Top
राजनीति

कोरोना का कहरः लॉकडाउन हुआ फ्रांस, बिना कारण बताये घर से बाहर निकलने पर भरना होगा जुर्माना

Raghib Asim
17 March 2020 2:28 PM GMT
कोरोना का कहरः लॉकडाउन हुआ फ्रांस, बिना कारण बताये घर से बाहर निकलने पर भरना होगा जुर्माना
x

कोरोनावायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में फैल चुका है. कोरोनावायरस से 127 लोगों की मौत के बाद फ्रांस ने लॉक डाउन करने का फैसला किया है. बिना कारण के कोई घर से बाहर निकलता है तो उसको जुर्माना देना पड़ेगा...

जनज्वार। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने आज रात अपने देश को पूर्ण लॉकडाउन में डाल दिया. इसकी घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि हम कोरोनावायरस लड़ रहे हैं. उन्होंने घर के किराए, करों और घरेलू बिल के भी निलंबन की घोषणा की.

ब भी कोई फ्रांसीसी अपना उद्यम करने के लिए लेखन के लिए या कुत्ते को टहलाने के लिए बाहर जाएंगे, तो उन्हें एक फॉर्म ऑनलाइन डाउनलोड करके भरना होगा. नहीं तो उनके ऊपर 34.60 यूरो का जुर्माना देना हगा. मैक्रॉन ने सोमवार शाम एक लाइव टीवी संबोधन में इस तरह के उपायों की घोषणा की. हालांकि, देश के आंतरिक मंत्री ने इन बारीकियों की रूपरेखा तैयार की.

मैक्रॉन ने कहा कि लोगों को अपने घर पर रहना होगा, जब तक कि किसी को कोई जरूरी काम के लिए जैसे -भोजन या किसी फार्मेसी में न जाना हो. बिल्कुल जरूरी काम के लिए ही कोई बाहर जा सकता है. लॉक-डाउन के इस तरह के उपाय कल दोपहर में आए हैं और कम से कम दो सप्ताह तक इसी तरह से रहना है. फ्रांस यूरोपीय संघ के अन्य देशों का अनुसरण करता है और वैश्विक महामारी के बीच अपनी सीमाओं को बंद कर दिया है.

प्रतिबंध कैसे काम करेगा?

पुलिस और सेना नए प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करने के लिए तैयार हैं. आंतरिक मंत्री क्रिस्टोफ कास्टानेर ने कहा कि फ्रांस में किसी को भी बाहर जाने का उचित कारण बताना होगा. उन्हें एक ऑनलाइन फॉर्म भरना पड़ेगा. जो ऐसा नहीं करेगा उसको 34.60 यूरो का जुर्माना देना होगा. कास्टानेर ने बताया कि आवश्यक पेशेवर जैसे-चिकित्सक, डाक कर्मचारियों को इससे परे रखा गया है. जो बाहर जाएगा उसे हर एक बार यह बताना होगा कि वह किस काम से बाहर निकला था. वह खाने-पीने की चीजें लेने के लिए या अपने पालतू कुत्ते को टहलाने के लिए बाहर गया था. कास्टानेर ने कहा कि कोई भी व्यक्ति बाहर जा सकता है या अपने कुत्ते को बाहर ले जा सकता है, लेकिन किसी समूह में नहीं जा सकते हैं. कास्टानेर ने कहा कि अभी तो जुर्माने की राशि 34.60 यूरो है लेकिन जो जमा नहीं करेगा उससे 118-130 का जुर्माना वसूला जाएगा.

फ्रांस में यह कदम 127 लोगों की मौत के बाद उठाया गया है. देश ने लगभग 5,400 संक्रमण के केस दर्ज किए हैं, 400 अभी भी अस्पतालों में गहन देखभाल में हैं. फ्रांस ने अपने स्की रिसॉर्ट्स को पहले ही बंद कर दिया था, और भीड़ के खिलाफ एहतियात के तौर पर पेरिस में लौवर संग्रहालय जैसे प्रमुख स्थलों को बंद कर दिया था. सप्ताहांत में लाए गए उपायों के बावजूद, 100 से अधिक की भीड़ पर प्रतिबंध लगाने और गैर-जरूरी दुकानों को बंद करने सहित, लोग अभी भी नए नियमों को तोड़ रहे थे.

मैक्रॉन ने कहा कि हम कोरोनावायरस से युद्ध लड़ रहे हैं. मैंने इसलिए फैसला किया कि सेना सेवा के एक क्षेत्रीय अस्पताल को अलसैस (जर्मनी के करीब पूर्वी क्षेत्र) में आने वाले दिनों में तैनात किया जाएगा. सेना सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों से बीमारों को स्थानांतरित करने में मदद करेगी और इस तरह से भीड़ में कमी लाएगी. मैक्रॉन ने कहा कि उनकी सरकार ने वायरस के प्रसार को सीमित करने के लिए 'सख्त निर्णय' लिए हैं. सरकार के विज्ञान विशेषज्ञों द्वारा एक इतालवी लॉक-डाउन शैली के दृष्टिकोण की सिफारिश की गई थी. आज की घोषणा के साथ, फ्रांस कोरोनोवायरस-तबाह इटली के नक्शेकदम पर चलने वाला नवीनतम देश बन गया है, जो अब कुल लॉक-डाउन में अपने दूसरे सप्ताह में प्रवेश कर रहा है.

Next Story

विविध

Share it