राजनीति

कोरोना संक्रमण का गढ़ बना पंजाब का नवांशहर जिला, 11 गांव किए गए सील

Janjwar Team
26 March 2020 12:29 PM GMT
कोरोना संक्रमण का गढ़ बना पंजाब का नवांशहर जिला, 11 गांव किए गए सील
x

सभी सरपंचों / नंबरदारों को अपने-अपने गाँव के सभी निवासियों के बारे में जानकारी देने के लिए कहा है। जिन्होंने 1 मार्च के बाद विदेश यात्रा की होगी या जिन्हें विदेश से रिश्तेदार मिले होंगे...

जनज्वार। पंजाब में नवाांश्हर कोरोना वायरस संक्रमण का केंद्र बनता जा रहा है। राज्य में कोरोना पॉजिटिव 33 केस सामने आये। इसमें 20 नवांशहर के हैं। इसी जिले के पत्थलवा गाँव की सरपंच की मां भी कोरोना पॉजिटिव मिली है। पंजाब में कोरोना संक्रमित पहली मौत नवांशहर के पठलावा गांव में हुई थी। यहां जर्मनी से लौटे एक 70 साल के बुजुर्ग की मौत हुई थी। इसके तुरंत बाद स्वास्थ्य विभाग ने पठलावा और उसके आसपास के 11 गांवों को सील कर दिया था। लेकिन तब तक कोरोना संक्रमण फैल चुका था।

गुरुवार को पठलावा गांव में ही 62 साल की महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इस महिला से पहले इसके बेटे को भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। बेटा भी बुजुर्ग के संपर्क में आया था। नवाशंहर में सक्रमित मिले कुल लोगों में से 10 बुजुर्ग के रिश्तेदार हैं। जबकि बाकी लोग भी उसी के संपर्क में कभी न कभी आए थे।

संबंधित खबर : लॉकडाउन के बीच पंजाब में स्विगी और जोमैटो के जरिए घर-घर बहाल हो रही जरूरी सामान की आपूर्ति

संक्रमित लोगों की इस लिस्ट में फिल्लौर के तीन लोगों का भी नाम है। इसमें एक लैब टैक्नीशियन और उसके बेटे के अलावा एक अन्य व्यक्ति है। यह तीनों भी नवांशहर के बुजुर्ग के संपर्क में आए थे। यहां संक्रमण से निपटने के लिए अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी पूरी तरह से कफ्र्यू का पालन सख्ती से किया जा रहा है।

ओर सरकार ने कोरोना वायरस पर विदेशी लोगों की पहचान के लिए भी काम करना शुरू कर दिया है। सभी सरपंचों / नंबरदारों को अपने-अपने गाँव के सभी निवासियों के बारे में जानकारी देने के लिए कहा है। जिन्होंने 1 मार्च के बाद विदेश यात्रा की होगी या जिन्हें विदेश से रिश्तेदार मिले होंगे।

नंदपुर साहिब में होला मोहल्ला का दौरा करने वालों की संख्या का भी पता लगाने के निर्देश दिए गए हैं। सीएम अमरेंदर सिंह ने बताया कि 90 हजार प्रवासी लोग पंजाब में आये हैं। इसमें से तीस हजार को चिकित्सकों की देखरेख में रखा गया है।

धर पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बताया कि प्रदेश को हर रोज 1,700 करोड़ रुपये का जीडीपी में नुकसान हो रहा है।उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार के कर्मचारियों को, हालांकि, कम से कम अब उनके वेतन के बारे में परेशान होने की जरूरत नहीं है। हमारे पास मजबूत फाइनेंस सिस्टम है। जिससे हम हालात का मुकाबला करने में सक्षम है।

खबर : बिहार में कोरोना वायरस के 6 मामले पॉजिटिव-एक की मौत, मरीजों की जांच रिपोर्ट में हो रही देरी

न्होंने कहा कि निश्चित ही इस वक्त यह सबसे चैलेंज दौर है। लेकिन हमें उम्मीद है हम इसे पार कर लेंगे। उन्होंने लोेगों से अपील की कि इस मौके पर वह संयम से काम लें। घबराने की जगह उन्हें सावधानी बरतनी चाहिए।

पंजाब में पूरी तरह से कर्फ्यू लगा दिया गया है। यहां तक की गांवों में भी लोगों की आवाजाही को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। पंजाब की कोशिश है कि किसी भी तरह से कोरोना वायरस के चक्र को तोड़ा जाए।

Next Story

विविध

Share it