GMT
मानव तस्करी के खिलाफ नुक्कड़ नाटक करने गयीं 5 युवतियों से झारखंड में सामूहिक बलात्कार
x

बलात्कारी लड़कों ने नाटक टीम की लड़कियों के गैंगरेप का बनाया वीडियो, धमकाया अगर उन्होंने इस घटना के बारे में पुलिस या मीडिया में दी सूचना तो वीडियो कर देंगे वायरल...

रांची, जनज्वार। झारखंड के खूंटी जनपद के अड़की प्रखंड के कोचांग में 5 युवतियों से उस समय सामूहिक बलात्कार किया गया जब वह मानव तस्करी के खिलाफ नुक्कड़ नाटक करने गयी थीं।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक सामाजिक संस्था आशा किरण की टीम मानव तस्करी के ख़िलाफ़ 19 जून को नुक्कड़ नाटक करने खूंटी के अड़की प्रखंड में पहुंची थी। 11 सदस्यीय नुक्कड़ नाटक टीम में नाटक के छह, संस्था की दो सिस्टर और एक ड्राइवर शामिल था।

जानकारी के मुताबिक 19 जून को जब यह टीम कोचांग बाजार में नुक्कड़ नाटक करने के बाद कोचांग स्थित एक मिशन स्कूल में नाटक करने गये। इसी दौरान मोटरसाइकिलों पर सवार पांच-छह लड़के वहां पहुंचे और बंदूक की नोक पर अपने साथ संस्था के ही वाहन से लगभग 10 किलाेमीटर दूर लोबोदा जंगल ले गये। वहां इन बदमाश लड़कों ने पांच युवतियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

जब बंदूक की नोक पर ये बदमाश लड़के लड़कियों को अपने साथ ले जा रहे थे तो गाड़ी में मौजूद पुरुष सदस्यों ने विरोध किया। मगर उनके साथ भी इन लड़कों ने जमकर मारपीट की।

इतना ही नहीं बलात्कारी लड़कों ने नाटक टीम की लड़कियों का बलात्कार का ​वीडियो बनाया और लड़कियों को धमकाया कि अगर उन्होंने इस घटना के बारे में पुलिस या मीडिया में सूचना दी तो यह वीडियो वायरल कर देंगे। कई घंटे तक सामूहिक बलात्कार करने के बाद देर शाम छह बजे लड़कियों केा छोड़ा गया।

पुलिस के मुताबिक शुरुआती जांच के बाद लग रहा है कि गैंगरेप को पत्थलगड़ी समर्थकों ने अंजाम दिया है। गैंगरेप की शिकार लड़कियों का मेडिकल करवाया गया, जिसमें बलात्कार की पुष्टि हो चुकी है।

पुलिस का कहना है कि उसे लड़कियों के साथ हुए गैंगरेप वाले मामले की जानकारी एक दिन बाद यानी 20 जून की रात को हुई। जैसे ही पुलिस को पता चला उसने अपना काम करना शुरू कर दिया। मामले की जांच के लिए डीआईजी अमोल होमकर खूंटी पहुंचे। खूंटी थाने में पांच घंटे तक बैठक करने के बाद उन्होंने डीसी सूरज कुमार के साथ प्रेस कांफ्रेस कर घटना की जानकारी मीडिया को दी।

डीआईजी ने कहा कि मामले को देखते हुए लगता है कि इसे पत्थलगड़ी समर्थकों द्वारा जाम दिया गया है़। सभी पीड़ित लड़कियां खतरे से बाहर हैं। उनके बयान के आधार पर अपराधियों की जल्द पहचान कर ली जाएगी। खतरे को देखते हुए हम मीडिया में पीड़ितों का नाम सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं।

खूंटी के एसपी अश्विनी सिन्हा का कहना है कि छह अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, जल्द ही आरोपियों की शिनाख्त कर ली जाएगी। अब तक नौ लोगों को पुलिस हिरासत में लिया जा चुका है।

एक बलात्कार पीड़िता के साथ डीआईजी होमकर, डीसी सूरज कुमार, एसडीएम प्रणव कुमार पाल, मुख्यालय डीएसपी आनंद विकास लागुरी ने एएचटीयू थाना में करीब दो घंटे तक घटना से संबंधित पूछताछ की।

Next Story

विविध

Share it