Top
शिक्षा

जेएनयू छात्र नेता शेहला रशीद ने गर्भवती होने की फर्जी ट्वीट का खुद किया खुलासा

Janjwar Team
22 March 2018 9:48 AM GMT
जेएनयू छात्र नेता शेहला रशीद ने गर्भवती होने की फर्जी ट्वीट का खुद किया खुलासा
x

सवाल यह है कि सत्ता में बने रहने के लिए मोदी के लोग कितनी नीचता पर उतरेंगे, शेहला के नाम पर भाजपा आईटी सेल ने बनाया असली सा दिखने वाला फर्जी ट्वीटर हैंडल

शेहला को कन्हैया कुमार द्वारा गर्भवती करने वाले फर्जी ट्वीट पर एबीपी न्यूज एंकर अभिसार शर्मा ने कहा, 'शेहला, नकली ट्वीटर अकाउंट बनाकर इस तरह का दुष्प्रचार करना दिखाता है कि गंदगी 'भक्तों' के है डीएनए में

जनज्वार, दिल्ली। जेएनयू छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद के नाम से सोशल मीडिया पर उनके द्वारा रिट्वीट किया गया एक ट्वीट वायरल हो रहा है। उसमें शेहला ने लिखा है, 'कन्हैया ने मुझे प्रैग्नेंट कर दिया है। हॉस्टल में मैं एबॉर्शन कैसे करवाउं। मुस्लिम भाइयों से अनुरोध है कि गर्भपात के लिए मुझे घरेलू उपाय सुझाएं। #तैमूरपार्ट2'

जेएनयू में यौन उत्पीड़न के आरोपी प्रोफेसर अतुल जौहरी की गिरफ्तारी

शेहला का कहना है कि उनके नाम का फर्जी एकाउंट बनाकर उससे यह ट्वीट किया गया है, जिससे कि मुझे बदनाम किया जा सके। फासिस्ट भाजपा ने यह चाल मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के साथ मिलकर चली है, उन्हीं लोगों की आईटी सेल ने मेरा नकली ट्वीटर हैंडल बनाया है।

जेएनयू में बिरयानी बनाने और खाने पर लगा 10 हजार का जुर्माना

शेहला रशीद ने ट्वीट किया है, 'देखिए फासिस्ट पार्टी बीजेपी का विरोध करने के लिए क्या कीमत चुकानी पड़ती है। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (आरएसएस की मुस्लिम विंग) के साथ साझेदारी कर भाजपा आईटी सेल द्वारा मेरे नाम से नकली ट्वीटर एकाउंट बनाकर गंदगी फैलाने और मुझे दुष्प्रचारित करने का काम किया जा रहा है। ऐसे घटिया ट्रोल और इस तरह गंदगी प्रचारित करने की फासिस्ट पार्टी की चालों से सावधान होने की जरूरत है।'

भाजपा के लिए चेतावनी है छात्रसंघ चुनावों के नतीजे

गौर करने वाली बात यह है कि जिस ट्वीटर हैंडल से यह ट्वीट किया गया है, उस पर नीले रंग का राइट का साइन भी बना है, जो फेक आईडी में नहीं दिखाता। मगर सवाल यह है कि आखिर इसमें ट्वीटर ने नीले रंग का राइट का साइन कैसे दिखाया है, जब यह शेहला का ट्वीटर हैंडल है ही नहीं तो, इससे सोशल मीडिया की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

नजीब के गायब होने के एक साल पूरे, जानिए अबतक कितनी मिली सफलता

इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करने हुए वरिष्ठ पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी ने लिखा है, शेहला यह कृत्य निश्चित ही बहुत घृणित है, मगर मुझे इससे बिल्कुल भी आश्चर्य नहीं हुआ है, क्योंकि यही इन लोगों की असली गंदगी है।

कैंपस में आरएसएस और सिंह द्वार पर लड़कियां

वरिष्ठ पत्रकार अभिसार शर्मा ने कहा है, शेहला रशीद के नाम से इस तरह का नकली ट्वीटर हैंडल बनाकर ऐसी टिप्पणी करना वाकई चौंकाता है। शेहला तुमने भक्तों को इतना परेशान कर दिया है कि वे यही कर सकते हैं। नकली ट्वीटर अकाउंट बनाकर इस तरह का दुष्प्रचार करना दिखाता है कि गंदगी 'भक्तों' के डीएनए में है। (हमें पता है यह किसी का पसंदीदा शब्द है।) यही ऐसी चीज है, जिसे वो बखूबी जानते हैं।

Next Story

विविध

Share it