Top
राजनीति

CAA होर्डिंग्स के जवाब में सपा ने लगाए सेंगर-चिन्मयानंद के पोस्टर, मचा हड़कंप

Raghib Asim
13 March 2020 5:19 AM GMT
CAA होर्डिंग्स के जवाब में सपा ने लगाए सेंगर-चिन्मयानंद के पोस्टर, मचा हड़कंप
x

समाजवादी पार्टी के आईपी सिंह ने लखनऊ के लोहिया चौराहे पर सीएए वसूली पोस्टर के बगल में पूर्व भाजपा नेताओं कुलदीप सिंह सेंगर और चिन्मयानंद के पोस्टर लगवाए हैं...

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के राजधानी में राज्य सरकार और समाजवादी पार्टी में पोस्टवार शुरू हो गई है। राज्य सरकार ने सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के होर्डिंग्स लगाए थे और इसके जवाब में समाजवादी पार्टी ने बलात्कार के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद और उन्नाव के बलात्कार के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर जो पूर्व भाजपा नेता थे उनके पोस्टर लखनऊ में लगाए है।

खनऊ में 53 सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के होर्डिंग्स के बगल में एक पोस्टर लगाकर सपा नेता आईपी सिंह ने एक फोटो ट्वीट की है। इस ट्वीट में आईपी सिंह ने कहा है कि जब प्रदर्शनकारियों की कोई गोपनीयता नहीं है और हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद भी योगी सरकार होर्डिंग्स को नहीं हटा रही है। इसलिए मैंने नामांकित अपराधियों के कुछ होर्डिंग्स लगाने का भी फैसला किया है, हमारी बेटियों को उनके बारे में पता होना चाहिए।

क अन्य ट्वीट में सिंह ने लिखा है कि मेरे पोस्टर का विरोध वही करेगा जो महिला विरोधी और बलात्कारियों का समर्थन कर रहा है। सरकार हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का अपमान कर संविधान विरोधी कार्य करेगी तो फिर उसके पहले बीजेपी को अपने गिरेबान में भी झांक कर देख लेना चाहिए। भाजपा महिला विरोधी है।

मामला लखनऊ जिला प्रशासन के संज्ञान में आने के तुरंत बाद होर्डिंग्स को हटा दिया गया और टकराव से बचने के लिए सतर्कता बढ़ा दी गई है। होर्डिंग्स ने चिन्मयानंद और सेंगर की फोटो के साथ-साथ उनके आपराधिक मामलों का विवरण दिया गया है। होर्डिंग्स में संदेश लिखा गया है कि 'बेटियां रहे सावधान, सुरक्षित रहे हिन्दुस्तान'

संबंधित खबर: अंधविश्वास: करंट की चपेट में आया युवक, इलाज की बजाय गोबर में दबाने से हुई मौत

यह है मामला

गौरतलब है कि यूपी सरकार ने लखनऊ में सड़कों पर सीएए विरोध प्रदर्शनों के दौरान तोड़फोड़ करने के आरोपियों के पोस्टर लगाए थे। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने नौ मार्च को उत्तर प्रदेश सरकार को उन पोस्टरों को हटाने का आदेश दिया था, जिसे उत्तर प्रदेश सरकार ने उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है।

Next Story

विविध

Share it