राजनीति

CAA प्रदर्शनों में हुई मौतों पर योगी का विवादित बयान, कहा- कोई मरने ही आ रहा है तो ज़िंदा कैसे हो जाएगा

Ragib Asim
20 Feb 2020 8:58 AM GMT
CAA प्रदर्शनों में हुई मौतों पर योगी का विवादित बयान, कहा- कोई मरने ही आ रहा है तो ज़िंदा कैसे हो जाएगा
x

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बयान विधानसभा में विपक्ष के उन आरोपों के जवाब में दिया, जिनमें कहा गया था कि सीएए विरोधी हिंसा में मारे गए सभी लोग पुलिस की गोली से ही मारे गए हैं। आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि जो मरे हैं, वे उपद्रवियों की गोली से ही मरे हैं...

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को दावा किया कि संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ गत 19 दिसंबर को राज्य के विभिन्न जिलों में हुई हिंसा के दौरान एक भी व्यक्ति पुलिस की गोली लगने से नहीं मरा। योगी ने विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा, ‘सीएए के खिलाफ उपद्रव के दौरान पुलिस की गोली से कोई नहीं मरा. जो मरे हैं, वे उपद्रवियों की गोली से ही मरे हैं।’

संबंधित खबर : उत्तर प्रदेश : BJP विधायक रविंद्रनाथ त्रिपाठी समेत सात ने किया महिला से गैंगरेप, FIR दर्ज

न्होंने कहा, ‘अगर कोई व्यक्ति किसी निर्दोष को मारने के लिए निकला है और वह पुलिस की चपेट में आता है, तो या तो पुलिसकर्मी मरे, या फिर वह मरे… किसी एक को तो मरना होगा, लेकिन एक भी मामले में पुलिस की गोली से कोई नहीं मरा है।’ मुख्यमंत्री ने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के मामले में पुलिस कार्रवाई की तारीफ करते हुए कहा ‘अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वह जिंदा कैसे हो जाएगा।’

का यह बयान विपक्ष के उन आरोपों के परिप्रेक्ष्य में महत्वपूर्ण है, जिनके मुताबिक सीएए विरोधी हिंसा में मरे सभी लोग पुलिस की गोली से ही मारे गए हैं और यही वजह है कि पुलिस मृतकों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट उनके परिजनों को नहीं दे रही है। आपको बता दें कि पिछले साल दिसंबर में प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में सीएए के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन में कम से कम 21 लोगों की मौत हुई थी।

संबंधित खबर : पाकिस्तान में 2 किलोमीटर के भीतर सिर्फ एक साल में हुए 12 दुष्कर्म, फांसी की सजा से नहीं घटी वारदातें

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 19 फरवरी को विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर जवाब देते हुए अपने संबोधन में विपक्ष पर निशाना साधा और सख्त लहजे में कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसा फैलाने वाले उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर कोई शांतिपूर्वक प्रदर्शन करता है तो वह कर सकता है लेकिन उपद्रव करने पर कठोर कार्रवाई होगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में ने कल सदन में कहा कि दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में हुई हिंसा के बाद अलीगढ़ प्रशासन को मैंने सचेत किया। मेरे पास प्रशासन की ओर मिली जानकारी थी, जिसमें बताया गया था कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के करीब 15 हजार छात्र सड़कों पर उतरकर पूरा अलीगढ़ जला देना चाहते थे लेकिन पुलिस की सक्रियता से वो कामयाब नहीं हो सके। इसको लेकर योगी ने युपी पुलिस की तारीफ की।

Next Story

विविध

Share it