Top
राष्ट्रीय

भारत ने मरीजों के साथ धार्मिक भेदभाव का किया खंडन, कहा मुस्लिमों के बेड अलग नहीं

Janjwar Team
16 April 2020 11:08 AM GMT
भारत ने मरीजों के साथ धार्मिक भेदभाव का किया खंडन, कहा मुस्लिमों के बेड अलग नहीं
x

युनाइटेड स्टेट्स कमीशन ऑन इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम हाल ही में टिप्पणी की थी कि भारत में भारत में कोविड-19 संक्रमण को लेकर मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है...

नई दिल्ली, जनज्वार। भारत ने कोरोनावायरस महामारी की रोकथाम के लिए मेडिकल प्रोफेशनल्स द्वारा फॉलो किए जा रहे प्रोटोकॉल को लेकर अमेरिका के युनाइटेड स्टेट्स कमीशन ऑन इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम (यूएससीआईआरएफ) द्वारा गलत जानकारी फैलाए जाने की निंदा की।

युनाइटेड स्टेट्स कमीशन ऑन इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम एक स्वतंत्र अमेरिकी फेडरल गवर्नमेंट इकाई है, जिसकी स्थापना कांग्रेस (अमेरिकी संसद) ने दुनिया में धार्मिक स्वतंत्रता पर निगरानी और रिपोर्ट करने के लिए की गई है।

यह भी पढ़ें- कोरोना संकट का सबसे बड़ा सबक, सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की मजबूती ही एकमात्र विकल्प

इकाई ने इस हफ्ते की शुरुआत में द गार्जियन की एक खबर साझा की थी, जिसमें कहा गया था कि भारत में कोविड-19 संक्रमण को लेकर मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है। इसमें मुस्लिमों को अस्पताल में अलग रखने का भी आरोप लगाया गया था।

कमीशन ने ट्विटर पर कहा कि वह अक्सर राजनेताओं द्वारा खतरनाक बयानबाजी के साथ कोरोनावायरस के प्रसार पर झूठी अफवाहों के कारण भारत में मुसलमानों पर हो रहे निरंतर हमलों की निंदा करता है। इसके चलते आगे भेदभाव और हिंसा बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें- लॉकडाउन ने की हवा और पानी साफ! क्या देश अब समझ पाएगा स्वस्छ पर्यावरण की कीमत

कमीशन की निंदा के बारे में मीडिया के एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बुधवार को इस बात से इनकार किया कि कोविड-19 संक्रमण के रोगियों के इलाज में कोई धार्मिक भेदभाव किया जा रहा है।

उन्होंने कहा, "जैसा कि गुजरात सरकार ने स्पष्ट किया है, धर्म के आधार पर नागरिक अस्पतालों में कोई अलगाव नहीं किया जा रहा है।"

अमेरिका के सरकारी निकाय पर निशाना साधते हुए श्रीवास्तव ने कहा, "भारत में धार्मिक स्वतंत्रता पर इसकी (यूएससीआईआरएफ) आलोचनात्मक टिप्पणी पर्याप्त नहीं थी, जो अब यह भारत में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते प्रसार से निपटने के लिए मेडिकल प्रोफेशनल्स द्वारा फॉलो किए जा रहे प्रोटोकॉल पर भ्रामक रिपोर्ट फैला रहा है।"

सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि यूएससीआईआरएफ को चाहिए कि कोविड-19 महामारी से लड़ने के भारत के राष्ट्रीय लक्ष्य को वह धार्मिक रंग देना बंद करे।

Next Story

विविध

Share it