Top
बिहार

तेजस्वी के सवाल पर नीतीश का पलटवार, सभी राज्य वापस बुलाने लगें अपने लोगों को तो लॉकडाउन का उड़ जाएगा मजाक

Nirmal kant
19 April 2020 1:30 AM GMT
तेजस्वी के सवाल पर नीतीश का पलटवार, सभी राज्य वापस बुलाने लगें अपने लोगों को तो लॉकडाउन का उड़ जाएगा मजाक
x

​बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर कोरोना वायरस से प्रभावित जिलों में तेजी से अभियान चल रहा है। पल्स पोलियो अभियान की तरह ही एक-एक परिवार को इसमें कवर करना है....

जनज्वार ब्यूरो। राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों सहित अन्य राज्यों में फंसे लोगों को बिहार वापस बुलाने की मांग को लेकर गरम हुई सियासत के बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि सभी राज्य बाहर फंसे लोगों को वापस लाने लगे तो लॉकडाउन का मजाक उड़ जाएगा। उन्होंने कहा कि हम लोगों का तो कमिटमेंट पूरे तौर पर है। सोशल डिस्टेंसिंग ही हम सबको बचा सकता है।

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना संक्रमण से उत्पन्न स्थिति से बचाव के लिए किए जा रहे कार्यो की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा, 'कोरोना वायरस से बचाव को लेकर बाहर से आए लोगों की नियमित जांच जरूर करें। कोरोना प्रभावित 4 जिलों में हर परिवार की जांच कराएं।'

संबंधित खबर : कोरोना लॉकडाउन से मुश्किल में बिहार के पशुपालक, नहीं कर पा रहे चारे का इंतजाम

न्होंने कहा कि पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर कोरोना वायरस से प्रभावित जिलों में तेजी से अभियान चल रहा है। पल्स पोलियो अभियान की तरह ही एक-एक परिवार को इसमें कवर करना है।

ने कोटा में फंसे छात्रों के मामले में कहा, 'कुछ लोग नहीं माने और अपने आप वहां से आ गए, उन्हें बॉर्डर पर नहीं रखा गया, बल्कि उनकी जांच कर उनके घर भिजवाने की व्यवस्था की गई।'

न्होंने विपक्षी दलों की मांग पर कटाक्ष करते हुए कहा, 'अब कोई कहे कि कोटा में जो लोग हैं, उनको फिर बुलवा लिया जाए। उनकी मांग पर देश के कोने-कोने में भी जो लोग फंसे हुए हैं, अगर सभी राज्य उन्हें वापस बुलाने लगे तो लॉकडाउन का मजाक उड़ जाएगा। हम लोगों का तो कमिटमेंट पूरे तौर पर है। सोशल डिस्टेंसिंग ही हम सबको बचा सकता है।'

ल्लेखनीय है कि राजद के नेता तेजस्वी यादव ने उत्तर प्रदेश द्वारा सरकार के कोटा में फंसे छात्रों को वापस बुलाने के फैसले का स्वागत किया था।

ने शनिवार 18 अप्रैल को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी एक पत्र लिखा था जिसमें कहा, 'गुजरात, उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्य सरकारें जहां अपने राज्यवासियों के लिए चिंतित दिखी और राज्य के बाहर फंसे हुए लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने का इंतजाम किया, वहीं बिहार सरकार ने अपने बाहर फंसे राज्यवासियों को बीच मंझधार में बेसहारा छोड़ दिया है।'

संबंधित खबर : बिहार के मोतिहारी, औरंगाबाद में पुलिसकर्मियों और स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला

द (यू) के पूर्व उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर लिखा, 'देशभर में बिहार के लोग फंसे पड़े हैं और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी लॉकडाउन की मर्यादा का पाठ पढ़ा रहे हैं। स्थानीय सरकारें कुछ कर भी रही हैं, लेकिन नीतीश जी ने सम्बंधित राज्यों से अब तक कोई बात भी नहीं की है। प्रधानमंत्री के साथ मीटिंग में भी उन्होंने इसकी चर्चा तक नहीं की।'

Next Story

विविध

Share it