कश्मीर

कश्मीर भुगत रहा लॉकडाउन के भीतर एक और लॉकडाउन : चिदंबरम

Nirmal kant
20 May 2020 3:30 AM GMT
कश्मीर भुगत रहा लॉकडाउन के भीतर एक और लॉकडाउन : चिदंबरम
x

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम ने कहा कि अब कम से कम शेष भारत के लोग कश्मीर में हिरासत में लिए गए लोगों के साथ हुए अन्याय को समझेंगे, जिन्हें 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 के निरस्त होते ही फौरन हिरासत में ले लिया गया था और अभी भी वे हिरासत में हैं...

जनज्वार। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा है कि कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए देश में सोमवार से लगे चौथे चरण के लॉकडाउन के बीच उनकी चिंता कश्मीर के उन लोगों के प्रति है, जो 'भयावह लॉकडाउन के भीतर एक लॉकडाउन में हैं।'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि अब कम से कम शेष भारत के लोग कश्मीर में हिरासत में लिए गए लोगों के साथ हुए अन्याय को समझेंगे, जिन्हें 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 के निरस्त होते ही फौरन हिरासत में ले लिया गया था और अभी भी वे हिरासत में हैं।

संबंधित खबर : कश्मीरी पुलित्जर पुरस्कार विजेता पत्रकारों को राहुल गांधी ने दी बधाई तो संबित पात्रा भड़के

चिदंबरम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री हिरासत में लिए जाने की सबसे बड़ी पीड़ित हैं।

न्होंने कहा, 'सबसे ज्यादा पीड़ित महबूबा मुफ्ती और उनकी पार्टी के वरिष्ठ सहयोगी हैं, जो लॉकडाउन देश के लॉकडाउन राज्य में अभी भी हिरासत में हैं। उन्हें हर मानव अधिकार से वंचित रखा गया है।'

के अलावा दो अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और उनके पिता फारूक अब्दुल्ला को पीएसए के तहत हिरासत में लिया गया था, लेकिन बाद में दोनों को रिहा कर दिया गया।

Next Story

विविध